बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ।

बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ।

उस हर्ष में प्रवेश करो और उसके साथ एक हो जाओ। किसी भी हर्ष से काम चलेगा। यह एक उदाहरण है।

‘’बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है।‘’

तुम्‍हें अचानक कोई मित्र मिल जाता है जिसे देखे हुए बहुत दिन, बहुत वर्ष हो गए है। और तुम अचानक हर्ष से, आह्लाद से भर जाते हो। लेकिन अगर तुम्‍हारा ध्‍यान मित्र पर है, हर्ष पर नहीं तो तुम चूक रहे हो। और यह हर्ष क्षणिक होगा। तुम्‍हारा सारा ध्‍यान मित्र पर केंद्रित होगा, तुम उससे बातचीत करने में मशगूल रहोगे। तुम पुरानी स्‍मृतियों को ताजा करने में लगेरहोगे। तब तुम इस हर्ष को चूक जाओगे। और हर्ष भी विदा हो जाएगा। इसलिए जब किसी मित्र से मिलना हो और अचानक तुम्‍हारे ह्रदय में हर्ष उठे तो उस हर्ष पर अपने को एकाग्र करो। उस हर्ष को महसूस करो। उसके साथ एक हो जाओ। और तब हर्ष से भरे हुए और बोधपूर्ण रहते हुए अपने मित्र को मिलो। मित्र को बस परिधि पर रहने दो और तुम अपने सुख के भाव के में केंद्रित हो जाओ।

अन्‍य अनेक स्‍थितियों में भी यह किया जा सकता है। सूरज उग रहा है और तुम अचानक अपने भीतर भी कुछ उगता हुआ अनुभव करते हो। तब सूरज को भूल जाओ, उसे परिधि पर ही रहने दो और तुम उठती हुई उर्जा के अपने भाव में केंद्रित होजाओ। जब तुम उस पर ध्‍यान दोगे, वह भाव फैलने लगेगा। और वह भाव तुम्‍हारे सारे शरीर पर, तुम्‍हारे पूरे अस्‍तित्‍व पर फैल जाएगा। और बस दर्शन ही मत बने रहो। उसमे विलीन हो जाओ।

ऐसे क्षण बहुत थोड़े होते है, जब तुम हर्ष या आह्लाद अनुभव करते हो, सुख और आनंद से भरते हो। और तुम उन्‍हें भी चूक जाते हो। क्‍योंकि तुम विषय केंद्रित होते हो। जब भी प्रसन्‍नता आती है। सुख आता है, तुम समझते हो कि यह बाहर से आ रहा है।

किसी मित्र से मिलने हो, स्‍वभावत: लगता है कि सुख मित्र से आ रहा है। मित्र के मिलने से आ रहा है। लेकिन यह हकीकत नहीं है। सुख सदा तुम्‍हारे भीतर है। मित्र तो सिर्फ परिस्‍थिति निर्मित करता है। मित्र ने सुख को बाहर आने का अवसर दिया। और उसने तुम्‍हें उस सुख को देखने में हाथ बंटाया।

यह नियम सुख के लिए ही नहीं। सब चीजों के लिए है; क्रोध, शोक, संताप, सुख, सब पर लागू होता है। ऐसा ही है। दूसरे केवल परिस्‍थिति बनाते है जिसमे जो तुम्‍हारे भीतर छिपा है वह प्रकट हो जाता है। वे कारण नहीं है। वे तुम्‍हारे भीतर कुछ पैदा नहीं करते है। जो भी घटित हो रहा है वह तुम्‍हें घटित हो रहा है। वह सदा है। मित्र का मिलन सिर्फ अवसर बना, जिसमे अव्‍यक्‍त व्‍यक्‍त हो रहा है। अप्रकट हो गया।

जब भी यह सुख घटित हो, उसके आंतरिक भाव में स्‍थित रहो और तब जीवन में सभी चीजों के प्रति तुम्‍हारी दृष्‍टि भिन्‍न हो जाएगी। नकारात्‍मक भावों के साथ भी यह प्रयोग किया जा सकता है। जब क्रोध आए तो उस व्‍यक्‍ति की फिक्र मत करो जिसने क्रोध करवाया, उसे परिधि पर छोड़ दो और तुम क्रोध ही हो जाओ। क्रोध को उसकी समग्रता में अनुभव करो, उसे अपने भीतर पूरी तरह घटित होने दो।

उसे तर्क-संगत बनाने की चेष्‍टा मत करो। यह मत कहो कि इस व्‍यक्‍ति ने क्रोध करवाया। उस व्‍यक्‍ति की निंदा मत करो। वह तो निर्मित मात्र है। उसका उपकार मानों कि उसने तुम्‍हारे भीतर दमित भावों को प्रकट होने का मौका दिया। उसने तुम पर कहीं चोट की। और वहां से घाव छिपा पडा था। अब तुम्‍हें उस घाव का पता चल गया है। अब तुम वह घाव ही बन जाओ।

विधायक या नकारात्‍मक, किसी भी भाव के साथ प्रयोग करो और तुम में भारी परिवर्तन घटित होगा। अगर भाव नकारात्‍मक है तो उसके प्रति सजग होकर तुम उससे मुक्‍त हो जाओगे। और अगर भाव विधायक है तो तुम भाव ही बन जाओगे। अगर यह सुख है तो तुम सुख बन जाओगे। लेकिन यह क्रोध विसर्जित हो जाएगा। और नकारात्‍मक और विधायक भावों का भेदभी यही है। अगर तुम किसी भाव के प्रति सजग होते हो और उससे वह भाव विसर्जित हो जाता है तो समझना कि वह नकारात्‍मक भाव है। और यदि किसी भाव के प्रति सजग होने से तुम वह भाव ही बन जाते हो और वह भाव फैलकर तुम्‍हारे तन-प्राण पर छा जाता है तो समझना कि वह विधायक भाव है। दोनों मामलों में बोध अलग-अलग ढंग से काम करता है। अगर कोई जहरीला भाव है तो बोध के द्वारा

तुम उससे मुक्‍त हो सकते हो। और अगर भाव शुभ है, आनंदपूर्ण है, सुंदर है तो तुम उससे एक हो जाते हो। बोध उसे प्रगाढ़ कर देता है।

मेरे लिए यही कसौटी है। अगर कोई वृति बोध से सघन होती है तो वह शुभ है और अगर बोध से विसर्जित हो जाती है तो उसे अशुभ मानना चाहिए। जो चीज होश के साथ न जी सके वह पाप है और जो होश के साथ वृद्धि को प्राप्‍त हो वह पुण्‍य है। पुण्‍य और पाप सामाजिक धारणाएं नहीं है। वे आंतरिक उपलब्‍धियां है।

अपने बोध को जगाओं, उसका उपयोग करो। यह ऐसा ही है जैसे कि अंधकार है और तुम दीया जलाये हो। दीए के जलते ही अंधकार विदा हो जाएगा। प्रकाश के आने से अँधेरा नहीं हो जाता है। क्‍योंकि वस्‍तुत: अँधेरा नहीं था। अंधकार प्रकाश का आभाव है। वह प्रकाश की अनुपस्‍थिति था। लेकिन प्रकाश के आने से वहां मौजूद अनेक चीजें प्रकाशित भी हो जाएंगी। प्रकट हो जायेगी। प्रकाश के आने से ये अलमारियां, किताबें, दीवारें विलीन नहीं हो जाएंगी। अंधकार में वे छिपी थी, तुम उन्‍हें नहीं देख सकते थे। प्रकाश के आने से अंधकार विदा हो गया लेकिन उसके साथ ही जो यथार्थ था वह प्रकट हो गया। बोध के द्वारा जो भी अंधकार की तरह नकारात्‍मक है—धृणा, क्रोध, दुःख, हिंसा—वह विसर्जित हो जाएगा और उसके साथ ही प्रेम, हर्ष,आनंद जैसी विधायक चीजें पहली बार तुम पर प्रकट हो जाएंगी।

इसलिए ‘’बहुत समय के बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ।‘’

विज्ञान भैरव तंत्र, भाग—3

 

