कंठध्वनि

स्वर (Voice) या कंठध्वनि की उत्पत्ति उसी प्रकार के कंपनों से होती है जिस प्रकार वाद्ययंत्र से ध्वनि की उत्पत्ति होती है। अत: स्वरयंत्र और वाद्ययंत्र की रचना में भी कुछ समानता है। वायु के वेग से बजनेवाले वाद्ययंत्र के समकक्ष मनुष्य तथा अन्य स्तनधारी प्राणियों में निम्नलिखित अंग होते हैं :

1. कंपक (Vibrators) इसमें स्वर रज्जुएँ (Vocal cords)Clone भी सम्मिलित हैं।

2. अनुनादक अवयव (resonators) इसमें निम्नलिखित अंग सम्मिलित हैं :

क. नासा ग्रसनी (nasopharynx), ख. ग्रसनी (pharynx),

नीग. मुख (mouth), घ. स्वरयंत्र (larynx),
च. श्वासनली और श्वसनी (trachea and bronchus)
छ. फुफ्फुस (lungs), ज. वक्षगुहा (thoracic cavity)।
3. स्पष्ट उच्चारक (articulators) अवयव - इसमें निम्नलिखित अंग सम्मिलित हैं :

क. जिह्वा (tongue), ख. दाँत (teeth), ग. ओठ (lips),
घ. कोमल तालु (soft palate), च. कठोर तालु (hard palate)।
स्वर की उत्पत्ति में उपर्युक्त अव्यव निम्नलिखित प्रकार से कार्य करते हैं : फुफ्फुस जब उच्छ्वास की अवस्था में संकुचित होता है, तब उच्छ्वसित वायु वायुनलिका से होती हुई स्वरयंत्र तक पहुंचती है, जहाँ उसके प्रभाव से स्वरयंत्र में स्थिर स्वररज्जुएँ कंपित होने लगती हैं, जिसके फलस्वरूप स्वर की उत्पत्ति होती है। ठीक इसी समय अनुनादक अर्थात् स्वरयंत्र का ऊपरी भाग, ग्रसनी, मुख तथा नासा अपनी अपनी क्रियाओं द्वारा स्वर में विशेषता तथा मृदुता उत्पन्न करते हैं। इसके उपरांत उक्त स्वर का शब्द उच्चारण के रूपांतर उच्चारक अर्थात् कोमल, कठोर तालु, जिह्वा, दाँत तथा ओंठ करते हैं। इन्हीं सब के सहयोग से स्पष्ट शुद्ध स्वरों की उत्पत्ति होती है।

स्वरयंत्र
यह पेशी तथा स्नायुजाल से बँधी उपास्थियों (cartilages) के जुड़ने से बनी रचना है। यह एक ऊपर नीचे छिद्रवाला मुकुटाकार रचना है जो गले के सम्मुख भाग में श्वासनली के शिखर पर रहता है और जिसके द्वारा श्वासवायु का प्रवेश होता है तथा कंठ से स्वर निकलता है। यह पेशियों से घिरा रहता है तथा त्वचा के नीचे अनुभव भी किया जा सकता है। यह ऊपर कंठिकास्थि और नीचे श्वासनली से मिला है। स्वरयंत्र नौ उपास्थियों से बना है जिनमें तीन एकल बड़ी उपस्थियाँ और तीन युग्म उपस्थियाँ होती हैं।

 अवटु (thyroid) उपास्थि

यह स्वरयंत्र की प्रधान उपास्थि है, जिसका आकार फैले हुए युग्म पंख के समान होता है। इसका बाहर से उभार युवावस्था में, विशेषकर पुरुषों में दिखाई देता है। इसके दोनों पंख मध्यरेखा के दोनों ओर हैं और सम्मुख में कोण बनाकर पीछे की ओर फैले हुए हैं। इसके ऊपर नीचे दो शृंग (horns) हैं। ऊपर के शृंगों में कंठिकास्थि के दोनों पार्श्व जुड़े हैं तथा नीचे के दोनों शृंगवलय उपास्थि से मिलते हैं। दोनों पंखों के संधिकोण के ऊर्ध्व भाग में कंठच्छद (epiglottis) का मूलस्थान है। इन सब रचनाओं के चारों तरफ छोटी बड़ी मांसपेशियाँ आच्छादित रहती हैं।

वलथ (Cricoid) उपास्थि
यह स्वरयंत्र के नीचे की उपास्थि है जिसका आकार अँगूठी के समान होता है। इसके दो भाग होते हैं जिनमें सम्मुख का भाग पतला और गोल है और पीछे का भाग स्थूल और चौड़ा है। सम्मुख भाग के ऊपर की ओर अवटु उपास्थि का निम्नभाग और नीचे की ओर श्वासनली का ऊर्ध्वभाग श्लेष्म झिल्ली द्वारा जुड़ा रहता है। पश्चिम भाग के पीछे मध्य रेखा में अन्ननली का सम्मुख भाग है। इसके दोनों ओर मांसपेशियाँ आच्छादित हैं।

इसी प्रकार स्वरयंत्र की अन्य प्रमुख उपास्थियों में कुंभकार (arytenoid) उपास्थि, कीलक (cuneiform) उपास्थि तथा शृंगी (Corniculate) हैं, जो चारों तरफ से मांसपेशियों से बँधी रहती हैं तथा स्वर की उत्पत्ति में सहायक होती हैं।

