खेती

राजमा की खेती कैसे करें

राजमा की कीमत, राजमा का पौधा, बीन्स की खेती, फ्रेंच बीन की खेती, राजमा फसलों, राजमा क्या है, राजमा के नुकसान, लोबिया की खेती

राजमा की खेती रबी ऋतु में की जाती है। अभी इसके लिए उपयुक्त समय है। यह मैदानी क्षेत्रों में अधिक उगाया जाता है। राजमा की अच्छी पैदावार हेतु 10 से 27 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान की आवश्यकता पड़ती है। राजमा हल्की दोमट मिट्टी से लेकर भारी चिकनी मिट्टी तक में उगाया जा सकता है।

राजमा उन्नतशील प्रजातियां है

राजमा में प्रजातियां जैसे कि पीडीआर 14, इसे उदय भी कहते है। मालवीय 137, बीएल 63, अम्बर, आईआईपीआर 96-4, उत्कर्ष, आईआईपीआर 98-5, एचपीआर 35, बी, एल 63 एवं अरुण है।

खेत की तैयारी Read More : राजमा की खेती कैसे करें about राजमा की खेती कैसे करें

शलजम की खेती कैसे करें

शलजम की खेती के लिए आवश्यक भूमि व जलवायु 

शलजम की फसल को लगभग सभी प्रकार की भूमि में उगाया जा सकता है । लेकिन सफल-उत्पादन प्राप्त करने के लिए हल्की चिकनी दोमट या बलुई दोमट भूमि अति उत्तम सिद्ध हुई है । भूमि में जल-निकास ठीक होना चाहिए व भूमि उपजाऊ होनी चाहिए ।

शलजम शरद-ऋतु की फसल है । इसलिये ठण्डी जलवायु की आवश्यकता पड़ती है । यह अधिक ठन्ड व पाले को सहन कर लेती है । अच्छी वृद्धि के लिये ठन्ड व आर्द्रता वाली जलवायु सर्वोत्तम रहती है । पहाड़ी क्षेत्र में पैदावार अधिक मिलती है ।

शलजम की खेती के लिए खेत की तैयारी  Read More : शलजम की खेती कैसे करें about शलजम की खेती कैसे करें

खरबूजा की खेती करें और भी उन्नत तरीके से जानें इसको किस प्रकार करना चाहिए

खरबूजा की खेती करें और भी उन्नत तरीके से जानें इसको किस प्रकार करना चाहिए

नदियों के किनारे कछारी भूमि में खरबूजे की खेती की जाती है मैदानी क्षेत्रों में उचित जल निकास वाली रेतीली दोमट भूमि सर्वोतम मानी गई है पहली जुताई मिटटी पलटने वाले हल से करें इसके बाद 2-3 बार हैरो या कल्टीवेटर चलाएँ |

जलवायु का प्रयोग 

इसके लिए उच्च तापमान और शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है इसकी सफल खेती के लिए 44-22सेल्सियस तापमान सर्वोत्तम माना गया है खरबूजे की फसल को पाले से अधिक हानी होती है फल पकने के समय यदि भूमि में अधिक नमी रहेगी तो फलों की मिठास कम हो जाती है |

उन्नत किस्मे निम्न प्रकार  है  Read More : खरबूजा की खेती करें और भी उन्नत तरीके से जानें इसको किस प्रकार करना चाहिए about खरबूजा की खेती करें और भी उन्नत तरीके से जानें इसको किस प्रकार करना चाहिए

खीरे की आधुनिक खेती

खीरे की खेती

बाजार में खीरे की अधिक मांग बने रहने के कारण खीरे की खेती किसान भाइयो के लिए बहुत ही लाभदायक है।खीरे का उपयोग खाने के साथ सलाद के रूप मेंबढ़ता ही जा रहा है।जिससे बाजार में इसकी कीमते भी लगातार बढ़ रही है इसके साथ ही खीरे की खेती रेतली भूमि में अच्छी होती ऐसे में किसान भाइयो के पासजो ऐसी भूमि है जिसमे दूसरी फसलो का उत्पादन अच्छा नहीं होता है उसी भूमि में खीरे के खेती से अच्छा उत्पादन लिया जा सकता है।

