मिट्टी का पीएच और पोषक तत्वों की उपलब्धता

मिट्टी का पीएच और पोषक तत्वों की उपलब्धता

pH क्या होता है ?

अगर मिट्टी का pH 0-7 होता है तो मिट्टी को acidic मिट्टी मे कहा जाता है और अगर मिट्टी का pH 7 से लेकर 14 हो तो उसे besic मिट्टी कहा जाता है। उच्च वर्षा वाले क्षेत्रों में आम तौर पर अम्लीय (acidic) मिट्टी होती है, जबकि सीमित वर्षा वाले क्षेत्रों में आम तौर पर क्षारीय (alkaline) भूमि होती है। सेब के पेड़ 6.5 के पीएच वाली, थोड़ी अम्लीय मिट्टी पसंद करते हैं, इसलिए मिट्टी का पीएच 6.5 समायोजित करना आवश्यक होता है।

हम कैसे मिट्टी का पीएच माप सकते हैं?

मिट्टी का pH, पीएच मीटर की मदद से निर्धारित किया जा सकता है। परीक्षण के लिए मिट्टी के नमूने की आवश्यकता होती है । मिट्टी का नमूना 2 से 3 इंच गहरी खुदाई कर के लिया जा सकता है।

मिट्टी के नमूनों को डिस्टिल्ड पानी के साथ 1:2 के अनुपात मे मिलाया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए अगर मिट्टी के नमूने का भार 10 ग्राम है तो उसमे 50 मिलीलीटर डिस्टिल्ड पानी मिलाएँ, 2 से 3 मिनट के लिए घोल को मिलाएँ और मिट्टी को नीचे बैठने दे उसके बाद पीयेच मीटर के टेसटर को पानी मे लगभग १ मिनिट तक रहने दे नतीजो को लिख लें..अगर नतीजे ७ से कम हो तो आपकी भूमि अम्लीय है अगर नतेजे ७ से ज़ादा है तो आपकी भूमि क्षारीय भूमि है।

pH असंतुलन का प्रभाव

“pH” का मतलब होता है पोटेन्षियल हाइड्रोजन pH स्तर में अतिवाद के प्रमुख प्रभाव, पोषक तत्वों की उपलब्धता में अंतर और खनिजों की उच्च सांद्रता मे उपस्थिति जो की पौधों के लिए हानिकारक होती है, शामिल हैं। बहुत क्षारीय मिट्टी में, तांबा और जस्ता जैसे कुछ सूक्ष्म पोषक तत्व पौधों के लिए रासायनिक तौर पर अनुपलब्ध हो जाते है , जबकि बहुत अम्लीय मिट्टी में, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे मैक्रो-पोषक तत्व अवशोषित नहीं हो पाते, दूसरी ओर बाकी मैक्रो-पोषक तत्व विषाक्त स्तर तक पहुँच जाते है।

मृदा pHऔर पोषक तत्वों की उपलब्धता

मिट्टी की उर्वरता प्रबंधन में मुख्य लक्ष्य पेड़ विकास और उसके समग्र विकास अथवा उच्च उपज के लिए ,पोषक तत्वों की पर्याप्त आपूर्ति को आश्वस्त करना होता है। अगर पोषक तत्व मिट्टी में उपलब्ध भी हों, तो भी यह ज़रूरी नहीं की वह संयंत्र के लिए उपलब्ध हों मिट्टी का पीएच पोषक तत्व के uptake होने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मिट्टी का पीएच 6 और 7 के बीच हो तो सभी पोषक तत्व पेड़ों के लिए उपलब्ध हो जाएँगे निमनलिखित तालिका मिट्टी पीएच और पोषक तत्वों की उपलब्धता के बीच संबंधों को दर्शाता है।

पोषक तत्वों की उपलब्धता

नाइट्रोजन 6.0-8.0

फास्फोरस 6.5-7.5

पोटेशियम 6.0-10

सल्फर 6.0-10

कैल्शियम 6.5-8.5

मैग्नीशियम 6.5-8.5

लौह 4.0-6.5

मैंगनीज 5.0-6.5

बोरान 5.0-7.0

कैसे मिट्टी pH को समायोजित करें?

(प्रकरण 1) अगर पीएच पीएच स्तर 6 से नीचे है तो मिट्टी बहुत अम्लीय है। चूना पत्थर पीएच उठाने के लिए मिट्टी मे लागू किया जाना चाहिए लाइम आमतौर पर पीएच बढ़ाने के लिए अम्लीय मिट्टी में जोड़ा जाता है। राख भी यह काम करती है उसमे भी चूने और अन्य पोषक तत्व होते हैं जो पीएच को ऊपर उठाने में मदद करते हैं। विभिन्न चूना सामग्री जो ईस्तमाल मे हैं-

कैल्शियम कार्बोनेट
कैल्शियम ऑक्साइड (त्वरित चूने)
कैल्शियम हीड्राकसीड (हाइड्रेटेड चूने)
कैल्शियम मैग्नीशियम कार्बोनेट (डोलोमाइट)

(प्रकरण 2) 7 (पीएच> 7) की तुलना में अधिक पीएच के साथ क्षारीय भूमि। पीएच स्तर तो अधिक से अधिक से अधिक 8 है तो मिट्टी भी बुनियादी है। तो पीएच सल्फर मिट्टी में जोड़ा जाता है कम करने के लिए। सामग्री पीएच कम करने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं-

आयरन सल्फेट
एल्यूमीनियम सल्फेट
अमोनियम सल्फेट
यूरिया (यह मिट्टी पीएच कम करने में एक छोटा सा प्रभाव पड़ता है।)

--------------------------------------------------------------- अल्पेश कुमार गुजरात ऑर्गनिक फ़र्टिलाइज़र

 

 

Vote: 
No votes yet