Vote: 
No votes yet

New Dhyan Updates

Total views Views today
ग्रंथियों का पता लगाने का एक प्रयोग 170 1
ध्यान -:पूर्णिमा का चाँद 134 1
साक्षी को खोजना— ओशो 301 1
नासाग्र को देखना (ध्‍यान)—ओशो 496 1
ध्वनि के केंद्र में स्नान करो 144 1
ओशो – अपनी नींद में ध्‍यान कैसे करें 283 1
व्यस्त लोगों के लिये ध्यान 131 1
हँसने के पाँच फायदे 191 1
साप्ताहिक ध्यान : कल्पना द्वारा नकारात्मक को सकारात्मक में बदलना 24 1
शांत प्रयोग सफल नहीं होता 152 1
सहज योग 177 1
ध्यान आता है, एक फुसफुसाहट की तरह 175 1
ध्यान :"मैं यह नहीं हूं' 107 0
ओशो डाइनैमिक ध्‍यान 197 0
दूसरे का अवलोकन करो 151 0
संकल्प कैसे काम करता है? 347 0
ध्यान : ज्ञान और अज्ञान, दोनों के पार 114 0
क्या जीवन को सीधा देखना संभव नहीं है? 144 0
ध्यान : प्रमुदिता प्रकाश है 104 0
ओशो नटराज ध्‍यान की विधि 173 0
क्या आप सिगरेट छोड़ना चाहते हैं। 37 0
सफलता कोई मूल्य नहीं है 105 0
ध्यान : संतुलन ध्यान 105 0
ध्यान : अनुभव करें, विचारें नहीं 90 0
ओशो – तीसरी आँख सूक्ष्‍म शरीर का अंग है 260 0
साधक के लिए पहली सीढ़ी शरीर है 195 0
कर्म का नियम 116 0
ध्यान : ध्वनि के केंद्र में स्नान करो 111 0
आप अच्छे हैं या स्वाभाविक? 124 0
त्राटक-एकटक देखने की विधि है | 164 0
जिस दिन जागरण पूर्ण होगा उस दिन : साक्षी साधना 137 0
ध्यान : अपना मुंह बंद करो! 134 0
ध्यान : श्वास : सबसे गहरा मंत्र 87 0
शरीर और मन दो अलग चीजें नहीं हैं। 131 0
पंख की भांति छूना ध्‍यान —ओशो 178 0
देखने के संबंध में सातवीं विधि 184 0
पुनर्जन्‍म की बात 138 0
ध्यान : अपने हृदय में शांति का अनुभव करें 98 0
जगत ऊर्जा का विस्तार है 99 0
ध्यान:: त्राटक ध्यान : ओशो 108 0
संन्यासी और गृहस्थी में क्या फर्क है? 118 0
करने की बीमारी 94 0
विद्यार्थी क्यों अनुशासनहीन हो गए? 126 0
ध्यान :: गर्भ की शांति पायें 76 0
चक्रमण सुमिरन एक वरदान है 269 0
मैं एक युवती के प्रेम में था। वह मुझे धोखा दे गई ! मैं क्या करूं 139 0
ध्यान : संतुलन ध्यान 124 0
जब हनीमून समाप्त हो जाता है तो इसके बाद क्या? 123 0
ध्यान :: कभी, अचानक ऐसे हो जाएं जैसे नहीं हैं 121 0
ओशो —हर चक्र की अपनी नींद 216 0
अपनी श्वास का स्मरण रखें 196 0
प्रेम जितना बढ़ेगा, सेक्‍स उतना क्षीण होगा: ओशो 139 0
ध्यान : संयम साधना 113 0
ध्यान : स्टॉप! (जैसे ही कुछ करने की वृत्ति हो, रुक जाओ।) 101 0
ध्यान : सब काल्पनिक है 134 0
ध्यान विधि : - ओशो 168 0
स्वर्णिम प्रकाश ध्यान : ओशो 168 0
प्रेम से भर रहा है ? 107 0
ध्यान : "हां' का अनुसरण 131 0
ध्यान : कल्पना द्वारा नकारात्मक को सकारात्मक में बदलना 60 0
यही शरीर, बुद्ध: हां, तुम। 123 0
सिरविहीन होने के प्रयोग को--करके देखो 149 0
ओशो जिबरिश ध्यान विधि 174 0
स्त्रियां पुरुष के लिए आकर्षक क्यों बनना चाहती हैं जबकि वे पुरुषों की कामुकता जरा भी पसंद नहीं करतीं ? 220 0
आप ट्रिम होना चाहते है, यह देखे 111 0
ध्यान शरीर की आदत नहीं है 102 0
ओशो की सक्रिय ध्यान विधि 940 0
ओशो नियो-विपस्याना ध्यान 89 0
बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ। 180 0
जिबरिश ध्यान विधि 244 0
समाधि का पहला अनुभव कैसा होता है? 184 0
व्यक्तियों को वस्तु मत बनाओ 102 0
प्रेम का अनुभव पूर्णता का अनुभव है : ईशावास्य उपनिषद 112 0
ओशो देववाणी ध्यान 924 0
ओशो: जब कामवासना पकड़े तब क्या करें ? 50 0
प्रत्येक ध्यान के शीघ्र बाद करुणावान रहो 164 0
आज के युग मे ओशो सक्रिय ध्यान 262 0
प्यारे प्रभु! प्रश्नों के अंबार लगे हैं 154 0
ध्यान: क्या आप स्वयं के प्रति सच्चे हैं? 123 0
ओशो नाद ब्रह्म ध्‍यान 577 0
साप्ताहिक ध्यान : ध्वनि के केंद्र में स्नान करो 31 0
दूसरे को तुम उतना ही देख पाओगे जितना तुम अपने को देखते हो 142 0
युवक कौन .... ?? 161 0
ध्यान : अपनी श्वास का स्मरण रखें 25 0
मैं अकेलेपन से बहुत दुखी हूं, मैं इसके लिए क्या करूं? 232 0
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 396 0
सैक्स मनुष्य की सर्वाधिक महत्वपूर्ण ऊर्जा का नाम है। 449 0
तकिया पीटना ( ध्यान ) - नकारात्मकता को निकाल फेंकना 176 0
मैं--तू' ध्यान - (ओशो: ध्यान विज्ञान) 96 0
ध्यान : जहां कहीं भी तुम्हारा अवधान उतरे, उसी बिंदु पर, अनुभव। 102 0
ध्यान : मौन का रंग 172 0
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 338 0
श्वास को शिथिल करो! 118 0
ध्यान : गर्भ की शांति पायें 158 0
ध्यान : अपने विचारों से तादात्मय तोड़ें 101 0
सम्मोहन: दुर्व्यसनों से छुटकारा पाने का सशक्त उपाय 70 0
ओशो गौरीशंकर ध्‍यान 193 0
ओशो स्टाॅप मेडिटेशन 126 0
ध्यान : क्या आप स्वयं के प्रति सच्चे हैं? 136 0
ध्यान : काम ऊर्जा से मुक्ति 92 0
शब्दों के बिना देखना 92 0