धरोहर

आगरा का किला

आगरा का किला किसने बनवाया, आगरा का किला वीडियो, आगरा का किला वीडियो में, आगरा का लाल किला किसने बनवाया, आगरा का इतिहास, आगरा का लाल किला किसने बनवाया था, दिल्ली का लाल किला, दिल्ली का लाल किला किसने बनवाया था

आगरा का किला, इसे "लाल किला" भी कहते हैं, भारत के आगरा शहर में स्थित है। वर्ष 1983 में यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर स्थल घोषित किया था। यह ताजमहल से करीब 2.5 किलोमीटर दूर है। वर्ष 1565 में महान मुगल सम्राट अकबर ने इसका निर्माण करवाया था। प्राचीन काल में आगरा भारत की राजधानी हुआ करता था। यह शानदार किला यमुना नदी के किनारे बना है। 380,000 वर्गमीटर ( 94 एकड़) में बना यह किला अर्द्धवृत्ताकार है। इसके चार दरवाजे हैं, किले के दो दरवाजे– दिल्ली गेट और लाहौर गेट नाम से जाने जाते हैं। Read More : आगरा का किला about आगरा का किला

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान केवलादेव नैशनल पॉर्क घना बर्ड सैंक्चुरी केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान, घना पक्षी विहार कहाँ है, घना पक्षी अभयारण्य कहाँ है, केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान घना पक्षी विहार, मानस राष्ट्रीय उद्यान, केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान कहां स्थित है, केवलादेव नेशनल पार्क घना बर्ड सैंक्चुरी केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान, केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान कहां पर स्थित है

भरतपुर पक्षी अभयारण्य के नाम से जाना जाने वाला केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान भारत के दो सबसे ऐतिहासिक शहरों आगरा और जयपुर के बीच है। उत्तर भारत का यह उद्यान देश के राजस्थान राज्य के उत्तर पश्चिम हिस्से में स्थित है। वर्ष 1982 में इसे राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था और 1985 में यूनेस्को ने इसे विश्व विरासत स्थल घोषित किया। यह उद्यान बास्किंग पैथॉन (बास्किंग अजगर), पेंटेड स्टॉर्क, हिरण, नीलगाय और अन्य पशुओं समेत 370 से अधिक पक्षी और पशु प्रजातियों का निवास स्थान है। यह मुख्य रूप से प्रवासी साइबेरियाई सारसों के लिए जाना जाता है। Read More : केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान about केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान

सबरीमाला मंदिर का महत्व

सबरीमाला मंदिर का महत्व

केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से १७५ किमी की दूरी पर पंपा है और वहाँ से चार-पांच किमी की दूरी पर पश्चिम घाट से सह्यपर्वत श्रृंखलाओं के घने वनों के बीच, समुद्रतल से लगभग १००० मीटर की ऊंचाई पर शबरीमला मंदिर स्थित है। मक्का-मदीना के बाद यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा तीर्थ माना जाता है, जहां हर साल करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं। शबरीमला शैव और वैष्णवों के बीच की अद्भुत कड़ी है। मलयालम में 'शबरीमला' का अर्थ होता है, पर्वत। वास्तव में यह स्थान सह्याद्रि पर्वतमाला से घिरे हुए पथनाथिटा जिले में स्थित है। पंपा से सबरीमला तक पैदल यात्रा करनी पड़ती है। यह रास्ता पांच किलोमीटर लंबा है। Read More : सबरीमाला मंदिर का महत्व about सबरीमाला मंदिर का महत्व

कटासराज मन्दिर

कटासराज मन्दिर

कटास राज पाकिस्तान के पाकिस्तानी पंजाब के उत्तरी भाग में नमक कोह पर्वत शृंखला में स्थित हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहाँ एक प्राचीन शिव मंदिर है। इसके अतिरिक्त और भी मंदिरों की श्रृंखला है जो दसवीं शताब्दी के बताये जाते हैं। ये इतिहास को दर्शाते हैं। इतिहासकारों एवं पुरात्तव विभाग के अनुसार, इस स्थान को शिव नेत्र माना जाता है। जब माँ पार्वती सती हुई तो भगवान शिव की आँखों से दो आंसू टपके। एक आंसू कटास पर टपका जहाँ अमृत बन गया यह आज भी महान सरोवर अमृत कुण्ड तीर्थ स्थान कटास राज के रूप में है दूसरा आंसू अजमेर राजस्थान में टपका और यहाँ पर पुष्करराज तीर्थ स्थान है।  Read More : कटासराज मन्दिर about कटासराज मन्दिर