ओशो जिबरिश ध्यान विधि

देखना, सुनना और सोचना यह तीन महत्वपूर्ण गतिविधियां हैं। इन तीनों के घालमेल से ही चित्र कल्पनाएं और विचार निर्मित होते रहते हैं। इन्हीं में स्मृतियां, इच्छाएं, कुंठाएं, भावनाएं, सपने आदि सभी 24 घंटे में अपना-अपना किरदार निभाते हुए चलती रहती है। यह निरंतर चलते रहना ही बेहोशी है और इसके प्रति सजग हो जाना ही ध्यान है। साक्ष‍ी हो जाना ही ध्यान है।

 

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ध्यान की विधियां अलग-अलग होती है। लेकिन कुछ ध्यान ऐसे हैं जिनको सभी आजमा सकते हैं। ध्यान की प्रत्येक विधि के पीछे एक इतिहास छुपा हुआ है जिसका संबंध भारत से है। जैसे ध्यान जब जापान में गया तो च्यान होकर बाद में झेन हो गया। ध्यान की खोज प्राचीन भारतीय ऋषि-मुनियों ने की थी। उपनिषदों में दुनियाभर में प्रचलित सभी तरह के ध्यान का उल्लेख मिलता है।

 

हर त्योहार और व्रत ध्यान है : यदि गौर से देखा जाए तो हिन्दुओं के लगभग सभी त्योहार किसी न किसी ध्यान से ही जुड़े हुए हैं। होली जहां हमारे दमित भावों को बाहर निकालने का एक माध्यम है वहीं दीपावली जीवन में साक्षी भाव को गहराने का त्योहार है। ओशो कहते हैं कि प्रत्येक गतिविधि को ध्यान बनाया जा सकता है। अब हम बात करते हैं जिबरिश की।

 

ओशो संन्यासी अक्सर 'जिबरिश' ध्यान करते हैं। यह भारतीय योग अनुसार रेचक की एक प्रक्रिया है। ओशो की एक महत्वपूर्ण किताब 'ध्यान योग : प्रथम और अंतिम मुक्ति' में ध्यान की 150 विधियां हैं। दुनियाभर में प्रचलित ध्यान को इसमें संकलित किया गया है और ओशो ने बहुत ही सुंदर ढंग से इन विधियों का वर्णन किया है। 

 

ओशो कहते हैं कि अंग्रेजी का 'जिबरिश' शब्द 'जब्बार' नाम के एक सूफी सन्त से बना है। जब्बार से जब भी कोई कुछ सवाल पूछता था तो वह अक्सर अनर्गल, अनाप-शनाप भाषा में उसका जवाब देता था। वे इस भांति बोलते थे कि कोई समझ नहीं पाता था कि वे क्या बोल रहे हैं। इसलिए लोगों ने उनकी भाषा को 'जिबरिश' नाम दे दिया- जब्बार से जिबरिश (Gibberish)। जिबरिश का अर्थ होता है अस्पष्ट उच्चारण।

 

‘जिबरिश’ का प्रचलित अर्थ बन गया- अर्थहीन बकवास। यह अर्थहीन बकवास ही आंतरिक बकवास को रोकती है। इससे मन का कूड़ा-करकट बाहर निकाला जा सकता है। ईसाइयों के एक मत में इस तरह के ध्यान को ग्लासोलेलिया कहते हैं; 'टाकिंग इन टंग्स।'

 

सूफी फकीर जब्बार से लोग तरह-तरह के गंभीर सवाल पूछते और वह उसका जवाब इसी तरह देते थे। अर्थहीन शब्दों में लगातार वे लगभग चिल्लाते हुए जबाब देते थे। दरअसल जब्बार यह बताना चाहते थे कि तुम्हारे सारे सवाल और जवाब बकवास है। इससे सत्य को नहीं जाना जा सकता। सत्य को जानने के लिए मन और मस्तिष्क का खाली होना जरूरी है।

 

नो माइंड : ओशो ने जब्बार के इस ध्यान को आधुनिक लुक दिया और इस वार्तालाप के साथ चिखना और चिल्लाना भी जोड़ दिया। ओशो ने इस विधि को फिर से अपनाया और उसमें कुछ नए तत्व जोड़कर एक ध्यान थेरेपी बनाई और उसका नाम रखा- नो माइंड।

 

 

नो माइंड होना बहुत ही कठिन है। दिमाग को विचारों से मुक्ति करना बहुत ही कठिन है लेकिन जो ऐसा करना शुरू कर देता है वह मन के पार चला जाता है। उदाहरणार्थ, एक वाक्य के कुछ शब्दों के बीच जो खाली स्थान होता है असल में वही सत्य है। उस खाली स्थान को बढ़ाने के लिए ही ध्यान विधियां है।

 

