Yog

मार्जारी आसन एक बहुत ही सरल आसन है

मार्जारी आसन एक बहुत ही सरल आसन है

मार्जारी आसन एक बहुत ही सरल आसन है जो कि खासतौर पर रीढ़ को लचीला बनाने के लिये किया जाता है। रीढ़ हमारे शरीर का स्‍तंभ होता है, अगर यह ठीक नहीं रहेगा तो आप ठीक से काम नहीं कर पाएंगे। मार्जारी आसन करने में बहुत ही आसान है। अगर आपको पीठ दर्द रहता है तो आप के लिये यह मार्जारी आसन बहुत लाभकारी होगा। पीठ दर्द की वजह से शरीर के अन्‍य भाग जैसे, कंधों में दर्द, मांसपेशियों में लोच की कमी, वजन का घटना, गर्दन में दर्द, कमजोरी और कभी-कभी सिरदर्द की भी शिकायत हो सकती है। मार्जारी आसन महिलाओं के लिए विशेष रूप से लाभदायक है। गर्भावस्था के दौरान पहले तीन महीने तक मार्जारी आसन का अभ्यास कि Read More : मार्जारी आसन एक बहुत ही सरल आसन है about मार्जारी आसन एक बहुत ही सरल आसन है

सुबह चलते-फिरते करें ये ,प्राणायाम अनेक रोग हो जाएंगे दूर

इस प्रकार करे भ्रमण और प्राणायाम

  • इसे करने के लिए आपको नियमित टहलना है। जब भी आप टहले उस समय आपके शरीर को बिलकुल सीधा रखें और धीरे-धीरे सांस लें। सांस लेते वक्त अपने मन में 1 से 4 तक गिनती करें। गिनती लेने तक आपको पूर्ण सांस लेना है फिर सांस छोड़ें। ऐसा जरुरी नहीं की आप सांस लेते या छोड़ते वक्त संख्या की गिनती ही करें।
Read More : सुबह चलते-फिरते करें ये ,प्राणायाम अनेक रोग हो जाएंगे दूर about सुबह चलते-फिरते करें ये ,प्राणायाम अनेक रोग हो जाएंगे दूर>

अष्टांग योग क्या है

अष्टांग योग, अष्टांग योग के लाभ, अष्टांग योग का महत्व, अष्टांग योग की परिभाषा, अष्टांग योग ऑफ पतंजलि, यम और नियम क्या है, यम योग की परिभाषा

अष्टांग योग इस प्रकार है - हमारे ऋषि मुनियों ने योग के द्वारा शरीर मन और प्राण की शुद्धि तथा परमात्मा की प्राप्ति के लिए आठ प्रकार के साधन बताएँ हैं, जिसे अष्टांग योग कहते हैं..

इसके निम्नलिखित प्रकार हैं-

  • यम
  • नियम
  • आसन
  • प्राणायाम
  • प्रात्याहार
  • धारणा
  • ध्यान
  • समाधि

इस आसान और प्राणायाम के बारे में बात करेंगे जिसे आप घर पर बैठकर आसानी से कर सकते हैं और अपने जीवन को निरोगी बना सकते हैं

आसान से तात्पर्य और उसके प्रकार  Read More : अष्टांग योग क्या है about अष्टांग योग क्या है

योग का इतिहास

वेदों में योग, योग दर्शन का इतिहास, योग शिक्षा का महत्व, योग का संक्षिप्त इतिहास, योगाचा इतिहास, योग की हिस्ट्री, योग का परिचय, योग का लाभ

योग दस हजार साल से भी अधिक समय से प्रचलन में है। मननशील परंपरा का सबसे तरौताजा उल्लेख, नासदीय सूक्त में, सबसे पुराने जीवन्त साहित्य ऋग्वेद में पाया जाता है। यह हमें फिर से सिन्धु-सरस्वती सभ्यता के दर्शन कराता है। ठीक उसी सभ्यता से, पशुपति मुहर (सिक्का) जिस पर योग मुद्रा में विराजमान एक आकृति है, जो वह उस प्राचीन काल में  योग की व्यापकता को दर्शाती है। हालांकि, प्राचीनतम उपनिषद, बृहदअरण्यक में भी, योग का हिस्सा बन चुके, विभिन्न शारीरिक अभ्यासों  का उल्लेख  मिलता है। छांदोग्य उपनिषद में प्रत्याहार का तो बृहदअरण्यक के एक स्तवन (वेद मंत्र) में  प्राणायाम के अभ्यास का  उल्लेख मिलता है। यथावत, ”य Read More : योग का इतिहास about योग का इतिहास

योग क्या है?

