नील हरित शैवाल खाद बनाने के विधि

नील हरित शैवाल खाद के प्रयोग से लगभग 30 किलो. नाइट्रोजन प्रति हेक्टेयर की प्राप्ति होती है, जो लगभग 65 किग्रा. यूरिया के बराबर है। हरित शैवाल खाद को किसान कम खर्च में अपने घरों के आस-पास बेकार पड़ी भूमि में बना सकते हैं।  इसके लिए सबसे पहले ऐसे स्थान का चुनाव करना चाहिए जहां सूर्य का प्रकाश और शुद्ध हवा प्रर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो। इसे बनाने के लिए गैल्बानाइजड लोहे की शीट से दो मीटर लम्बा, एक मीटर चौड़ा और 15 सेमी ऊंचा एक ट्रे बना लें। इस प्रकार का ट्रे ईंट और सीमेंट से बना सकते हैं या फिर इसी आकार का गड्ढा खोद कर उसमें नीचे पालीथीन शीट बिछा कर पानी डालकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस ट्रे में सबसे पहले 10 किलो. दोमट मिट्टी में 200 ग्राम सुपरफास्फेट खाद और ग्राम चूना भी मिलाए। इस ट्रे में इतना पानी भरें कि पांच-दस सेमी. की ऊंचाई तक हो जाए। उसे कुछ घंटों के लिए छोड़ दें जिससे मिट्टी अच्छी तरह बैठ जाए। इसके बाद पानी की सतह पर एक मुट्‌ठी नील हरित शैवाल का प्रारम्भिक कल्चर छिड़क दें। सात-आठ दिनों के बाद गहरे हरे रंग की काई की परत दिखाई पड़ने लगती है। अब पानी को सूखने के लिए छोड़ दें और जब पानी सूख जाए तो काई या शैवाल को आधा सेमी. की गहराई तक खुरच कर किसी थैले में भर ले।  एक बार भरे ट्रे से लगभग 1.5 से दो किलो. शैवाल खाद की प्राप्ति होगी।

Vote: 
No votes yet