योग क्या है योग के फायदे

योग के प्रकार और फायदे, योग के लाभ, योगा क्या है, आसन के लाभ, योग का महत्व, योग के फायदे हिंदी में, योगा कैसे करे, योग से हानि

योग और प्राणायाम दिखने में तो सरल लगते हैं परंतु उनका संपूर्ण लाभ लेने के लिए कुछ विशेष नियमों का पालन करना बेहद जरुरी है। अगर आप इन नियमो का पालन नहीं करते हैं तो योग से होने वाले फायदे तो नहीं ही मिलते हैं अपितु हानि भी हो सकती है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर हम नए रोगियों के लिए इन विशेष नियमों को एक बार फिर से लेकर आए हैं

योग शब्द संस्कृत धातु 'युज' से निकला है, जिसका मतलब है व्यक्तिगत चेतना या आत्मा का सार्वभौमिक चेतना या रूह से मिलन। योग, भारतीय ज्ञान की पांच हजार वर्ष पुरानी शैली है ।योग एक प्राचीन भारतीय जीवन-पद्धति है। जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने (योग) का काम होता है। योग के माध्यम से शरीर, मन और मस्तिष्क को पूर्ण रूप से स्वस्थ किया जा सकता है। तीनों के स्वस्थ रहने से आप स्‍वयं को स्वस्थ महसूस करते हैं। योग के जरिए न सिर्फ बीमारियों का निदान किया जाता है, बल्कि इसे अपनाकर कई शारीरिक और मानसिक तकलीफों को भी दूर किया जा सकता है। योग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाकर जीवन में नव-ऊर्जा का संचार करता है।  हालांकि कई लोग योग को केवल शारीरिक व्यायाम ही मानते हैं, जहाँ लोग शरीर को मोडते, मरोड़ते, खिंचते हैं और श्वास लेने के जटिल तरीके अपनाते हैं।

योग और प्राणायाम के निम्न नियम

  • स्नान करने के के आधे घंटे पहले या आधे घंटे बाद योग करना चाहिए।
  • योग करने के लिए हमेशा स्वच्छ वातावरण एवं हवादार स्थल का चुनाव करें।
  • योग और प्राणायाम खाली पेट करना चाहिए।
  • योगाभ्यास करते वक्त जमीन का फर्श पर गिरी चटाई अथवा योगा मैट का प्रयोग करिए।
  • खाना खाने के कम से कम 2 घंटे बाद ही योगाभ्यास करें।
  • योग अभ्यास करने के कम से कम 30 मिनट बाद ही आहार ग्रहण करें।
  • योगाभ्यास में प्राणायाम पहले करें एवं आसन बाद में।
  • योग करते समय अगर आपको छींक आती है या पेशाब आती है तो इस वेब को रोककर नहीं रखना चाहिए।
  • सभी आसन समाप्त होने के बाद 5 मिनट तक शवासन जरूर करें।
  • हर दो अलग प्राणायाम या योगासन के बीच में एक से 2 मिनट का अंतराल रखें।
  • अगर आप बीमार हैं या आपको कोई शारीरिक तकलीफ है तो अपने डॉक्टर की सलाह ले कर ही योग करें।
  • गर्भवती महिलाओं को योग विशेषज्ञ और डॉक्टर की सलाह के बाद योग करना चाहिए।
  • योग करते समय अगर आपक चक्कर आना, जी मचलाना, सिर दर्द आदि कोई समस्या होती हो तो योग रोक कर अपने डॉक्टर अथवा योग विशेषज्ञ से सलाह लें।
  • योग करते वक्त कोई जल्दीबाजी ना करें, और शांत मन से योग का अभ्यास करें।
  • योगासनों की समय अवधि धीरे-धीरे बढ़ानी चाहिए। पहले दिन से अपेक्षा से अधिक योग करना हानिकारक हो सकता है।
  • योग हमेशा योग विशेषज्ञ की देखरेख में ही करें। पूरी तरह प्रशिक्षित होने के बाद ही अकेले योग करें।
  • योग करने का सबसे बेहतर समय सुबह का होता है। #सूर्योदय के आधा घंटा पहले से लेकर 1 घंटे बाद तक योग करने के विशेष लाभ होते हैं।
  • योग से जुड़ा कोई भी प्रश्न अगर मन में हो तो सिर्फ विशेषज्ञ से ही जानकारी प्राप्त करें।
  • योग करते वक्त पेट साफ होना आवश्यक है।
  • योग का पूरा लाभ मिले इसके लिए रोजाना योगाभ्यास करना जरूरी है। हफ्ते में दो 4 दन योग करने से इसके कोई विशेष लाभ नहीं होते है 

 

Vote: 
Average: 1 (1 vote)