अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं

अल्कोहल ड्रिंक्स

 अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं. इसकी वजह है कि अल्कोहल ड्रिंक्स ये दोनों ही आपके शरीर से पानी निकालते हैं और गले में सूखापन लाते हैं. इसीलिए अगर आप अगर अपनी संगीत साधना को लेकर गम्भीर हैं तो कॉफी और अल्कोहल ड्रिंक्स से कोसों दूर रहें.

अगर आप को mouthwash / gargle (गरारा/कुल्ला) करने की सलाह दी गयी है या फिर आप गले को स्वस्थ रखने के लिए करना चाहते हैं तो जहाँ तक संभव हो अल्कोहल वाले या फिर chemical वाले mouthwash का प्रयोग न करें. chemical दवाओं का प्रयोग तो बिलकुल भी न करें. इससे गले की सतह प्रभावित होती है. करना ही है तो पानी गुनगुना कर के, थोड़ा नमक मिला कर फिर कुल्ला/ गरारा करें, इससे गले की सफाई तो होगी ही, गले को कोई नुकसान भी नहीं होगा.

गले की उत्तम प्रकृति को बनाए रखने के लिए जरूरी है की उसे धुएं से बचाया जाये. धूम्रपान करना या फिर सिगरेट / बीड़ी के धुएं के आसपास रहना, दोनों ही गले की आवाज़ बनाने वाली झिल्ली (vocal folds) को खुरदरा बना देता हैं, आवाज़ की रेंज को घटाता है और सबसे जरूरी बात ये कि धूम्रपान से होने वाला नुकसान स्थायी हो जाता है जिसे सुधारना लगभग असम्भव ही होता है.

आम आदमी के गला एक बस सामान्य सा शरीर का हिस्सा है जो उन्हें उनकी पहचान वाली आवाज़ देता है. रोजाना की जिंदगी में आम आदमी का गले पर कोई खास ध्यान नहीं जाता। लेकिन गायकी के कलाकार के लिए गला उनकी कला का सर्वोच्च और सबसे महत्वपूर्ण साधन है, यन्त्र है. इसीलिए गायक के लिए आवश्यक है कि रोजमर्रा की बातों में, रियाज़ करते समय और संगीत प्रस्तुतियों में गले पर बहुत जोर न पड़े. आम बात चीत में बहुत ज्यादा चिल्लाना और तेज आवाज़ में बात करना धीरे धीरे गले की पेशियों को सुरों की नाजुक महीन उतार चढाव को सँभालने में अक्षम करने लगता है. इसी तरीके से, रियाज़ करते समय इस बात का ध्यान रखें कि गले पर बहुत जोर न पड़े. जब गाने का अभ्यास करते करते गले में थोड़ा दर्द महसूस हो या फिर तनाव महसूस हो तो गले को आराम दें, रियाज़ से ब्रेक लें और जब तक गला फिर से आराम के साथ दुबारा मेहनत के लिए तैयार न हो, तब तक दुबारा अभ्यास न करें. गले को एक रबरबैंड की तरह समझें. अपनी हद समझें और जरूरत से ज्यादा न खींचे नहीं तो स्थायी रूप से नुक्सान हो सकता है.

गायकों के साथ एक और बात देखी गयी है. गले में थोड़ा खराश होने से वो बार बार गले को जोर से खरखराहट के साथ साफ़ करते रहते हैं. ये अच्छी आदत नहीं है. ऐसा करने से गले में और ज्यादा उत्तेजना पैदा होती है और साथ ही गला प्राकृतिक रूप से और ज्यादा कफ पैदा करता है. ख़राश को साफ़ करने के लिए सबसे अच्छा तरीका है पूरी तरीके से खाँसना। जब भी गले में ख़राश हो तो बार बार गला साफ करने की बजाय थोड़ा खांस लें. अब बात तो ये छोटी सी ही है लेकिन जो संगीत साधना में महारथ रखते हैं, वो जानते हैं कि ये कितनी महत्वपूर्ण हैं.

Vote: 
No votes yet

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,148 4
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 6,033 4
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,528 4
राग भूपाली 1,333 3
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 513 2
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 479 2
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 566 2
राग रागिनी पद्धति 1,560 1
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,854 1
शुद्ध स्वर 1,129 1
राग दरबारी कान्हड़ा 1,190 1
राग ललित! 983 1
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 885 1
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 1,029 1
टप्पा गायन : एक परिचय 66 1
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 29 1
राग मुलतानी 467 1
राग यमन (कल्याण) 1,188 1
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 928 1
राग बहार 676 1
रागों के प्रकार 1,984 1
षड्जग्राम-तान बोधिनी 169 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 390 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 155 0
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 341 0
स्वर (संगीत) 763 0
राग- गौड़ सारंग 270 0
स्वर मालिका तथा लिपि 721 0
आविर्भाव-तिरोभाव 945 0
स्वर मालिका तथा लिपि 1,155 0
वादी - संवादी 941 0
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,919 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 587 0
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,777 0
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,383 0
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 723 0
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,339 0
रागों का विभाजन 274 0
रागों मे जातियां 1,872 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 1,091 2
हारमोनियम के गुण और दोष 2,551 1
संगीत शास्त्र परिचय 2,409 1
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 557 1
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,093 0
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,310 0
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 381 0
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 461 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,188 0
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 338 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 196 0
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 647 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 338 0
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 301 0
संगीत का विकास और प्रसार 949 0
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 538 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 859 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 468 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 963 0
भारतीय संगीत 476 0
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 252 0
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,375 0
रागों का सृजन 451 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 357 0
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 633 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 418 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 725 0
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 610 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 733 2
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 38 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,153 1
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 487 1
गुरु की परिभाषा 1,414 1
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 486 1
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 1,093 0
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 649 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 256 0
टांसिल होने पर 410 0
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 445 0
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 495 0
माइक्रोफोन की हानि : 300 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 464 0
कंठध्वनि 395 0
माइक्रोफोन के प्रकार : 600 0
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 475 0
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 524 0
नई स्वरयंत्र की सूजन 408 0
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 768 0
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 388 0
गायकी और गले का रख-रखाव 468 0
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 555 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 568 0
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 686 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 479 0
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 223 0
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 408 0
भारतीय कलाएँ 457 0
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 713 0
शास्त्रीय संगीत और योग 611 0
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,127 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 489 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 698 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 961 0
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 933 0
वीडियो
Total views Views today
वंदेमातरम् 214 1
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 466 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 242 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 358 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 288 0
राग यमन 321 0
मोरा सइयां 233 0
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 861 0
कर्ण स्वर 302 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 3,187 1
कैराना का किराना घराने से नाता 310 0
गुरु-शिष्य परम्परा 794 0
भारत में संगीत शिक्षण 1,162 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 909 0
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 341 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 262 0
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 91 0
माइक्रोफोन का कार्य 307 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 232 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 183 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 258 0
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 308 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
बैजू बावरा 510 0
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 525 0
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 188 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 169 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 474 0
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 596 0
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 55 0
रचन: श्री वल्लभाचार्य 641 0
अकबर और तानसेन 573 0
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 460 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत के स्वर 348 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 205 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 181 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 194 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 167 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 160 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 156 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 122 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 194 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 163 0
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 197 0