खेत की तैयारी Read More : खीरे की आधुनिक खेती about खीरे की आधुनिक खेती

लौकी के खेत की तैयारी करें इस प्रकार

लौकी की खेती करने के उन्नत तरीके

वैसे तो लौकी की फसल हर प्रकार की भूमि में हो सकती है लेकिन उचित जल निकास युक्त प्रचुर जीवांश से युक्त दोमट मिट्टी इसकी खेती के लिए सबसे उत्तम है | इसके लिए भूमि का Ph उदासीन होना चाहिए, उदासीन का मतलब ना अम्लीय और ना ही छारीय होना चाहिए अर्थात 6.5 से 7.5 बीच में होना चाहिए | Read More : लौकी के खेत की तैयारी करें इस प्रकार about लौकी के खेत की तैयारी करें इस प्रकार

मूंगफली की खेती कब और कैसे

 मूंगफली की खेती कब और कैसे

 मूंगफली खरीफ और जायद दोनों मौसम की फसल है, मूंगफली की फसल हवा और बारिश से मिट्टी कटने से बचाती है। खरीफ की आपेक्षा जायद में कीट और बीमारियों का प्रकोप कम होता है। प्रदेश में यह झांसी, हरदोई, सीतापुर, खीरी, उन्नाव, बरेली, बदायूं, एटा, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, मुरादाबाद, और सहारनपुर के अधिक क्षेत्रफल में उगाई जाती हैI Read More : मूंगफली की खेती कब और कैसे about मूंगफली की खेती कब और कैसे

भिन्डी की खेती कैसे करें

 भिंडी के फल में आयोडीन की मात्रा अधिक होती है। भिंडी का फल कब्ज रोगी के लिए विशेष गुणकारी होता है। म. प्र. में लगभग 23500 हे. में इसकी खेती होती है। प्रदेश के सभी जिलों में इसकी खेती की जा सकती है।

अधिक उत्पादन तथा मौसम की भिंडी की उपज प्राप्त करने के लिए संकर भिंडी की किस्मों का विकास कृषि वैज्ञानिकों द्वारा किया गया हैं। ये किस्में यलो वेन मोजकै वाइरस रोग को सहन करने की अधिक क्षमता रखती हैं। इसलिए वैज्ञानिक विधि से खेती करने पर उच्च गुणवत्ता का उत्पादन कर सकते हैं।

भूमि व खेत की तैयारी Read More : भिन्डी की खेती कैसे करें about भिन्डी की खेती कैसे करें

मलेरिया के लक्षणऔर उपाय

प्लाज्मोडियम' नाम के पैरासाइट से होने वाली बीमारी है मलेरिया। यह मादा 'एनोफिलीज' मच्छर के काटने से होता है जो गंदे पानी में पनपते हैं। ये मच्छर आमतौर पर सूर्यास्त के बाद काटते हैं। मलेरिया के मच्छर रात में ही ज्यादा काटते हैं। कुछ केसेज में मलेरिया अंदर ही अंदर बढ़ता रहता है। ऐसे में बुखार ज्यादा ना होकर कमजोरी होने लगती है और एक स्टेज पर पेशंट को हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है, जिससे वह अनीमिक हो जाता है।
  Read More : मलेरिया के लक्षणऔर उपाय about मलेरिया के लक्षणऔर उपाय

राजमा की खेती कैसे करें और कब

राजमा की खेती कैसे करें और कब

समस्तीपुर। राजमा की खेती रबी ऋतु में की जाती है। अभी इसके लिए उपयुक्त समय है। यह मैदानी क्षेत्रों में अधिक उगाया जाता है। राजमा की अच्छी पैदावार हेतु 10 से 27 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान की आवश्यकता पड़ती है। राजमा हल्की दोमट मिट्टी से लेकर भारी चिकनी मिट्टी तक में उगाया जा सकता है।

राजमा उन्नतशील प्रजातियां है

राजमा में प्रजातियां जैसे कि पीडीआर 14, इसे उदय भी कहते है। मालवीय 137, बीएल 63, अम्बर, आईआईपीआर 96-4, उत्कर्ष, आईआईपीआर 98-5, एचपीआर 35, बी, एल 63 एवं अरुण है।

खेत की तैयारी Read More : राजमा की खेती कैसे करें और कब about राजमा की खेती कैसे करें और कब

सेब की खेती

शिमला: सेब की खेती के लिए एशिया का सबसे अमीर और पूरी दुनिया में मशहूर हिमाचल का ये गांव है। जानकारी के मुताबिक शिमला जिले के मड़ावग गांव को एशिया का सबसे अमीर गांव भी माना जाता है। यहां के सेबों को विदेशों में काफी पसंद किया जाता है। बता दें कि सेब की खेती ने इस गांव को डेवलप बना दिया है। Read More : सेब की खेती about सेब की खेती

Pages