ओशो नटराज ध्‍यान की विधि

ओशो नटराज ध्‍यान की विधि

ओशो नटराज ध्‍यान ओशो के निर्देशन में तैयार किए गए संगीत के साथ किया जा सकता है। यह संगीत ऊर्जा गत रूप से ध्‍यान में सहयोगी होता है। और ध्‍यान विधि के हर चरण की शुरूआत को इंगित करता है।

नृत्‍य को अपने ढंग से बहने दो; उसे आरोपित मत करो। बल्‍कि उसका अनुसरण करो, उसे घटने दो। वह कोई कृत्‍य नहीं, एक घटना है। उत्‍सवपूर्ण भाव में रहो, तुम कोई बड़ा गंभीर काम नहीं कर रहे हो; बस खेल रहे हो। अपनी जीवन ऊर्जा से खेल रहे हो, उसे अपने ढंग से बहने दे रहे हो। उसे बस ऐसे जैसे हवा बहती है और नदी बहती है, प्रवाहित होने दो……तुम भी प्रवाहित हो रहे हो, बह रहे हो, इसे अनुभव करो।

और खेल के भी में रहे। इस शब्‍द ‘खेल पूर्ण भाव’ का ध्‍यान रखो—मेरे साथ यह शब्‍द बहुत प्राथमिक है। इस देश में हम सृष्‍टि को परमात्‍मा की लीला, परमात्‍मा को खेल कहते है। परमात्‍मा ने संसार का सृजन नहीं किया है, वह उसका खेल है।
निर्देश:

पहला चरण: चालीस मिनट
आंखे बंद कर इस प्रकार नाचे जैसे आविष्‍ट हो गए हों। अपने पूरे चेतन को उभरकर नृत्‍य में प्रवेश करने दें। न तो नृत्‍य को नियंत्रित करें, और न ही जो हो रहा है उसके साक्षी बने। बस नृत्‍य में पूरी तरह डूब जाएं।

दूसरा चरण: बीस मिनट
आंखे बंद रखे हुए ही, तत्‍क्षण लेट जाएं। शांत और निश्‍चल रहें।

तीसरा चरण: पाँच मिनट
उत्‍सव भाव से नाचे; आनंदित हों और अहो भाव व्‍यक्‍त करें।
नर्तक को, अहंकार के केंद्र को भूल जाओ; नृत्‍य ही हो रहो। यही ध्‍यान है। इतनी गहनता से नाचो कि तुम यह बिलकुल भूल जाओ कि तुम नाच रहे हो और यह महसूस होने लगे कि तुम नृत्‍य ही हो। यह दो का भेद मिट जाना चाहिए। फिर वह ध्‍यान बन जाता है। यदि भेद बना रहे तो फिर वह एक व्‍यायाम ही है: अच्‍छा है, स्‍वास्‍थकर है, लेकिन उसे अध्‍यात्‍मिक नहीं कहा जा सकता है। वह बस एक साधारण नृत्‍य ही हुआ। नृत्‍य स्‍वयं में अच्छा है—जहां तक चलता है, अच्‍छा है। उसके बाद तुम ताजे और युवा महसूस करोगे। परंतु वह अभी ध्‍यान नहीं बना। नर्तक को विदा देते रहना चाहिए। जब तक कि केवल नृत्‍य ही न बचे।

तो क्‍या करना है? नृत्‍य में समग्र होओ, क्‍योंकि नर्तक नृत्‍य भेद तभी तक रह सकता है जब तक तुम उसमें समग्र नहीं हो। यदि तुम एक और खड़े रहकर अपने नृत्‍य को देखते रहते हो, तो भेद बना रहेगा: तुम नर्तक हो और तुम नृत्‍य कर रहे हो। फिर नृत्‍य एक कृत्‍य मात्र होता है। जो तुम कर रहे हो; वह तुम्‍हारा प्राण नहीं है। तो पूर्णतया उसमें संलग्‍न हो जाओ, लीन हो जाओ। एक और न खड़े रहो, एक दर्शक मत बने रहो। सम्‍मिलित होओ।
ओशो

Vote: 
No votes yet
Meditation Category: 

