गोमुखासन

विधि: दंडासन में बैठ कर बाएं पैर को मोड़ कर एड़ी को दाएं नितंब के पास रखे या एड़ी पर बैठ भी सकते हैं। दाएं पैर को मोड़ कर बाएं पैर के ऊपर इस प्रकार रखें कि दोनों घुटने एक-दूसरे से स्पर्श करते हों। दाएं हाथ को ऊपर उठा कर पीठ की ओर मोड़ें और बाएं हाथ को पीठ के पीछे से लेकर दाएं हाथ को पकड़ें। गर्दन और कमर सीधी रखें। एक ओर से करने के बाद दूसरी ओर से भी इसी तरह करें। योग की पाठशाला में आप १ या २ मिनट तक गौमुख आसान का अभ्यास कर सकते हैं। गर्दन दर्द, कमर दर्द वाले लोग इसे न करे।

नाभि का टलना दूर करता है सुप्तवज्रासन

सुप्त वज्रासन क्या है, सुप्त वज्रासन की परिभाषा, सुप्तवीरासन, अर्ध हलासन का महत्व, मत्स्यासन, सुप्त वज्रासन for diabetes, गोमुखासन, वज्रासन का अर्थ

सुप्त का अर्थ होता है सोया हुआ अर्थात वज्रासन की स्थिति में सोया हुआ। इस आसन में पीठ के बल लेटना पड़ता है, इसिलिए इस आसन को सुप्त-वज्रासन कहते है, जबकि वज्रासन बैठकर किया जाता है

विधिः 

१.      वज्रासन में बैठकर हाथों को पाश्व भाग में रखकर उनकी सहायता से शरीर को पीछे झुकाते हुए भूमि पर सर को टिका दीजिये। घुटने मिले हुए हों तथा भूमि पर ठीके हुए हों। 
२.      धीरे-धीरे  कंधो,ग्रीवा एवं पीठ को भूमि पर टिकाने का प्रयत्न कीजिये।  हाथों को जंघाओं पर सीधा रखे। 
३.      आसन को छोड़ते समय कोहनियों एवं हाथों का सहारा लेते हुये वज्रासन में बैठ जाइए।  Read More : नाभि का टलना दूर करता है सुप्तवज्रासन about नाभि का टलना दूर करता है सुप्तवज्रासन

शशकासन योग के फायदे

supta vajrasana, सुप्त वज्रासन क्या है, सुप्त वज्रासन की परिभाषा, सुप्तवीरासन, अर्ध हलासन का महत्व, मत्स्यासन, गोमुखासन, सुप्त वज्रासन for diabetes

शशक का का अर्थ होता है खरगोश। इस आसन को करते वक्त व्यक्ति की खरगोश जैसी आकृति बन जाती है इसीलिए इसे शशकासन कहते हैं। इस आसन को कई तरीके से किया जाता है यहां प्रस्तुत है सबसे सरल तरीका।

आसन विधि : सबसे पहले वज्रासन में बैठ जाएं और फिर अपने दोनों हाथों को श्वास भरते हुए ऊपर उठा लें। कंधों को कानों से सटा हुआ महसूस करें। फिर सामने की ओर झुकते हुए दोनों हाथों को आगे समानांतर फैलाते हुए, श्वास बाहर निकालते हुए हथेलियां को भूमि पर टिका दें। फिर माथा भी भूमि पर टिका दें। कुछ समय तक इसी स्थिति में रहकर पुनः वज्रासन की‍ स्थिति में आ जाइए। Read More : शशकासन योग के फायदे about शशकासन योग के फायदे

योगासन एवं आसन के मुख्य प्रकार

योगासन एवं आसनयोगासन एवं आसन पद्मासन, वज्रासन, सिद्धासन, मत्स्यासन, वक्रासन, अर्ध-मत्स्येन्द्रासन, पूर्ण मत्स्येन्द्रासन, गोमुखासन, पश्चिमोत्तनासन, ब्राह्म मुद्रा, उष्ट्रासन, योगमुद्रा, उत्थीत पद्म आसन, पाद प्रसारन आसन, द्विहस्त उत्थीत आसन, बकासन, कुर्म आसन, पाद ग्रीवा पश्चिमोत्तनासन, बध्दपद्मासन, सिंहासन, ध्रुवासन, जानुशिरासन, आकर्णधनुष्टंकारासन, बालासन, गोरक्षासन, पशुविश्रामासन, ब्रह्मचर्यासन, उल्लुक आसन, कुक्कुटासन, उत्तान कुक्कुटासन, चातक आसन, पर्वतासन, काक आसन, वातायनासन, पृष्ठ व्यायाम आसन-1, भैरवआसन,

चित्त को स्थिर रखने वाले तथा सुख देने वाले बैठने के प्रकार को आसन कहते हैं। आसन अनेक प्रकार के माने गए हैं। योग में यम और नियम के बाद आसन का तीसरा स्थान है

आसन का उद्‍येश्य : आसनों का मुख्य उद्देश्य शरीर के मल का नाश करना है। शरीर से मल या दूषित विकारों के नष्ट हो जाने से शरीर व मन में स्थिरता का अविर्भाव होता है। शांति और स्वास्थ्य लाभ मिलता है। अत: शरीर के स्वस्थ रहने पर मन और आत्मा में संतोष मिलता है।

Read More : योगासन एवं आसन के मुख्य प्रकार about योगासन एवं आसन के मुख्य प्रकार>
Tags: 

अंडकोष वृधि के लिए विशेष लाभदायक::गोमुखासन

अंडकोष वृधि के लिए विशेष लाभदायक::गोमुखासन गोमुखासन योग, गोमुखासन फायदे, गोमुखासन का वर्णन, गोमुखासन, गोमुखासन बाबा रामदेव, गोमुखासन मराठी माहिती, पद्मासन, गोमुखासन को गोमुखासन क्यों कहते हैं

गोमुखासन आसन में व्यक्ति की आकृति गाय के मुख के समान बन जाती है इसीलिए इसे गोमुखासन कहते हैं। यह आसन आध्‍यात्मिक रूप से अधिक महत्‍व रखता है तथा इस आसन का प्रयोग स्‍वाध्‍याय एवं भजन, स्‍मरण आदि में किया जाता है। यह आसन पीठ दर्द, वात रोग, कंधे के कडे़ंपन, अपच तथा आंतों की बीमारियों को दूर करता है।

यह अंडकोष से संबन्धित रोगों को दूर करता है। यह आसन उन महिलाओं को अवश्‍य करना चाहिये, जिनके स्‍तन किसी कारण से छोटे तथा अविकसित रह गए हों। यह आसन स्‍त्रियों की सौंदर्यता को बढ़ाता है और यह प्रदर रोग में भी लाभकारी है।

गोमुखासन की विधि- Read More : अंडकोष वृधि के लिए विशेष लाभदायक::गोमुखासन about अंडकोष वृधि के लिए विशेष लाभदायक::गोमुखासन

छोटे ब्रेस्‍ट है तो अभी से शुरू कर दें ये योगासन

यह भी पढ़ें  ब्रेस्ट कम करने के लिए क्या खाएं  ब्रेस्ट कम कैसे करे- एक्सर्साइज़ टिप्स  ब्रेस्ट साइज़ कैसे करे कम| घरेलू नुस्खे  ब्रेस्ट कम करने के उपाय  ब्रेस्ट का आकार कैसे कम करें माइक्रो लिपो से  छोटे ब्रेस्‍ट है तो अभी से शुरू कर दें ये योगासन  स्तनों का ढीलापन दूर करने के घरेलू नुस्खे  शल्य क्रिया से स्तनों का आकार घटाने का तरीका  स्तनों को छोटा करने के घरेलू उपाय  सोते समय ब्रा क्यों नहीं पहननी चाहिए

जिस तरह लड़कियों के बड़े स्‍तन उन्‍हें हीन भावना का शिकार बनाते हैं, ठीक उसी तरह से यदि किसी लड़की के स्‍तन छोटे रह जाएं तो उनके लिए भी यह एक बड़ी समस्‍या और शर्म का विषय बन जाती है। यही नहीं अगर वह खाने में अच्‍छी डाइट भी ले या फिर अपना वजन बढ़ा भी ले तो भी उसके स्‍तन छोटे साइज के ही रहते हैं। वैसे तो इन दिनों बाजार में स्‍तनों के आकार को बढ़ाने के लिए कॉस्‍मेटिक, पिल्‍स, मसाजिंग क्रीम से लेकर ब्रेस्‍ट इनलार्जमेंट के लिए सर्जरी भी उपलब्‍ध है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि केवल योगा करने मात्र से ही आप अपने ब्रेस्‍ट के साइज को दोगुना कर सकती हैं। जी हां, योगा करने से आपके शरीर को कोई साइड इफे Read More : छोटे ब्रेस्‍ट है तो अभी से शुरू कर दें ये योगासन about छोटे ब्रेस्‍ट है तो अभी से शुरू कर दें ये योगासन