जिबरिश के कई तरीके : जिबरिश को आप कई तरीके से कर सकते हैं। इसे आप फनी, लॉफिंग या अपने भावों के हिसाब से जैसा चाहे वैसा बना सकते हैं। जिबरिश में बात करना करना बहुत ही रोचक होता है। आप गुस्से में, दुख में या प्रसन्नता से जिमरिश बोले। अपने चेहरे पर चौंकाने वाले भाव लाकर भी जिबरिश बोले। रोते हुए भी जिबरिश बोलना बहुत फनी होगा। आपने बच्चों को देखा होगा जब उनका कोई खिलौना टूट जाता है और दहाड़े मारकर रोते हुए ऐसा कुछ बोलने लगते हैं जो आपको समझ में नहीं आता। हर तरह के मनोभावों में जिबरिश को ढाला जा सकता है। 

 

समूह में करें यह ध्यान : जिबरिश एक ऐसी भाषा में बात करना है या बोलना है जो कि भाषा है ही नहीं। हर कोई यह भाषा जानता है। यह नान्सेन्स टाक है। आप इसे अकेले में भी कर सकते हैं और समूह में भी। यदि आप समूह में करेंगे तो बहुत मजा आएगा। जैसे मैं आपसे अजीब सा मुंह बनाकर कहूं...'तिरिफिका नालने मक्तमाने नी तोरफीटू जागरे केरमाना।'....आप इसका जबाब कुछ भी दे सकते हैं, 'नामारके रेगजा टूफीरतो नी नेमाक्तम नेलना काफिरिति।'

 

अकेले करें ये ध्यान : अकेले बैठकर भी आप जिबरिश कर सकते हैं। प्रतिदिन सुबह उठकर या सोने से पहले कम से कम बीस मिनट जिबरिश करें। यानी एक कोने में बैठकर अनर्गल प्रलाप करें, आनंद के साथ। फिर एक बार छोटे बच्चें बन जाएं। यह एक पागलपन की तरह होगा। घर के लोग आप पर हंसेंगे भी, लेकिन यह आपके भीतर का पागलपन बाहर निकालन के यह सबसे अच्छा तरीका है।

 

फायदे और नुकसान :

आध्यात्मिक लाभ : जिबरिश ध्यान का आध्यात्मिक फायदा यह कि ध्यानपूर्वक इसे निरंतर करने से आप मन के पार अमनी दशा में रहकर आनंदित हो सकते हैं। अमनी दशा में ही सिद्धियां और सत्य का दर्शन होता है। कई संत ध्यना की इस अवस्था में रहते हैं।

 

सांसारिक लाभ : इसका  सांसारिक लाभ यह कि इसे करते रहने से कभी मानसिक तनाव नहीं रहेगा।‍ किसी भी प्रकार की कुंठा नहीं रहेगी। किसी भी प्रकार की हीन भावना या डर नहीं होगा। आप खुलकर लोगों से जुड़ेंगे। बहुत अच्छे से आपके व्यक्तित्व का विकास होगा। नुकसान :  लेकिन यहां ध्यान रखने वाली बात यह है कि मन बड़ा चलाक होता है वह किसी भी तरह की आदत डाल लेता है और फिर वह आदत ही हमारी परेशानी बन जाती है। कुछ लोग कहते हैं कि वैसे भी दिमाग में हजारों तरह के शब्द थे अब एक नया शब्द जुड़ गया 'जिबरिश'। इस ध्यान के माध्यम से होश में आना है लेकिन कुछ लोग बेहोश हो जाते हैं।

 

