कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं

आप जब गाते हों तो हो सकता है की आपको लगता हो की बहुत अच्छा गाना गाते हैं लेकिन यह कैसे पता चले की आप सच में एक अच्छे गायक हैं । अगर आप अपनी आवाज़ को अच्छे से जांचना चाहते हों तो ऐसा आप कर सकते हैं । इसके लिए आपको बस अपने आप को ध्यान से सुनने की ज़रुरत है और औरों से अपनी आवाज़ के बारे में सुझाव लेना ज़रूरी है

1. अपनी आवाज़ को रिकॉर्ड करें: आपकी साइनस कविटीएस की वजह से आपकी आवाज़ खुद सुनने में अलग लगती है और जब और लोग सुनते हैं तो अलग लगती है । इसका मतलब है अगर आप यह जानना चाहते है की औरों को आपकी आवाज़ कैसी लगती है तो अपनी आवाज़ को रिकॉर्ड करें ।[१] । यह सबसे आसान तरीका है यह जानने का की क्या आप अच्छा गाना गा सकते हैं । •आपको यह जानने के लिए की आपकी आवाज़ अच्छी है के नहीं इसके लिए कोई माइक्रोफोन या नयी तकनीकों की ज़रुरत नहीं है । आजकल हर कंप्यूटर और स्मार्ट फ़ोन में आवाज़ रिकॉर्ड करने की सुविधा उपलब्ध है । इसके इलावा आप एक कैसेट रिकॉर्डर का इस्तमाल भी कर सकते है या फिर आप किसी के फ़ोन की आंसरिंग मशीन में भी अपनी आवाज़ रिकॉर्ड कर सकते हैं ।
•अगर आपको औरों के सामने गाना गाने में शर्म आती हो तो अपनी घबराहट को हटाने का यह सबसे आसान तरीका है । आपको कोई और नहीं सुन रहा है तो आप जी खोल के अपना गाना गा सकते हैं ।

2. एक अच्छा गाना चुनें: चाहे अपने टीवी पर कुछ भी देखा हो लेकिन कैपेला सॉफ्टवेर के साथ गाना गाने से नहीं पता चल पायेगा की आप की आवाज़ अच्छी है । आप को एक अच्छा गाना चुनने की ज़रुरत है जैसे की एक खाली करोअके ट्रैक जिससे आपको पता चले की आप सही से धुन में गा पते हैं । ऐसे खाली कराओके ट्रैक आपको आसानी से यूट्यूब पर मिल जायेंगे । •आपको आसान से पुराने पॉप गाने मिल जायेंगे जिन्हें आप गा सकते है। वो ज्यादा हिट नहीं होंगे लेकिन आपको एक धुन से शुरुआत करने को मिल जायेगा । इसका इलावा आप कैसीयो के कीबोर्ड पर डाले हुए गानों पर या फिर वाद्यों पर बजे गानों के साथ भी प्रैक्टिस कर सकते हैं ।

3. अकेले में गाना गायें: एक बार आपने अपना गाना चुन लिया हो और रिकॉर्डर की व्यवस्था कर ली हो तो एक शांत जगह ढूँढें गाना गाने के लिए । इस तरह से आपको यह चिंता नहीं करनी पड़ेगी की कोई आप को सुन तो नहीं रहा । अपना गाना लगायें और रिकॉर्ड बटन प्रेस करें | •अगर आपके घर में तहखाना या गेराज हो तो वहां चले जायें या थोड़े अकेलेपन होने का इंतज़ार करें । आप गाना अपनी गाडी में बैठकर भी रिकॉर्ड कर सकते हैं ।
•याद रखें की आप कोई सफल गीत बनाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं । आप सिर्फ यह देखने की कोशिश कर रहे हैं की आप की आवाज़ कितनी अच्छी है ।
4. स्वाभाविक तरीके से गाने की कोशिश करें: अच्छे गाने के मतलब यह नहीं की बड़े गायकों की तरह खूब हरकतें लें । अपने गाने को आराम से और सादगी के साथ गाने की कोशिश करें । यह ध्यान रहे की गाने को धुन में गाने की कोशिश करें ।
5. जो गीत रिकॉर्ड किया हो उसको सुनें: ध्यान दें की क्या आपने गाने की बीच की सब हरकतें सही से ली हैं और क्या आप ने धुन को सही से पकड़ पाया है । •रिकार्डेड गीत को कई बार सुनें । पहले उसे कंप्यूटर के स्पीकर पर सुनें , उसके बाद कार के स्पीकर पर सुनें और फिर उसके बाद हेडफोन्स पर सुनें । कई बार एक स्पीकर पर आवाज़ अच्छी नहीं लगती लेकिन अच्छे स्पीकर पर सुनो तो वो आवाज़ बेहतरीन लगती है । कई बार ध्यान से गीत को सुनें ।

