सहज योग

सहज योग

सहज योग सबसे कठिन योग है; क्योंकि सहज होने से ज्यादा कठिन और कोई बात नहीं। सहज का मतलब क्या होता है?सहज का मतलब होता है: जो हो रहा है उसे होने दें, आप बाधा न बनें। अब एक आदमी नग्न हो गया, वह उसके लिए सहज हो सकता है, लेकिन बड़ा कठिन हो गया। सहज का अर्थ होता है: हवा-पानी की तरह हो जाएं, बीच में बुद्धि से बाधा न डालें;जो हो रहा है उसे होने दें।

बुद्धि बाधा डालती है, असहज होना शुरू हो जाता है। जैसे ही हम तय करते हैं, क्या होना चाहिए और क्या नहीं होना चाहिए,बस हम असहज होना शुरू हो जाते हैं। जब हम उसी के लिए राजी हैं जो होता है, उसके लिए राजी हैं, तभी हम सहज हो पाते हैं।

तो इसलिए पहली बात समझ लें कि सहज योग सबसे ज्यादा कठिन है। ऐसा मत सोचना कि सहज योग बहुत सरल है। ऐसी भ्रांति है कि सहज योग बड़ी सरल साधना है। तो कबीर का लोग वचन दोहराते रहते हैं: साधो, सहज समाधि भली। भली तो है, पर बड़ी कठिन है। क्योंकि सहज होने से ज्यादा कठिन आदमी के लिए कोई दूसरी बात ही नहीं है। क्योंकि आदमी इतना असहज हो चुका है, इतना दूर जा चुका है सहज होने से कि उसे असहज होना ही आसान, सहज होना मुश्किल हो गया है। पर फिर कुछ बातें समझ लेनी चाहिए, क्योंकि जो मैं कह रहा हूं वह सहज योग ही है।

सहज योग कहता है: अगर तुम चोर हो तो तुम जानो कि तुम चोर हो--जानते हुए चोरी करो, लेकिन इस आशा में नहीं कि कल अचोर हो जाओगे। यह इतने जोर से छाती में तलवार की तरह चुभ जाएगी कि मैं चोर हूं, कि इसमें जीना असंभव हो जाएगा एक क्षण भी। क्रांति अभी हो जाएगी, यहीं हो जाएगी।

ये भी ध्यानमे रखे   

जिस तरह चुम्बक , लोहे को अपनी ऑर खींचता है ,उसी तरह स्वाभाव भी अपने जैसे स्वभाव को अपनी ऑर खींचता है।  ये एक प्रकृति का ही नियम है।  हरेक प्राणी के लिए सरीर छोड़ ने से पूर्व उसके अनुसार  गर्भ तैयार रहता है । जो जैसा कर्म करता है उसे वैसा ही  गर्भ मिलता है । जहाँ किसी हिंस्रक - योनी मैं यैसा गर्भ  तैयार होगा , जहां उसकी सभी अतृप्त वासना की पूर्ति  के सारे साधन हों। जो मनुष्य अपनी हर मन की इच्छा की पूर्ति चाहता है। वो मनुष्य अपनी उन अतृप्त वासना के अनुसार ही पुनह  उत्त्पन्न होता है । परन्तु जिसने भी आत्मा साक्षात्कार कर लिया है । उस पूर्ण हुयी इच्छा वाले मनुष्य की समस्त कामनाएं उसी के सरीर मैं ही विलीन हो जाती है। ऑर वो मुक्त हो जाता है ।  जैसे की कहवत है की " अंत समय जो मति सो गति "।

 

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

New Dhyan Updates

Total views Views today
ध्यान : संयम साधना 17 15
ध्यान : "हां' का अनुसरण 16 14
सफलता कोई मूल्य नहीं है 14 12
दूसरे को तुम उतना ही देख पाओगे जितना तुम अपने को देखते हो 72 3
ओशो नटराज ध्‍यान की विधि 72 3
ओशो नाद ब्रह्म ध्‍यान 294 2
आज के युग मे ओशो सक्रिय ध्यान 97 2
ध्यान : अपना मुंह बंद करो! 34 2
ओशो डाइनैमिक ध्‍यान 50 2
ध्यान : प्रमुदिता प्रकाश है 36 2
ध्यान : सब काल्पनिक है 28 2
मैं एक युवती के प्रेम में था। वह मुझे धोखा दे गई ! मैं क्या करूं 47 2
चक्रमण सुमिरन एक वरदान है 106 1
प्रेम जितना बढ़ेगा, सेक्‍स उतना क्षीण होगा: ओशो 41 1
स्वर्णिम प्रकाश ध्यान : ओशो 86 1
समाधि का पहला अनुभव कैसा होता है? 41 1
जिबरिश ध्यान विधि 89 1
तकिया पीटना ( ध्यान ) - नकारात्मकता को निकाल फेंकना 45 1
दूसरे का अवलोकन करो 61 1
ध्यान : जहां कहीं भी तुम्हारा अवधान उतरे, उसी बिंदु पर, अनुभव। 24 1
ग्रंथियों का पता लगाने का एक प्रयोग 58 1
ध्यान -:पूर्णिमा का चाँद 63 1
जिस दिन जागरण पूर्ण होगा उस दिन : साक्षी साधना 42 1
पुनर्जन्‍म की बात 49 1
ध्वनि के केंद्र में स्नान करो 52 1
ओशो – अपनी नींद में ध्‍यान कैसे करें 78 0
ओशो —हर चक्र की अपनी नींद 99 0
अपनी श्वास का स्मरण रखें 94 0
प्रेम से भर रहा है ? 40 0
ध्यान विधि : - ओशो 56 0
स्त्रियां पुरुष के लिए आकर्षक क्यों बनना चाहती हैं जबकि वे पुरुषों की कामुकता जरा भी पसंद नहीं करतीं ? 45 0
ओशो की सक्रिय ध्यान विधि 494 0
सिरविहीन होने के प्रयोग को--करके देखो 68 0
ओशो जिबरिश ध्यान विधि 75 0
ओशो देववाणी ध्यान 553 0
बहुत समय बाद किसी मित्र से मिलने पर जो हर्ष होता है, उस हर्ष में लीन होओ। 69 0
प्यारे प्रभु! प्रश्नों के अंबार लगे हैं 37 0
प्रत्येक ध्यान के शीघ्र बाद करुणावान रहो 74 0
युवक कौन .... ?? 47 0
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 241 0
हँसने के पाँच फायदे 39 0
सैक्स मनुष्य की सर्वाधिक महत्वपूर्ण ऊर्जा का नाम है। 259 0
शांत प्रयोग सफल नहीं होता 73 0
स्‍त्री-पुरूष जोड़ों के लिए नाद ब्रह्म ध्‍यान 90 0
सहज योग 65 0
श्वास को शिथिल करो! 33 0
ओशो गौरीशंकर ध्‍यान 77 0
ध्यान आता है, एक फुसफुसाहट की तरह 65 0
ओशो स्टाॅप मेडिटेशन 38 0
संकल्प कैसे काम करता है? 57 0
साधक के लिए पहली सीढ़ी शरीर है 37 0
ओशो – तीसरी आँख सूक्ष्‍म शरीर का अंग है 76 0
साक्षी को खोजना— ओशो 92 0
त्राटक-एकटक देखने की विधि है | 88 0
पंख की भांति छूना ध्‍यान —ओशो 74 0
देखने के संबंध में सातवीं विधि 76 0
संन्यासी और गृहस्थी में क्या फर्क है? 41 0
नासाग्र को देखना (ध्‍यान)—ओशो 99 0