Vote: 
No votes yet

New Dhyan Updates

Total views Views today
ध्यान : काम ऊर्जा से मुक्ति 27 8
ध्यान : कल्पना द्वारा नकारात्मक को सकारात्मक में बदलना 35 6
ध्यान : सब काल्पनिक है 113 4
संकल्प कैसे काम करता है? 271 3
जिस दिन जागरण पूर्ण होगा उस दिन : साक्षी साधना 115 3
ध्यान : अपना मुंह बंद करो! 119 3
ध्यान : जहां कहीं भी तुम्हारा अवधान उतरे, उसी बिंदु पर, अनुभव। 84 3
ध्यान : गर्भ की शांति पायें 131 2
ध्यान :"मैं यह नहीं हूं' 84 2
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 291 2
ओशो स्टाॅप मेडिटेशन 103 2
पंख की भांति छूना ध्‍यान —ओशो 159 2
नासाग्र को देखना (ध्‍यान)—ओशो 373 2
प्रेम से भर रहा है ? 92 2
ध्यान : "हां' का अनुसरण 86 2
ओशो देववाणी ध्यान 857 2
सम्मोहन: दुर्व्यसनों से छुटकारा पाने का सशक्त उपाय 54 1
ध्यान : अपने विचारों से तादात्मय तोड़ें 83 1
सैक्स मनुष्य की सर्वाधिक महत्वपूर्ण ऊर्जा का नाम है। 390 1
शांत प्रयोग सफल नहीं होता 133 1
तकिया पीटना ( ध्यान ) - नकारात्मकता को निकाल फेंकना 127 1
क्या जीवन को सीधा देखना संभव नहीं है? 121 1
ध्यान : प्रमुदिता प्रकाश है 90 1
ध्यान : ज्ञान और अज्ञान, दोनों के पार 92 1
सफलता कोई मूल्य नहीं है 94 1
आप अच्छे हैं या स्वाभाविक? 101 1
ओशो नटराज ध्‍यान की विधि 139 1
साधक के लिए पहली सीढ़ी शरीर है 163 1
कर्म का नियम 94 1
विद्यार्थी क्यों अनुशासनहीन हो गए? 106 1
त्राटक-एकटक देखने की विधि है | 148 1
पुनर्जन्‍म की बात 115 1
ध्यान : अपने हृदय में शांति का अनुभव करें 72 1
देखने के संबंध में सातवीं विधि 158 1
संन्यासी और गृहस्थी में क्या फर्क है? 102 1
ध्यान : स्टॉप! (जैसे ही कुछ करने की वृत्ति हो, रुक जाओ।) 85 1
मैं एक युवती के प्रेम में था। वह मुझे धोखा दे गई ! मैं क्या करूं 103 1
ओशो – अपनी नींद में ध्‍यान कैसे करें 169 1
प्रेम जितना बढ़ेगा, सेक्‍स उतना क्षीण होगा: ओशो 116 1
ध्यान : संयम साधना 94 1
ध्यान शरीर की आदत नहीं है 82 1
ओशो —हर चक्र की अपनी नींद 189 1
प्रेम का अनुभव पूर्णता का अनुभव है : ईशावास्य उपनिषद 88 1
ध्यान विधि : - ओशो 137 1
स्वर्णिम प्रकाश ध्यान : ओशो 153 1
स्त्रियां पुरुष के लिए आकर्षक क्यों बनना चाहती हैं जबकि वे पुरुषों की कामुकता जरा भी पसंद नहीं करतीं ? 189 1
ओशो की सक्रिय ध्यान विधि 833 1
समाधि का पहला अनुभव कैसा होता है? 148 1
व्यक्तियों को वस्तु मत बनाओ 77 1
जिबरिश ध्यान विधि 209 1
प्यारे प्रभु! प्रश्नों के अंबार लगे हैं 136 1
ध्यान : मौन का रंग 114 1
ओशो नाद ब्रह्म ध्‍यान 522 1
आज के युग मे ओशो सक्रिय ध्यान 243 1
युवक कौन .... ?? 141 1
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 367 0
दूसरे को तुम उतना ही देख पाओगे जितना तुम अपने को देखते हो 129 0
हँसने के पाँच फायदे 126 0
मैं--तू' ध्यान - (ओशो: ध्यान विज्ञान) 73 0
शब्दों के बिना देखना 80 0
सहज योग 144 0
श्वास को शिथिल करो! 92 0
ध्यान : क्या आप स्वयं के प्रति सच्चे हैं? 110 0
ओशो गौरीशंकर ध्‍यान 169 0
ध्यान आता है, एक फुसफुसाहट की तरह 153 0
ध्यान : संतुलन ध्यान 88 0
ध्यान : अनुभव करें, विचारें नहीं 70 0
ओशो डाइनैमिक ध्‍यान 149 0
दूसरे का अवलोकन करो 134 0
ध्यान : ध्वनि के केंद्र में स्नान करो 93 0
ध्यान : श्वास : सबसे गहरा मंत्र 61 0
ग्रंथियों का पता लगाने का एक प्रयोग 152 0
जगत ऊर्जा का विस्तार है 80 0
शरीर और मन दो अलग चीजें नहीं हैं। 96 0
ओशो – तीसरी आँख सूक्ष्‍म शरीर का अंग है 216 0
ध्यान -:पूर्णिमा का चाँद 122 0
ध्यान:: त्राटक ध्यान : ओशो 87 0
साक्षी को खोजना— ओशो 262 0
जब हनीमून समाप्त हो जाता है तो इसके बाद क्या? 96 0
ध्यान :: गर्भ की शांति पायें 50 0
करने की बीमारी 72 0
ध्यान :: कभी, अचानक ऐसे हो जाएं जैसे नहीं हैं 96 0
ध्वनि के केंद्र में स्नान करो 123 0
ध्यान : संतुलन ध्यान 97 0
चक्रमण सुमिरन एक वरदान है 234 0
यही शरीर, बुद्ध: हां, तुम। 96 0
अपनी श्वास का स्मरण रखें 174 0
ओशो नियो-विपस्याना ध्यान 69 0
आप ट्रिम होना चाहते है, यह देखे 89 0
व्यस्त लोगों के लिये ध्यान 108 0
सिरविहीन होने के प्रयोग को--करके देखो 134 0
ओशो जिबरिश ध्यान विधि 151 0
मैं अकेलेपन से बहुत दुखी हूं, मैं इसके लिए क्या करूं? 197 0
बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ। 153 0
ध्यान: क्या आप स्वयं के प्रति सच्चे हैं? 98 0
प्रत्येक ध्यान के शीघ्र बाद करुणावान रहो 146 0