योग का महत्व, योगा प्रकार, योग के लाभ, योग के आसन, योगा कैसे करे, योग का इतिहास, योग की परिभाषा, योग का जीवन में महत्व

योग शब्द संस्कृत धातु 'युज' से निकला है, जिसका मतलब है व्यक्तिगत चेतना या आत्मा का सार्वभौमिक चेतना या रूह से मिलन। योग, भारतीय ज्ञान की पांच हजार वर्ष पुरानी शैली है । हालांकि कई लोग योग को केवल शारीरिक व्यायाम ही मानते हैं, जहाँ लोग शरीर को मोडते, मरोड़ते, खिंचते हैं और श्वास लेने के जटिल तरीके अपनाते हैं। यह वास्तव में केवल मनुष्य के मन और आत्मा की अनंत क्षमता का खुलासा करने वाले इस गहन विज्ञान के सबसे सतही पहलू हैं। योग विज्ञान में जीवन शैली का पूर्ण सार आत्मसात किया गया है| Read More : योग क्या है? about योग क्या है?

यदि आप अनिद्रा से पीड़ित है

यदि आप अनिद्रा से पीड़ित है

यदि आदतन आप को रात को अच्छी नींद नहीं आती,तो यह संभव है कि आप की उम्र तेजी से ज्यादा बढ़ रही है और इसके अतिरिक्त आप को अच्छा नहीं लगता होगा और आपकी भ्रमित सोच होगी | जब हम नींद में होते हैं तब हमारा शरीर के कोशिका स्तर में सुधार होता है और विषाक्त पदार्थों का निष्कासन होता है | इसलिये प्रतिदिन ६-८ घंटों की नींद आवश्यक है |

यदि आप की पर्याप्त नींद नहीं होती, तो योग इसमें सहायता करेगा | निरंतर योग के अभ्यास से कई रोगों का निदान हुआ है जिसमें अनिद्रा और असामान्य नींद की आदतें शामिल है | दिन के अंत में योग तनाव से मुक्ति देता है जिससे रात में अच्छी नींद आती है | Read More : यदि आप अनिद्रा से पीड़ित है about यदि आप अनिद्रा से पीड़ित है

योग को जल्दबाजी में न करके

योग करने का समय, चेहरे के लिए आसन, योग करने के नियम, ऑपरेशन के बाद पेट कम करने का उपाय, नर्वस सिस्टम का इलाज, योगासन करने की विधि, पेट कम करने के योगासन, हर्निया के लिए योगासन

एकांत में और आराम की स्थिति में किया जाने वाला योग है कपालभाती। इसे किसी भी उम्र के लोग कर सकते हैं। 

लाभ

डायबिटीज, जोड़ों का दर्द, आर्थराइटिस, सांस व पेट संबंधी रोग, कब्ज, मोटापा व तनाव जैसी बीमारियों को दूर करने के साथ ही सकारात्मक सोच विकसित होती है। दिल के रोगियों को धीमी गति से इस योग को करना चाहिए। 

कब करें  Read More : योग को जल्दबाजी में न करके about योग को जल्दबाजी में न करके

योग के प्रकार

योग के प्रकार

"योग" में विभिन्न किस्म के लागू होने वाले अभ्यासों और तरीकों को शामिल किया गया है।

  • 'ज्ञान योग' या दर्शनशास्त्र
  • 'भक्ति योग' या  भक्ति-आनंद का पथ
  • 'कर्म योग' या सुखमय कर्म पथ

राजयोग, जिसे आगे आठ भागों में बांटा गया है, को अष्टांग योग भी कहते हैं। राजयोग प्रणाली का आवश्यक मर्म, इन विभिन्न तरीकों को संतुलित और एकीकृत करने के लिए, योग आसन का अभ्यास है। Read More : योग के प्रकार about योग के प्रकार

सभी के लिए योग

सभी के लिए योग

योग की सुंदरताओं में से, एक खूबी यह भी है कि बुढे या युवा, स्वस्थ (फिट) या कमजोर सभी के लिए योग का शारीरिक अभ्यास लाभप्रद है और यह सभी को उन्नति की ओर ले जाता है। उम्र के साथ साथ आपकी आसन की समझ ओर अधिक परिष्कृत होती जाती है। हम बाहरी सीध और योगासन  के तकनिकी (बनावट) पर काम करने बाद अन्दरूनी सुक्ष्मता पर अधिक कार्य करने लगते है और अंततः हम सिर्फ आसन में ही जा रहे होते हैं। Read More : सभी के लिए योग about सभी के लिए योग

योग से पाएं खतरनाक रोगों पर नियंत्रण

योग के लाभ, योग के प्रकार और फायदे, योगा क्या है, योगा प्रकार, योग के फायदे हिंदी में, benefits of yoga in hindi, आसन के लाभ, योग का महत्व

किसी कठिन और थका देने वाली दो-ढाई घंटे लंबी कसरत के बजाय बीस से तीस मिनट तक किया जाने वाला योगाभ्यास ज्यादा कारगर होता है। कसरत में फिर भी नुकसान की गुंजाइश रहती है क्योंकि पता नहीं शरीर में कौन सा रोग पल रहा है और की जा रही कसरत अपने दबाव से उस रोग को बढ़ा या बिगाड़ दे। Read More : योग से पाएं खतरनाक रोगों पर नियंत्रण about योग से पाएं खतरनाक रोगों पर नियंत्रण

Pages