6. अपनी रेंज के हिसाब से गीत का चुनाव करें: सब आवाजें एक जैसी नहीं होती इसीलिए सब लोग एक रेंज के गाने नहीं गा सकते । इसिलिये क्वायर में भी अलग अलग लोगों की आवाजें रखी जाती हैं और अलग अलग आवाज़ की रेंज के हिसाब से गाने लिखे जाते हैं । अगर आपको अपनी आवाज़ अच्छी न लगे तो यह हो सकता है की आपने गाना अपनी रेंज के हिसाब से नहीं चुना है । •आसान सलाह:एक टूनिंग एप्प डाउनलोड करें । यह एप्प आपकी आवाज़ को जांचेगी और आपकी आवाज़ की सही रेंज में सुनाएगी । अकेले में आप क्या सही से गा पाते हैं वह गाना गायें और देखिये कैसा लगता है सुनने में ।
•इसके बाद अपना सबसे नीचे का और सबसे ऊपर का सुर लगायें और इसको कागज़ पर लिख लें । देखें के आपके सबसे नीचे और सबसे ऊपर के सुर के बीच में कितने सुर आते हैं और आपको अपनी रेंज का अंदाज़ा हो जायेगा । उस रेंज के हिसाब से गाना पसंद करें ।

7. टोन डेफ टेस्ट करें: कई लोग अपनी आवाज़ सुन कर उसे टोन से मिला नहीं पाते हैं । यह एक कला है जो बहुत लोगों को नहीं आती है लेकिन यह अच्छी गायकी सीखने के लिए बहुत ज़रूरी है । अपनी आवाज़ रिकॉर्ड करके और उसे सुनने के बाद एक टोन डेअफ्नेस टेस्ट लें |

1. अपने परिवार के सामने गाना गायें: आपने अपनी पूरी कोशिश की है यह जानने की आप गाना गा सकते हैं के नहीं, अब इसी बात को आप अपने परिवार के आगे साबित करें । •ऐसा कमरा चुनें जिसमें आपकी आवाज़ अच्छे से सुनाई दे एक बड़े कमरे में जिसकी छत ज्यादा ऊपर हो उसमें आपकी आवाज़ अच्छी सुनायी देगी ।
•अगर आपको घबराहट हो या आपको शर्म आये तो रूककर दुबारा से शुरू करें । अपनी घबराहट की चिंता न करें सिर्फ़ अपनी आवाज़ की चिंता करें ।
•अपना गाना ख़त्म होने के बाद अपने परिवार से उनकी राय मांगे । चाहे वो कुछ भी कहें उसे ध्यान से सुनें । उनकी बातों से आपको अंदाज़ा लग जायेगा की आपकी आवाज़ अच्छी है कि नहीं । अगर आप को अपने पर विश्वास हो तभी बात को आगे बढाएं ।

2. काफी सारे लोगों के सामने गाना गायें: सबके सामने गाने के बहुत मौके होते हैं , आप किसी क्लब में जा कर माइक पर गा सकते हैं , किसी टैलेंट शो में भाग ले सकते हैं या फिर आप कराओके भी गा सकते हैं । एक ऐसी कोई जगह ढूँढें और अजनबीयों को अपना गाना सुनाएं । •जैसे आप गायेंगे आप लोगों की प्रत्रिक्रिया को समझें । वह लोग आपको जानते नहीं है इसीलिए आपको बिलकुल सही प्रत्रिक्रिया देंगे आपकी आवाज़ के बारे में ।
•अपने किसी दोस्त से कहें की वो लोगों से पूछे कि आपने कैसा गाया । अक्सर लोगों को ऐसे जवाब देना अच्छा नहीं लगता इसीलिए बस उनका मत जानें और अपनी आवाज़ को सुधारने की कोशिश करते रहे ।

3. बुस्किंग करें:लोगों का मत के लिए जानने के लिए किसी ट्रेन स्टेशन पर या किसी शौपिंग मॉल में बुस्किंग करें । अगर हो सके तो माइक्रोफोन और एम्पलीफायर लगा लें ताकि लोग आपकी आवाज़ की तरफ आकर्षित हों । आप मुफ्त में भी गाना गा सकते है या फिर सामने एक टोपी या बाउल रखें ताकि कुछ पैसा भी कमा सकें । •कोई अच्छा सा गाना चुनें जिसे ज्यादा लोग सुनना पसंद करें ।
•अगर लोग आपके पास नहीं आ रहे तो इसकी वजह हो सकती है की उन्हें आपकी आवाज़ अच्छी नहीं लग रही । हिम्मत न हारें यह ख़राब एम्प्लीफिकेशन की वजह से भी हो सकता है ।
•अपना नतीजा इस बात पर न निकलें की कितने लोगों ने आपका गाना सुना । लोगों को अक्सर बुस्कर्स को सुनने का वक़्त नहीं होता पर इसका मतलब ये नहीं की उन्हें आपकी आवाज़ नहीं पसंद आयी है ।

सलाह
•हमेशा अपनी आवाज़ को तैयार करलें नहीं तो उसको नुकसान पहुंचेगा और आप कई दिनों तक गा नहीं पाएंगे ।
•अपने किसी ऐसे दोस्त के साथ गायें जिसकी आप जैसी वोकल रेंज हो ताकि आपको पता चले की वो कैसी तकनीकों का इस्तमाल करता है । आप भी उन्ही तकनीकों का इस्तमाल करें और रिकॉर्ड करके सुनें । कुछ रिकार्ड्स में आपकी आवाज़ बहुत बुरी सुनायी पड़ती है तो इसीलिए बेह्तेरिन स्तर का रिकॉर्डर चुनें ।
•एक अच्छा गाना ढूँढें और फिर दिन रात उस पर रियाज़ करें । उसके बाद कुछ लोगों के सामने उसे गायें । अगर आपको यह करना अजीब लगे तो अपने गाने की रिकॉर्डिंग कर यूटुब पर डालें ।
•अपनी तरीके का संगीत पसंद करें, अगर संगीत लिखें तो कुछ अलग सा लिखें । याद रखें संगीत में सुर, शब्द और ध्वनी ज़रूर होनी चाहिए ।
•आप एयरप्लग्स लगा कर भी गाना गा सकती हैं । ज्यादा कस के न लगायें बस ऐसे की कानों से गिर न पड़ें और आपको आपकी धुन सुनायी देती रहे । नहीं तो आप अपने कानों में ऊँगली भी डाल सकते हैं ।

चेतावनी
•अपनी आवाज़ पर जोर न डालें और खूब सारा पानी पीएं ।
•उलाहना के लिए तैयार रहे ।
•अपनी बेईज्ज़ती न कराएं । अगर आप को सच में गाना गाना नहीं आता तो तब तक अकेले में रियाज़ करें जब तक आप तैयार न हो गयें हों ।

Vote: 
No votes yet

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 2,801 35
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 19 17
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,152 12
रागों के प्रकार 824 10
रागों मे जातियां 1,233 10
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 761 9
राग बहार 366 9
राग रागिनी पद्धति 987 9
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 1,633 9
राग दरबारी कान्हड़ा 660 8
वादी - संवादी 476 8
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 688 7
आविर्भाव-तिरोभाव 466 7
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 239 7
शुद्ध स्वर 576 6
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,147 6
राग यमन (कल्याण) 485 5
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 702 5
स्वर (संगीत) 447 5
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 451 5
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 918 5
राग मुलतानी 283 4
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 371 4
षड्जग्राम-तान बोधिनी 26 4
राग भूपाली 600 4
स्वर मालिका तथा लिपि 315 4
स्वर मालिका तथा लिपि 663 4
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 183 4
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 217 4
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 155 3
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 223 3
राग- गौड़ सारंग 134 2
राग ललित! 591 2
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 335 1
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 429 1
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 209 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 490 18
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 199 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 144 0
माइक्रोफोन का कार्य 171 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 1,340 12
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 575 12
हारमोनियम के गुण और दोष 1,436 10
संगीत शास्त्र परिचय 1,698 9
संगीत का विकास और प्रसार 612 9
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 618 7
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 496 6
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 905 5
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 447 4
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 273 4
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 549 4
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 234 3
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 255 3
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 426 3
रागों का सृजन 270 2
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 365 2
स्वरों का महत्त्व क्या है? 248 2
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 607 2
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 185 2
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 221 2
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 198 2
भारतीय संगीत 282 2
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 120 1
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 322 1
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 85 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 38 1
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 313 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 250 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 573 12
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 484 7
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 347 5
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 434 5
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 365 5
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 364 5
शास्त्रीय संगीत और योग 407 4
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 766 4
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 259 4
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 278 4
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 240 4
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 478 3
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 286 3
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 475 3
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 113 3
माइक्रोफोन के प्रकार : 331 3
गुरु की परिभाषा 694 2
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 346 2
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 263 2
गायकी और गले का रख-रखाव 217 2
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 572 2
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 216 2
भारतीय कलाएँ 268 1
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 492 1
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 368 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 194 1
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 271 1
माइक्रोफोन की हानि : 197 1
कंठध्वनि 181 1
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 251 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 323 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 106 1
टांसिल होने पर 247 0
नई स्वरयंत्र की सूजन 202 0
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 341 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
भारत में संगीत शिक्षण 826 7
गुरु-शिष्य परम्परा 476 6
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 1,457 4
कैराना का किराना घराने से नाता 194 3
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 311 5
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 315 5
राग यमन 187 4
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 196 2
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 252 1
मोरा सइयां 160 1
कर्ण स्वर 202 1
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 171 1
वंदेमातरम् 125 0
स्वर परिचय
Total views Views today
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 27 4
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 22 4
संगीत के स्वर 131 4
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 97 4
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 40 2
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 78 2
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 49 2
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 70 1
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 60 1
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 29 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 19 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 88 3
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 282 2
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 296 2
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 452 2
रचन: श्री वल्लभाचार्य 311 2
अकबर और तानसेन 369 1
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 301 1
बैजू बावरा 300 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 90 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 179 1
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 142 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 116 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 162 0