कैराना का किराना घराने से नाता

जाने माने गायक अजय पोहनकर भी किराना घराने से ताल्लुक रखते हैं.
शायद वास्तविक कैराना वह जगह है, जहां उत्तर भारतीय शास्त्रीय संगीत की एक महान और सर्वाधिक रागमय परंपरा का जन्म हुआ था. किराना कहे जाने वाले इस घराने के संस्थापक उस्ताद अब्दुल करीम खां और उनके मामूजाद भाई उस्ताद अब्दुल वहीद खां थे. अब्दुल करीम खां की आवाज़ असाधारण रूप से सुरीली और मिठास-भरी थी और उसमें इतना विस्तार था कि वह तीनों सप्तकों –मंद्र, मध्य और तार-से भी परे चली जाती थी.

संगीत में तीन ही सप्तक मान्य हैं. लेकिन अगर कोई चौथा सप्तक होता तो वे आराम से वहाँ भी टहल आते. अब्दुल करीम खां कैराना में ऐसे खानदान में जन्मे थे जहां सारंगी का प्रचलन ज़्यादा था. संगीत की तालीम उन्हें अपने पिता काले खां और दादा गुलाम अली से मिली थी. दरअसल, मुग़ल सल्तनत के दौर में कैराना ही नहीं, उत्तर प्रदेश के कई दूसरे गाँव भी बीन, सितार, सारंगी और तबला बजाने वालों के गढ़ थे.
मुग़ल सल्तनत की हार और ईस्ट इंडिया कंपनी की फतह के बाद शाही संरक्षण ख़त्म होने पर ये खानदान भी उजड़ गए, उनके कई लोग दूर-दराज़ के दरबारों में आश्रय लेने चले गए. अब्दुल करीम खां महाराजा बडौदा के यहाँ पहुंचने वालों में थे. कहते हैं कि एक बार किसी ने उन्हें तिरस्कार के साथ 'सारंगिये' कहा तो उन्होंने सारंगी बजाना छोड़ दिया और फिर गायन में जो कीर्तिमान स्थापित किए, वे अब तक संगीत-प्रेमियों को चमत्कृत किए हुए हैं.
अब्दुल करीम खां के गायन की द्रुत बंदिशों की तीन मिनट की कई रिकॉर्डिंग उपलब्ध हैं, जिनमें शुद्ध कल्याण, मुल्तानी, बसंत,गूजरी तोडी, झिंझोटी, भैरवी आदि प्रमुख हैं. कहा जाता है कि उन्होंने खयाल गायन में विलंबित की भी शुरुआत की थी, लेकिन दुर्भाग्य से उसकी कोई रिकॉर्डिंग उपलब्ध नहीं है. उनका गायन और जीवन दोनों विलक्षण थे.
बडौदा में उन्होंने अपनी शिष्या ताराबाई माने से प्रेम किया और जब धार्मिक लिहाज़ से इसका विरोध हुआ तो दोनों भाग कर बंबई चले गए, जहां से उनकी असल संगीत यात्रा शुरू हुई जो अंत में मिरज जाकर रुकी. उनके दांपत्य में कई विवाद भी हुए. लेकिन उनकी संतानों में से सुरेशबाबू माने, हीराबाई बड़ोदेकर, सरस्वती राणे आदि ने संगीत में खूब प्रतिष्ठा हासिल की. इनके अलावा जितने प्रतिभाशाली शिष्य उन्होंने बनाए उसे देखकर आश्चर्य होता है.

सवाई गन्धर्व, केसरबाई केरकर, रोशनआरा बेगम, विश्वनाथ जाधव, अरशद अली, मश्कूर अली खां. पुणे में उन्होंने एक संगीत विद्यालय भी शुरू किया जहां वे परिवार के उदार मुखिया की तरह अपने शिष्यों का ख़याल रखते थे. अब्दुल करीम खां पहले उत्तर भारतीय संगीतकार थे जिन्होंने कर्नाटक संगीत से सरगम की तान आदि कई विशेषताएं अपनी कला में समाहित कीं और उसके संगीतकारों के बीच उत्तर भारतीय गायन को प्रतिष्ठा दिलाई.
उन्होंने अपनी ठुमरियों को पूरब अंग से अलग कर एक नए शिल्प में ढाला और मराठी नाट्य संगीत भी गाया जिसमें 'चंद्रिका ही जणू' काफी प्रसिद्ध है. भारत-प्रेमी प्रसिद्ध थियोसोफिस्ट एनी बेसेंट उनसे बहुत प्रभावित थीं, लेकिन खां साहब की स्वप्निल और खुमार भरी आँखों के कारण उन्हें लगता था कि खां साहब ज़रूर अफीम का नशा करते होंगे.
उन्होंने उनके एक शिष्य से गोपनीय पूछताछ की. शिष्य ने यह बात अब्दुल करीम खां को बताई तो उन्होंने चुटकी लेते हुए यह कहला भेजा, 'मैं नशा तो करता हूँ, लेकिन सिर्फ संगीत का.'
भीमसेन जोशी शायद बीसवीं सदी में किराना के सबसे बड़े संगीतकार हुए हैं हालांकि गंगूबाई हंगल भी उनसे कमतर नहीं कही जाएंगी.ये दोनों विभूतियाँ अब्दुल करीम खां के सबसे योग्य शिष्य रामभाऊ कुंदगोलकर यानी सवाई गंधर्व की शिष्य थीं. भीमसेन जोशी मज़ाक में उनसे कहा करते थे कि 'बई, असली किराना घराना तो तुम्हारा है, मेरी तो किराने की दुकान है!'

