त्राटक मेडिटेशन क्या है?

त्राटक मेडिटेशन

त्राटक योगा की प्रमुख टेकनीक या कहे की क्रिया या साधना है. त्राटक शब्द का अर्थ – त्राटक शब्द का अर्थ होता है किसी एक विशेष वस्तु पर अपनी नजरो से लगातार देखते रहना. त्राटक क्रिया हठ योगा का एक प्रकार है. यह हठ योगा के सात अंगो में से एक अंग षटकर्म की एक क्रिया है. हठयोग में इस क्रिया का वर्णन दृष्टि को जाग्रत करने की शक्ति के रूप में किया गया है. आँखों को आत्मा का प्रवेशद्वार माना जाता है. त्राटक साधना द्वारा आँखों को आत्मा और मन के बीच संपर्क स्थापित करने के लिए प्रयोग में लाया जाता है. त्राटक मेडिटेशन शरीर को शक्ति और शुद्धी प्रदान करने के लिए की जाती है.
आज के जमाने में त्राटक क्रिया का महत्व
आधुनिकीकरण के इस जमाने में मानव के जीवन में तनाव, अवसाद, अशांति, नकारात्मक विचार भी शामिल हो गए है. कई तरह की रिसर्चे सामने आई है जिनसे पता चला है की मानव कई सारी उर्जा और समय अनावश्यक विचारो को सोचने में लगा देता है. ऐसी स्थिति में त्राटक साधना द्वारा वह अपने विचारो और उर्जा को सही दिशा प्रदान कर सकता है. इस मेडिटेशन से आप अनचाहे और नकारत्मक विचारो को अपने जीवन से बाहर फेंक पायेंगे. त्राटक क्रिया से आपका फोकस बढेगा, अशांति दूर होगी और आप तनावमुक्त जीवन जी पाओगे.
त्राटक मेडिटेशन के क्या लाभ होते है.
त्राटक मेडिटेशन का प्रयोग वैसे तो ज्यादातर आध्यात्मिक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए किया जाता है लेकिन इसके अलावा भी इस योग के कई लाभ होते है. जिनका मन बहुत चंचल होता है, मन में हर समय तरह तरह के विचार आते है, जो मन को एकाग्रचित नहीं रख पाते. उनके लिए त्राटक साधना बहुत उत्तम होती है. त्राटक साधना से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है. त्राटक मेडिटेशन का इस्तेमाल अपनी याददाश्त और फोकस पॉवर बढ़ाने के लिए किया जाता है. यह योग आँखों के लिए भी बहुत अच्छा होता है और इससे आँखों की रौशनी बढती है. नेत्र संबंधी रोगों को ठीक करता है. मन को शांत रखता है. जिन लोगो का मन अशांत रहता है उनके लिए ये बहुत लाभदायक होता है.
 

Vote: 
No votes yet
Quiz: