साप्ताहिक ध्यान : काम ऊर्जा से मुक्ति

काम ऊर्जा से मुक्ति

जब काम ऊर्जा वैसी नहीं बह रही जैसी बहनी चाहिए, तो यह बहुत सी समस्याएं पैदा करती है।

 

यदि काम ऊर्जा बिल्कुल सही बह रही है तब हर चीज सही गूंजेगी, हर चीज लयबद्ध रहती है। तब तुम सरलता से सुर में हो और एक किस्म का तारतम्य होगा। एक बार काम ऊर्जा कहीं अटक जाती है तो सारे शरीर पर प्रभाव होते हैं। और पहले वे दिमाग में आएंगे हैं, क्योंकि सेक्स और दिमाग विपरीत धुरी हैं। 

 

यही कारण है कि जो लोग बहुत ज्यादा दिमागदार होते हैं वे कामानंद, आर्गाज्म की गुणवत्ता खोने लगते हैं। उन्होंने उनकी काम ऊर्जाओं को या तो दबा दिया है या उनकी उपेक्षा कर दी है। वह उनके दिमाग में रहती है, उनका सारा आनंद वहां है। उनका सारा शरीर दुखी होता है और सिर तानाशाह बन जाता है। 

 

सिर्फ दो चीजें करना शुरु करो: हर सुबह, अपनी नींद के बाद, कमरे के बीच में खड़े हो जाओ और सारा शरीर हिलाना शुरु कर दो। हिलाने वाली मशीन बन जाओ – अंगूठे से सिर तक सारे शरीर को हिला दो और महसूस करो कि यह बिल्कुल संभोग के आनंद जैसा है … जैसे कि यह तुम्हें संभोग का आनंद दे रहा है। इसका आनंद लो, इसका पोषण करो, और यदि तुम ऐसा महसूस कर रहे हो कि तुम कुछ आवाजें निकालना चाहते हो, उन्हें निकालो, और सिर्फ इसका आनंद लो – दस मिनट के लिए। 

 

तब सारे शरीर को सूखे तौलिए से सहलाओ और नहा लो। यह हर सुबह करो, और दो से तीन सप्ताह में संतुलन आ जाएगा। 

 

Vote: 
No votes yet