.

इंदौर घराने के महान गायक उस्ताद अमीर खां इस गायकी को अति-विलंबित तक ले गए. अब्दुल वहीद खां (जो ऊंचा सुनने के कारण बहरे वहीद खां भी कहे जाते थे) की दरबारी कान्हड़ा की एक विलंबित रिकॉर्डिंग है: 'गुमानी जग तज गयो'. अमीर खां पर इसका इतना गहरा असर पड़ा कि वे अंत तक यह बंदिश लगभग उसी अंदाज़ में गाते रहे. अमीर खां को इस वजह से भी कई लोग इंदौर नहीं, किराना घराने का मानते हैं.

किराना घराना कैराना से बाहर बहुत फैला हुआ है. इस घराने की विलक्षण आवाजों में जीवित है. उसे हम उस्ताद मश्कूर अली खां (जिनका जन्म कैराना में ही हुआ), डॉ. प्रभा अत्रे, पंडित वेंकटेश कुमार, जयतीर्थ मेवुंडी और भीमसेन जोशी के शिष्यों माधव गुडी, आनंद भाटे, श्रीकांत देशपांडे आदि की आवाज़ में पलता-पनपता हुआ सुन सकते हैं. वह उन विभूतियों की आवाजों में भी सुरक्षित है जो अब इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन किराना के सुरीले, राग-रंजित और विकल करनेवाले संगीत की विरासत छोड़ गई हैं.

 

 

 

Vote: 
No votes yet

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 2,723 36
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 674 19
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 444 12
राग रागिनी पद्धति 970 9
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 1,616 8
रागों के प्रकार 799 8
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,135 8
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,136 7
राग दरबारी कान्हड़ा 639 6
राग मुलतानी 278 5
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 744 5
राग ललित! 585 5
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 903 4
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 689 4
राग भूपाली 592 4
स्वर मालिका तथा लिपि 645 4
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 364 3
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 150 3
स्वर मालिका तथा लिपि 307 3
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 214 3
रागों मे जातियां 1,219 2
शुद्ध स्वर 566 2
आविर्भाव-तिरोभाव 445 2
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 426 1
राग यमन (कल्याण) 460 1
राग बहार 352 1
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 209 1
स्वर (संगीत) 439 1
राग- गौड़ सारंग 131 1
वादी - संवादी 460 1
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 178 1
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 332 0
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 218 0
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 210 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
संगीत शास्त्र परिचय 1,679 18
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 1,304 17
हारमोनियम के गुण और दोष 1,415 12
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 603 11
संगीत का विकास और प्रसार 591 7
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 883 4
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 480 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 543 3
भारतीय संगीत 278 3
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 119 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 229 3
रागों का सृजन 263 3
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 431 3
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 251 3
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 357 2
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 308 2
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 178 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 602 2
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 265 2
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 318 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 560 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 31 1
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 421 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 195 1
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 248 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 246 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 82 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 218 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 1,444 13
भारत में संगीत शिक्षण 816 3
गुरु-शिष्य परम्परा 464 1
कैराना का किराना घराने से नाता 190 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 14 12
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 76 4
संगीत के स्वर 125 4
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 68 3
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 33 3
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 90 3
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 47 2
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 56 1
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 18 1
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 18 1
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 27 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 472 6
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 358 5
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 425 5
गुरु की परिभाषा 684 3
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 760 3
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 491 3
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 341 3
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 341 3
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 266 3
शास्त्रीय संगीत और योग 400 2
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 279 2
टांसिल होने पर 245 2
नई स्वरयंत्र की सूजन 200 1
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 236 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 567 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 337 1
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 248 1
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 356 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 318 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 102 1
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 213 1
भारतीय कलाएँ 267 1
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 473 1
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 99 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 317 1
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 273 1
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 255 1
गायकी और गले का रख-रखाव 213 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 469 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 555 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 366 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 190 0
माइक्रोफोन की हानि : 195 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 251 0
कंठध्वनि 179 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 278 3
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 83 2
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 447 1
अकबर और तानसेन 366 1
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 88 1
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 299 0
रचन: श्री वल्लभाचार्य 305 0
बैजू बावरा 300 0
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 292 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 301 2
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 169 1
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 306 1
वंदेमातरम् 125 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 193 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 250 0
राग यमन 180 0
मोरा सइयां 159 0
कर्ण स्वर 200 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 466 2
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 198 2
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 143 1
माइक्रोफोन का कार्य 171 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 142 1
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 162 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 177 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 116 0