क्लोरो फ्लोरो कार्बन (सीएफसी)

क्लोरो फ्लोरो कार्बन क्या है? क्लोरोफ्लोरोकार्बन (सीएफसी) nontoxic, न जालनेवाला कार्बन, क्लोरीन, और फ्लोरीन के परमाणुओं से युक्त रसायन होते हैं। वे एयरोसोल स्प्रे के निर्माण में इस्तेमाल किए जाते हैं , फोम और पैकिंग सामग्री के लिए एजेंट के रूप में उड़ाने सॉल्वैंट्स, और refrigerants के रूप में।

क्लोरोफ्लोरोकार्बन (सीएफसी) एक कार्बनिक यौगिक है जो केवल कार्बन, क्लोरीन, हाइड्रोजन और फ्लोरीन परमाणुओं से बनता है। सीएफसी का इस्तेमाल रेफ्रिजरेंट, प्रणोदक (एयरोसोल अनुप्रयोगों में) और विलायक के तौर पर व्यापक रूप से होता है।ओजोन निःशेषण में इसका योगदान देखते हुए, सीएफसी जैसे यौगिकों का निर्माण मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के तहत चरणबद्ध तरीके से बंद कर दिया गया है।

 

ओज़ोन परत का छेद 40 लाख वर्ग किलोमीटर हुआ छोटा हुआ

ओज़ोन परत का छेद 40 लाख वर्ग किलोमीटर हुआ छोटा हुआ

अमेरिका के मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के वैज्ञानिकों के अनुसार, साल 2000 से अब तक ओज़ोन परत का छेद 40 लाख वर्ग किलोमीटर छोटा हुआ है। वैज्ञानिकों ने यह भी कहा कि साल 1987 में मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के तहत, अधिकतर देशों द्वारा क्लोरो फ्लोरो कार्बन (सीएफसी) गैसों पर प्रतिबंध लगाने के बाद ओज़ोन परत सेहतमंद हुई है।