अष्टांग योग क्या है

अष्टांग योग, अष्टांग योग के लाभ, अष्टांग योग का महत्व, अष्टांग योग की परिभाषा, अष्टांग योग ऑफ पतंजलि, यम और नियम क्या है, यम योग की परिभाषा

अष्टांग योग इस प्रकार है - हमारे ऋषि मुनियों ने योग के द्वारा शरीर मन और प्राण की शुद्धि तथा परमात्मा की प्राप्ति के लिए आठ प्रकार के साधन बताएँ हैं, जिसे अष्टांग योग कहते हैं..

इसके निम्नलिखित प्रकार हैं-

  • यम
  • नियम
  • आसन
  • प्राणायाम
  • प्रात्याहार
  • धारणा
  • ध्यान
  • समाधि

इस आसान और प्राणायाम के बारे में बात करेंगे जिसे आप घर पर बैठकर आसानी से कर सकते हैं और अपने जीवन को निरोगी बना सकते हैं

आसान से तात्पर्य और उसके प्रकार 

आसान से तात्पर्य शरीर की वह स्थिति है जिसमें आप अपने शरीर और मन को शांत स्थिर और सुख से रख सकें.

स्थिरसुखमासनम्: सुखपूर्वक बिना कष्ट के एक ही स्थिति में अधिक से अधिक समय तक बैठने की क्षमता को आसन कहते हैं।

योग शास्त्रों के परम्परानुसार चौरासी लाख आसन हैं और ये सभी जीव जंतुओं के नाम पर आधारित हैं। इन आसनों के बारे में कोई नहीं जानता इसलिए चौरासी आसनों को ही प्रमुख माना गया है. और वर्तमान में बत्तीस आसन ही प्रसिद्ध हैं।

आसनों को अभ्यास शारीरिक, मानसिक एवं आध्यात्मिक रूप से स्वास्थ्य लाभ एवं उपचार के लिए किया जाता है।

आसन के दो समूह में बांटा गया -

  • गतिशील आसान
  • स्थिर आसान

गतिशील आसन- वे आसन जिनमे शरीर शक्ति के साथ गतिशील रहता है.

स्थिर आसन- वे आसन जिनमे अभ्यास को शरीर में बहुत ही कम या बिना गति के किया जाता है.

Vote: 
No votes yet