अंगूर की खेती

अंगूर की खेती

परिचय

नई दिल्ली स्थित भारतीय कृषि अनूसंधान संस्थान के ‘फल एवं बागबानी’विभाग ने अंगूर की एक नई किस्म तैयार की है, जिसे ‘पूसा अदिति’ नाम दिया गया है। इस किस्म का विकास कृषि वैज्ञानिकों ने उत्तर भारत के सूबों के हालात को ध्यान में रख कर किया है। इस किस्म की खासियतों का जिक्र नीचे किया गया है।

किशमिश स्वस्थ के लिए ज़रूरी

किशमिश स्वस्थ के लिए ज़रूरी

पौष्टिकता

किशमिशों के वज़न का ६७% से ७२% शक्कर होता है, जो अधिकतर ग्लूकोस और फ़्रूक्टोस के रूप में होता है।इनका ३% भाग प्रोटीन और ३.५% भाग पाचन में मददगार फ़ाइबर (रेशा) होता है।ख़ुबानियों और आलू बुख़ारों की तरह इनमें लाभदायक प्रति आक्सीकारक (ऐंटी- ऑक्सिडॅन्ट​) की बहुत मात्रा होती है लेकिन ताज़े अंगूरों की तुलना में विटामिन सी कम होता है। इनमें सोडियम कम होता है और कोलेस्टेरॉल बिलकुल नहीं होता। अनुसन्धान में कुछ संकेत मिलें हैं कि अधिक रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) वाले मरीज़ों द्वारा किशमिशों का सेवन करने से उनके रक्तचाप पर कुछ लाभदायक असर होता है, हालांकि इसपर अभी अधिक अध्ययन की ज़रुरत है।

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894