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

New Dhyan Updates

Total views Views today
ध्यान : मौन का रंग 28 26
प्रेम का अनुभव पूर्णता का अनुभव है : ईशावास्य उपनिषद 19 18
ध्यान : अपने विचारों से तादात्मय तोड़ें 37 17
क्या जीवन को सीधा देखना संभव नहीं है? 35 16
संकल्प कैसे काम करता है? 70 8
ओशो देववाणी ध्यान 572 8
ओशो की सक्रिय ध्यान विधि 508 7
ओशो – तीसरी आँख सूक्ष्‍म शरीर का अंग है 86 6
संन्यासी और गृहस्थी में क्या फर्क है? 52 6
नासाग्र को देखना (ध्‍यान)—ओशो 112 6
ओशो —हर चक्र की अपनी नींद 109 6
ओशो नाद ब्रह्म ध्‍यान 305 6
सफलता कोई मूल्य नहीं है 38 6
ओशो डाइनैमिक ध्‍यान 60 5
साक्षी को खोजना— ओशो 101 5
त्राटक-एकटक देखने की विधि है | 99 5
पुनर्जन्‍म की बात 61 5
पंख की भांति छूना ध्‍यान —ओशो 84 5
मैं एक युवती के प्रेम में था। वह मुझे धोखा दे गई ! मैं क्या करूं 56 5
ध्यान : प्रमुदिता प्रकाश है 47 5
अपनी श्वास का स्मरण रखें 105 5
प्रेम से भर रहा है ? 50 5
सिरविहीन होने के प्रयोग को--करके देखो 79 5
समाधि का पहला अनुभव कैसा होता है? 55 5
बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ। 81 5
दूसरे को तुम उतना ही देख पाओगे जितना तुम अपने को देखते हो 83 5
तकिया पीटना ( ध्यान ) - नकारात्मकता को निकाल फेंकना 55 5
ध्यान : संयम साधना 34 5
ओशो गौरीशंकर ध्‍यान 87 5
ध्यान : "हां' का अनुसरण 33 5
दूसरे का अवलोकन करो 71 4
ओशो नटराज ध्‍यान की विधि 82 4
ग्रंथियों का पता लगाने का एक प्रयोग 66 4
साधक के लिए पहली सीढ़ी शरीर है 47 4
ध्यान -:पूर्णिमा का चाँद 71 4
देखने के संबंध में सातवीं विधि 84 4
ध्वनि के केंद्र में स्नान करो 60 4
ओशो – अपनी नींद में ध्‍यान कैसे करें 87 4
चक्रमण सुमिरन एक वरदान है 115 4
ध्यान : सब काल्पनिक है 37 4
स्वर्णिम प्रकाश ध्यान : ओशो 94 4
जिबरिश ध्यान विधि 99 4
आज के युग मे ओशो सक्रिय ध्यान 105 4
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 249 4
हँसने के पाँच फायदे 49 4
सैक्स मनुष्य की सर्वाधिक महत्वपूर्ण ऊर्जा का नाम है। 267 4
शांत प्रयोग सफल नहीं होता 83 4
सहज योग 74 4
ध्यान आता है, एक फुसफुसाहट की तरह 75 4
प्रेम जितना बढ़ेगा, सेक्‍स उतना क्षीण होगा: ओशो 49 3
ध्यान विधि : - ओशो 63 3
ओशो जिबरिश ध्यान विधि 82 3
प्रत्येक ध्यान के शीघ्र बाद करुणावान रहो 82 3
युवक कौन .... ?? 56 3
ध्यान : अपना मुंह बंद करो! 41 3
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 97 3
श्वास को शिथिल करो! 40 3
ध्यान : जहां कहीं भी तुम्हारा अवधान उतरे, उसी बिंदु पर, अनुभव। 34 2
जिस दिन जागरण पूर्ण होगा उस दिन : साक्षी साधना 49 2
स्त्रियां पुरुष के लिए आकर्षक क्यों बनना चाहती हैं जबकि वे पुरुषों की कामुकता जरा भी पसंद नहीं करतीं ? 51 2
प्यारे प्रभु! प्रश्नों के अंबार लगे हैं 44 2
ओशो स्टाॅप मेडिटेशन 46 2