योगासन क्या करता है

योगासन क्या करता है
1. शरीर के अन्दर एवं बाह्य दोनों नस नाडि़यों, ग्रन्थियों व मांसपेशियों को लचीला, पुष्ट, सुदृढ बनाता है।
2. इससे शरीर में स्फुर्ति, ताजगी व हल्केपन का अनुभव होता है, अन्य परिश्रम हेतु पूर्ण उत्साह एवं अभिरूचि होती है।
3. इसे सब उम्र के व्यक्ति कर सकते। व्यस्त व्यक्ति भी 10 मिनट निकाल सकते हैं।
4. 10 से 15 मिनट का समय स्वस्थ रहने हेतु पर्याप्त है।

5. योगासन में किसी भी वस्तु, स्थान या व्यक्ति विशेष पर अवलम्बित नहीं रहना पड़ता जब इच्छा वहीं पर कर सकते हैं।
6. इसके अभ्यास से शरीर मुलायम, लचीला व सहनशील बनता है। बीमारी दूर भागती है, दीर्घायु व स्वस्थ जीवन की प्राप्ति होती है। वात, गठिया रोग तो हो ही नहीं सकते।
7. कुछ समय के लिये योगासन का अभ्यास छोड देने से शरीर में कोई दर्द नहीं होता। साथ ही आसन के प्रभाव का अनुभव यदा कदा होता है।
8. वर्तमान में इसके उपचारात्मक महत्व को डाॅ. व वैज्ञानिक भी मानते हैं।
9. इससे शरीर की सूक्ष्म शक्तियों का जागरण होकर प्रतिभा एवं शक्ति का समुचित विकास होता है।

कपालभाति के अभ्यास की विधि

ध्यान के किसी भी आसन जैसे पद्मासन, सिद्धासन, सुखासन या कुर्सी पर रीढ़, गला व सिर को सीधा कर बैठ जाइए। हाथों को घुटनों पर मजबूती से रखिए। अब आंखों को हल्का बन्द कर नासिका द्वारा सामान्य श्वास अन्दर लीजिए तथा हल्के-हल्के श्वास बाहर निकालिए। इस क्रिया का अभ्यास 15 से 25 बार कीजिए। धीरे-धीरे इसकी आवृत्ति 4 से 5 मिनट तक कीजिए। किन्तु उच्च रक्तचाप, हाइपर एसिडिटी तथा हाइपर थायराइड से ग्रस्त व्यक्ति इसका अभ्यास योग्य मार्गदर्शन में करें।

योग निद्रा एवं ध्यान

लगातार मानसिक तनाव, भावनात्मक असंतुलन, निराशा तथा कुंठा में जीने वाले अति आहारी मोटे व्यक्तियों के लिए योगनिद्रा एवं ध्यान रामबाण औषधि की तरह उपयोगी है। यह ऐसे व्यक्तियों की जीवन शैली को सुधारता है।

आहार

 

मोटे व्यक्तियों को लम्बा उपवास नहीं करना चाहिए। ऐसे लोगों को सादा, सुपाच्य, पौष्टिक तथा संतुलित भोजन लेना चाहिए। टमाटर, लौकी, खीरे के रस में नींबू व शहद मिलाकर लें। ककड़ी, कुलथी, टमाटर, पालक, चने की दाल लें। अंगूर, सेब, पपीता तथा संतरा जैसे फल लें। अधिक मात्र में शर्करा, मिठाइयां, वसा, मसाले, दूध तथा दुग्ध पदार्थ, चावल एवं परिष्कृत आहार कम लें। अनाज, फल, दही एवं सब्जियां पर्याप्त मात्र में लेना चाहिए।

 
 
Vote: 
No votes yet