रज्जुएँ

स्वर रज्जुओं का नामांकित चित्र
ये संख्या में चार होती हैं जो स्वरयंत्र के भीतर सामने से पीछे की ओर फैली रहती हैं। यह एक रेशेदार रचना है जिसमें अनेक स्थितिस्थापक रेशे भी होते हैं। देखने में उजली तथा चमकीली मालूम होती है। इसमें ऊपर की दोनों तंत्रियाँ गौण तथा नीचे की मुख्य कहलाती हैं। इनके बीच में त्रिकोण अवकाश होता है जिसको कंठद्वार (glottis) कहते हैं। इन्हीं रज्जुओं के खुलने और बंद होने से नाना प्रकार के विचित्र स्वरों की उत्पत्ति होती है।

स्वर की उत्पत्ति में स्वररज्जुओं की गतियाँ 
श्वसन काल में रज्जुद्वार खुला रहता है और चौड़ा तथा त्रिकोणकार होता है। साँस लेने में यह कुछ अधिक चौड़ा तथा श्वास छोड़ने में कुछ संकीर्ण हो जाता है। बोलते समय रज्जुएँ आकर्षित होकर परस्पर सन्निकट आ जाती हैं और उनका द्वार अत्यंत संकीर्ण हो जाता है। जितना ही स्वर उच्च होता है, उतना ही रज्जुओं में आकर्षण अधिक होता है और द्वारा उतना ही संकीर्ण हो जाता है।

स्वरयंत्र की वृद्धि के साथ साथ स्वररज्जुओं की लंबाई बढ़ती है जिससे युवावस्था में स्वर भारी हो जाता है। स्वररज्जुएँ स्त्रियों की अपेक्षा पुरुषों में अधिक लंबी होती हैं।

स्वर की उत्पत्ति
उच्छ्वसित वायु के वेग से जब स्वर रज्जुओं का कंपन होता है तब स्वर की उत्पत्ति होती है। यहाँ स्वर एक ही प्रकार का उत्पन्न होता है किंतु आगे चलकर तालु, जिह्वा, दंत और ओष्ठ आदि अवयवों के संपर्क से उसमें परिवर्तन आ जाता है। स्वररज्जुओं के कंपन से उत्पन्न स्वर का स्वरूप निम्लिखित तीन बातों पर निर्भर करता है :

1. प्रबलता (loudness) - यह कंपन तरंगों की उच्चता के अनुसार होता है।

2. तारत्व (Pitch) - यह कंपन तरंगों की संख्या के अनुसार होता है।

3. गुणता (Quality) - यह गुंजनशील स्थानों के विस्तार के अनुसार बदलता रहता है और कंपन तरंगों के स्वरूप पर निर्भर होता है।

 

 

 

Vote: 
No votes yet

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 2,723 36
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 674 19
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 444 12
राग रागिनी पद्धति 970 9
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 1,616 8
रागों के प्रकार 799 8
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,135 8
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,136 7
राग दरबारी कान्हड़ा 639 6
राग मुलतानी 278 5
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 744 5
राग ललित! 585 5
राग भूपाली 592 4
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 689 4
स्वर मालिका तथा लिपि 308 4
स्वर मालिका तथा लिपि 645 4
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 903 4
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 364 3
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 150 3
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 214 3
रागों मे जातियां 1,219 2
राग बहार 353 2
शुद्ध स्वर 566 2
आविर्भाव-तिरोभाव 445 2
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 426 1
राग यमन (कल्याण) 460 1
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 209 1
राग- गौड़ सारंग 131 1
स्वर (संगीत) 439 1
वादी - संवादी 460 1
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 178 1
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 210 0
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 218 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 332 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 1,305 18
संगीत शास्त्र परिचय 1,679 18
हारमोनियम के गुण और दोष 1,415 12
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 603 11
संगीत का विकास और प्रसार 591 7
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 883 4
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 543 3
भारतीय संगीत 278 3
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 119 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 229 3
रागों का सृजन 263 3
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 431 3
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 251 3
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 480 3
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 357 2
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 308 2
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 319 2
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 178 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 602 2
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 265 2
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 560 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 31 1
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 421 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 195 1
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 248 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 246 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 82 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 218 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 1,444 13
भारत में संगीत शिक्षण 816 3
गुरु-शिष्य परम्परा 465 2
कैराना का किराना घराने से नाता 191 1
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 14 12
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 76 4
संगीत के स्वर 125 4
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 33 3
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 90 3
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 68 3
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 47 2
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 56 1
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 18 1
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 18 1
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 27 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 472 6
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 358 5
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 425 5
गुरु की परिभाषा 684 3
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 760 3
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 491 3
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 341 3
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 341 3
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 266 3
शास्त्रीय संगीत और योग 400 2
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 279 2
टांसिल होने पर 245 2
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 192 2
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 236 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 337 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 567 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 318 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 102 1
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 213 1
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 248 1
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 356 1
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 473 1
भारतीय कलाएँ 267 1
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 99 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 317 1
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 273 1
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 255 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 200 1
गायकी और गले का रख-रखाव 213 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 469 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 555 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 366 0
कंठध्वनि 179 0
माइक्रोफोन की हानि : 195 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 251 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 278 3
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 83 2
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 89 2
अकबर और तानसेन 366 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 447 1
रचन: श्री वल्लभाचार्य 305 0
बैजू बावरा 300 0
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 292 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 299 0
वीडियो
Total views Views today
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 307 2
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 301 2
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 169 1
कर्ण स्वर 201 1
वंदेमातरम् 125 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 193 0
राग यमन 180 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 250 0
मोरा सइयां 159 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 466 2
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 198 2
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 143 1
माइक्रोफोन का कार्य 171 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 142 1
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 162 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 177 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 116 0