अनुलोम विलोम प्राणायाम के लाभ

  • हमारे शरीर की ७२,७२,१०,२१० सुक्ष्मादी सुक्ष्म नाडी शुद्ध हो जाती है।
  • हार्ट की ब्लाँकेज खुल जाते है।
  • हाय, लो दोन्हो रक्त चाप ठिक हो जायेंगे|
  • आर्थराटीस, रोमेटोर आर्थराटीस, कार्टीलेज घीसना ऐसी बीमारीओंको ठीक हो जाती है।
  • टेढे लीगामेंटस सीधे हो जायेंगे|
  • व्हेरीकोज व्हेनस ठीक हो जाती है।
  • कोलेस्टाँल, टाँक्सीनस, आँस्कीडण्टस इसके जैसे विजतीय पदार्थ शरीर के बहार नीकल जाते है।
  • सायकीक पेंशनट्स को फायदा होता है।
  • कीडनी नँचरली स्वछ होती है, डायलेसीस करने की जरुरत नहीं पडती|
  • सबसे बड़ा खतरनाक कँन्सर तक ठीक हो जाता है।
  • सभी प्रकारकी अँलार्जीयाँ मीट जाती है।
  • मेमरी बढाने की लीये|
  • सर्दी, खाँसी, नाक, गला ठीक हो जाता है।
  • ब्रेन ट्युमर भी ठीक हो जाता है।
  • सभी प्रकार के चर्म समस्या मीट जाती है।
  • मस्तिषक के सम्बधित सभि व्याधिओको मीटा ने के लिये।
  • पर्किनसन, प्यारालेसिस, लुलापन इत्यादी स्नयुओ के सम्बधित सभि व्याधिओको मीटा ने के लिये।
  • सायनस की व्याधि मीट जाती है।
  • डायबीटीस पुरी तरह मीट जाती है।
  • टाँन्सीलस की व्याधि मीट जाती है।
  • थण्डी और गरम हवा के उपयोग से हमारे शरीर का तापमान संतुलित रेहता है।
  • इससे हमारी रोग-प्रतिकारक शक्ती बढ जाती है।

दमा का रोग जड़ से चला जाता है ा

 

    प्राणायाम से मिलने वाले समस्त सामान्य लाभ

    प्राणायाम से मिलने वाले समस्त सामान्य लाभ
    1. भस्त्रिका प्राणायाम: ष्श्वास को यथाषक्ति फेफड़ो में पूरा भरना एवं बाहर छोड़ना। यह प्राणायाम एक से पाँच मिनट तक किया जा सकता है। लाभ: सर्दी, जुकाम, श्वास रोग, नजला, साइनस, कमजोरी, सिरदर्द व स्नायु रोग दूर होते है। फेफड़े एवं हृदय स्वस्थ होता है।
    1. कपालभाति प्राणायाम: ष्श्वास को यथाषक्ति बाहर छोड़कर पूरा ध्यान श्वास को बाहर छोड़ने में होना चाहिए। भीतर श्वास जितना अपने आप जाता है उतना जाने देना चाहिए। श्वास जब बाहर छोड़ंेगे तो स्वाभाविक रूप से पेट अन्दर आयेगा। यह प्राणायाम यथाशक्ति पाँच मिनट तक प्रतिदिन खाली पेट करना चाहिए।
    Read More : प्राणायाम से मिलने वाले समस्त सामान्य लाभ about प्राणायाम से मिलने वाले समस्त सामान्य लाभ>