एकपाद उत्तानासन

विधि-सर्वप्रथम सीधे चित्त पीठ के बल लेट जाइए हाथों को बिल्कुल शरीर के बराबर रखिए अब धीरे से साँस लेते हुए दायें पैर को( घुटने से सीधा रखते हुए ) 60 डिग्री का कोण बनाते हुए उठाइए और साँस निकालते हुए वापिस लाइए ठीक  इसी तरह  बायें पैर से दोहराईए 

एक बार दायें से और एक बार बायें से 

इसी  तरह 4-5 बार दोहराए

लाभ-पेट की समस्यायों में लाभकारी वायु को नियंत्रित करता है अपच में लाभ देता है आँतो लिवर व गुर्दों में भी लाभप्रद पेट के निचले हिस्से की चर्बी कम करता हैइस आसन से उदर के काफ़ी रोग ठीक होते हैं   

 

 

Vote: 
No votes yet