पथरी होने पर क्या नहीं खाना चाहिए

#1 बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन न लें

यदि आपको गुर्दे की पथरी है और आप जिम जा रहे हैं तथा अपनी डाइट को पूरा करने के लिए ज्यादा से ज्यादा प्रोटीन का सेवन कर रहे हैं, तो हो जाएं सावधान! ज्यादा प्रोटीन आपके पथरी की समस्या को और ज्यादा बिगाड़ सकती है। ऐसी स्थिति में बहुत अधि‍क मछली और मांस का सेवन करने से परहेज करें, क्योंकि पथरी में परहेज बहुत आवश्यक है।

#2 कोल्ड-ड्रिंक्स को करना होगा बाय-बाय

सॉफ्ट ड्रिंक्स पर ज्यादा प्यार दिखाना कई बार हमारे लिए घातक हो सकता है। इसके सेवन से किडनी, लीवर और दिल के साथ-साथ दांतों पर भी बुरा असर पड़ता है। यही नहीं इसका असर गुर्दे की पथरी पर भी पड़ता है। इसमें मौजूद फॉस्फोरिक एसिड स्टोन के खतरे को और बढ़ाता है। इसलिए कोशिश करें पथरी की समस्या में सॉफ्ट ड्रिंक्स से दूर ही रहें।

#3 ज्यादा सोडियम लेने से भी बचें

अन्य पोषक तत्वों की तरह सोडियम शरीर के लिए जरूरत होती है। इसकी कमी कई बीमारियों का कारण बन सकती है। दूसरी तरफ यदि आप सोडियम की मात्रा ज्यादा लेने लगते हैं, तो कई खतरनाक बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है। रक्तचाप बढ़ाने के साथ आपको पथरी की समस्या भी हो सकती है। इसलिए डिब्बा बंद खाना,जंक फूड और नमक के बहुत अधिक सेवन से बचना चाहिए।

#4 विटामिन सी का सेवन ज्यादा नहीं

शरीर को सेहतमंद और तंदुरूस्त रखने के लिए आहार में विटामिन सी का होना बहुत ही आवश्यक है। लेकिन क्या आपको पता है कि विटामिन सी के अति-सेवन से पथरी बनता है। विटामिन सी का संयमित इस्तेमाल करने से पथरी बनने का खतरा कम हो जाता है।

#5 ऑक्सलेट के सेवन में भी परहेज

पालक, साबुत अनाज आदि में ऑक्सलेट पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। इनका ज्यादा इस्तेमाल शरीर में पथरी बनाने का काम करता है। इसलिए इन्हें खाने से परहेज करें।

#6 बीज वाले सब्जियों से करें परहेज

सब्जियों के जरिए हमें विटामिन, प्रोटिन, कार्बोहाइड्रेट, और खनिज जैसे पोषक तत्व प्राप्त होते हैं, जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी होते हैं। लेकिन जिन लोगों को गुर्दे की पथरी है उन्हें बीज वाले सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि बीज स्टोन के कारण बन सकते हैं, जैसे टमाटर और बैंगन। इसके अलावा कच्चा चावल, उड़द और चने का अधिक सेवन करने से भी स्टोन की समस्या बढ़ जाती है।

पथरी की नई दवा

कुछ साल पहले एक शोध में सामने आया है कि ल्यूकेमिया और मिर्गी के लिए स्वीकृत दवाओं की एक श्रेणी, गुर्दे की पथरी के लिए भी प्रभावी हो सकती है। शोध में पाया गया कि इन दवाओं में से दो दवाएं- वोरिनोस्टेट और ट्रिचोस्टेटिन ए, मूत्र में कैल्शियम और मैग्नीशियम की मात्रा कम करती हैं। कैल्शियम और मैग्नीशियम दोनों ही गुर्दे की पथरी के मुख्य घटक हैं। हालांकि यह कितना प्रभावी है यह नहीं कहा जा सकता। इसलिए डॉक्टर से सलाह लिए बिना इन दवाओं को कभी न लें।

 

 

पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज

पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज

पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज

पथरी होना आजकल एक आम समस्या बन गयी है अगर किसी को पथरी हो जाये तो उसको बहुत तकलीफ झेलनी पढ़ती है इसीलिए आज हम आपको इस पोस्ट में पथरी के इलाज के बारे में बताएँगे जो एकदम सरल और प्रभावी भी है पथरी औरतों की अपेक्षा मर्दों में तीन गुना अधिक पाई जाते है और ज़्यादातर पथरी 20 से लेकर 30 साल तक के लोगों में देखने को मिलते है अगर आप जानना चाहते हैं के पथरी के लक्षण क्या होते हैं और इसका इलाज कैसे संभव है 

पथरी के लक्षण  Read More : पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज about पथरी के लक्षण और पथरी का इलाज