योग का महत्व

वर्तमान समय में शारीरिक श्रम कम हो गया है जिससे हम अक्सर बीमार रहने लगे हैं अतः सभी के लिए योग करना जरूरी हैGhazi

योग क्या है योग के फायदे

योग के प्रकार और फायदे, योग के लाभ, योगा क्या है, आसन के लाभ, योग का महत्व, योग के फायदे हिंदी में, योगा कैसे करे, योग से हानि

योग और प्राणायाम दिखने में तो सरल लगते हैं परंतु उनका संपूर्ण लाभ लेने के लिए कुछ विशेष नियमों का पालन करना बेहद जरुरी है। अगर आप इन नियमो का पालन नहीं करते हैं तो योग से होने वाले फायदे तो नहीं ही मिलते हैं अपितु हानि भी हो सकती है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर हम नए रोगियों के लिए इन विशेष नियमों को एक बार फिर से लेकर आए हैं

श्री श्री योग

योग के प्रकार और फायदे, योग के लाभ, योग के आसन, योग क्या है, योग का इतिहास, योग का महत्व, योग की परिभाषा, बाबा रामदेव योग आसन

श्री श्री योग जीवन का एक समग्र तरीका है जो योग के प्राचीन ज्ञान के सभी तत्वों को एकीकृत करता है, ताकि प्रार्थनापूर्वक अनुशासनमय रहते हुए, शरीर, मन और आत्मा को एक कर सकें। सरल श्रृंखला के साथ-साथ, हालांकि प्रभावी योगआसन और श्वास तकनीक में, ध्यान के आंतरिक अनुभव पर अधिक जोर दिया जाता है, क्योंकि मन के स्वास्थ्य और मानव अस्तित्व से जुडे अन्य छिपे हुए तत्वों के लिए यह जरुरी है। हम मानते हैं कि जब किसी के भीतर सद्भाव होता है; तो जीवन के माध्यम से यात्रा शांत, सुखद और अधिक परिपूर्ण हो जाती है।

योग क्या है?

योग का महत्व, योगा प्रकार, योग के लाभ, योग के आसन, योगा कैसे करे, योग का इतिहास, योग की परिभाषा, योग का जीवन में महत्व

योग शब्द संस्कृत धातु 'युज' से निकला है, जिसका मतलब है व्यक्तिगत चेतना या आत्मा का सार्वभौमिक चेतना या रूह से मिलन। योग, भारतीय ज्ञान की पांच हजार वर्ष पुरानी शैली है । हालांकि कई लोग योग को केवल शारीरिक व्यायाम ही मानते हैं, जहाँ लोग शरीर को मोडते, मरोड़ते, खिंचते हैं और श्वास लेने के जटिल तरीके अपनाते हैं। यह वास्तव में केवल मनुष्य के मन और आत्मा की अनंत क्षमता का खुलासा करने वाले इस गहन विज्ञान के सबसे सतही पहलू हैं। योग विज्ञान में जीवन शैली का पूर्ण सार आत्मसात किया गया है|

योग से पाएं खतरनाक रोगों पर नियंत्रण

योग के लाभ, योग के प्रकार और फायदे, योगा क्या है, योगा प्रकार, योग के फायदे हिंदी में, benefits of yoga in hindi, आसन के लाभ, योग का महत्व

किसी कठिन और थका देने वाली दो-ढाई घंटे लंबी कसरत के बजाय बीस से तीस मिनट तक किया जाने वाला योगाभ्यास ज्यादा कारगर होता है। कसरत में फिर भी नुकसान की गुंजाइश रहती है क्योंकि पता नहीं शरीर में कौन सा रोग पल रहा है और की जा रही कसरत अपने दबाव से उस रोग को बढ़ा या बिगाड़ दे।