कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार

कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार

आपका व्‍यक्तित्‍व कई चीजों से मिलकर बनता है. और इस सबमें अहम किरदार निभाती है आवाज. मधुर आवाज खुद-ब-खुद आपको खींच लेती है अपनी ओर. आप चाहकर भी उससे अपना ध्यान नहीं हटा पाते. आपकी नजरें उस आवाज के मालिक को तलाशने लगती हैं. चाह होती है, तो बस उसके दीदार की, जिसने आपके कदमों को बांध लिया है किसी मीठी जंजीर की तरह.
कई बार हमें ऐसे लोग मिल जाते हैं, जिनकी वाणी हमें किसी मोहपाश की तरह जकड़ लेती है. और शायद यही वजह है कि हम उनकी बातों ज्‍यादा तवज्जो देते हैं. ये उनकी आवाज का जादू नहीं, तो फिर और क्या है.

कुदरत की इस नायाब नियामत को बनाये रखना आपकी जि‍म्मेजदारी है. अगर आप आवाज के सहारे अपना करियर बनाने की सोच रहे हैं, तो आपके लिए इसकी रखवाली करना और भी जरूरी हो जाता है और कहीं अगर आप ऐसा नहीं भी चाहते, फिर भी आपका फर्ज है कि अपनी आवाज का पूरा खयाल रखें.
कैसे बनाए रखें आवाज का नशा
मधुर आवाज का सुरूर चढ़ता रहता है. लेकिन, आपकी आवाज में यह नशा बरकरार रहे इसके लिए जरूरी है कि इसे तकलीफों से बचाकर रखें.
श्वास से जुड़ी समस्याओं से बचें: 
सबसे पहले सांस की कोई भी तकलीफ या साइनस होने पर डॉक्टर को जरूर दिखाएं. सांस की लय पर ही तो थिरकती है अच्छी आवाज. अगर आपकी चाहत है कि आपकी आवाज का अंदाज सही रहे, तो अपनी सांसों की आवाजाही को भी सामान्य रखिए.
वातानुकूलित वातावरण में रहने की कोशिश करें. ये अच्छी आवाज़ के लिए फायदेमंद होता है. ठंडे वातावरण से गरम वातावरण में कुछ समय रुक कर जाएं.

आवाज को सही रखने के लिए मुंह से श्वास ना लें, तेज पंखे के सीधे नीचे या सामने कभी ना सोएं.

ठंडी और गरम हवा से जरूर बचें. दोनों ही नाक और गले को प्रभावित करती हैं और आवाज सही तरह से नहीं निकलती. इससे खांसी की भी शिकायत हो सकती है.

खानपान का रखें ध्यान 
आपकी आवाज सही रहे, इसके लिए जरूरी है कि आपका खानपान सही हो. अनियमित दिनचर्या और खान-पान की गलत आदतों से रिप्लक्स या अम्ल की समस्या हो सकती है. इससे गले में कुछ अटकना, खांसी, बार-बार गला साफ करना, जीभ पर जमाव, ब्रोंकाइटिस जैसी शिकायतें हो सकती हैं.

अगर आप आवाज की दुनिया से जुड़ हुए है तो कोशिश करें की सादा भोजन ही करें. अधिक मिर्च-मसाले, तेलयुक्त खाना, अधिक चाय, कॉफी, शीतल पेय या शराब ना पिएं. साथ ही भोजन से पहले चॉकलेट, सूखे मेवे आदि ना लें. इसके अलावा पान, पान मसाला, गुटखा, तंबाकू जैसी चीजों से दूर रहें.

इन बातों का भी रखें पूरा ध्‍यान:
तेज सर्दी, एक्यूट एलर्जी, नाक-गले के संक्रमण के दौरान आवाज से जुड़ा कोई अभ्यास ना करें. कोशिश करें कि लगातार 45 मिनट से ज्यादा ना बोलें. ऊंचा बोलने, चीखने-चिल्लाने और तनावपूर्ण ढंग से आवाज निकालने से बचें.

धूल, मिट्टी से बचें. खासकर, नाक की एलर्जी से ग्रसित लोग धूल, धुएं, माइट्स, फफू़द आदि से बचने की कोशिश करें. बार-बार गला साफ करने की आदत ना डालें. समस्या होने पर उपयुक्त इलाज करवाएं.

अधिक मेकअप, बालों के या किसी भी प्रकार के स्प्रे का बहुत साधवानी से और कम उपयोग करें.

गायन, भजन, भाषण या बातचीत के दौरान गला न सूखने दें. बीच-बीच में पानी के घूंट पिएं. हल्का, गुनगुना, शहदयुक्त पानी कार्यक्रम के दौरान निरंतर पीते रहें.

तनाव से बचें क्योंकि शारीरिक और मानसिक दोनों ही तनाव आवाज पर दुष्प्रभाव डालते हैं. इसलिए पूरी नींद लें और आराम जरूर करें.

अगर आप आवाज की दुनिया से जुड़े हुए हैं, तो भीड़ भरी, शोरगुल वाली पार्टियों से बचें, क्योंकि ऐसी जगहों पर जोर-जोर से बात करनी पड़ती है, जिससे स्वर यंत्र पर तनाव आ सकता है.

इन सब तरीकों को आजमाकर आप अपनी आवाज को सही रख सकते हैं. याद रखिए ईश्वर ने जो आपको आवाज का उपहार दिया है उसकी कद्र करना और उसे बचाए रखना ना सिर्फ आपके लिए फायदेमंद है, बल्कि ऐसा करना आपकी जिम्‍मेदारी भी है.

 

 

 

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 4,938 32
स्वर मालिका तथा लिपि 545 13
रागों के प्रकार 1,618 9
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,191 8
राग यमन (कल्याण) 989 8
शुद्ध स्वर 916 6
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,467 4
राग भूपाली 1,116 4
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 723 3
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,260 3
रागों मे जातियां 1,701 3
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,653 3
राग ललित! 865 2
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,717 2
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 747 2
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,209 2
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 727 2
राग दरबारी कान्हड़ा 1,038 2
स्वर मालिका तथा लिपि 1,032 2
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 430 1
रागों का विभाजन 225 1
राग बहार 575 1
षड्जग्राम-तान बोधिनी 137 1
स्वर (संगीत) 670 1
राग- गौड़ सारंग 227 1
आविर्भाव-तिरोभाव 777 1
वादी - संवादी 782 0
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 378 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 511 0
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 632 0
राग मुलतानी 401 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 332 0
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 999 0
राग रागिनी पद्धति 1,369 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 126 0
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 284 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 424 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,817 10
भारत में संगीत शिक्षण 1,068 3
कैराना का किराना घराने से नाता 273 1
गुरु-शिष्य परम्परा 689 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
संगीत शास्त्र परिचय 2,225 7
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,200 7
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 589 6
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 758 6
हारमोनियम के गुण और दोष 2,257 5
संगीत का विकास और प्रसार 850 3
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,044 3
रागों का सृजन 406 3
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 958 3
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 894 3
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,024 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 822 2
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 554 2
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 542 2
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 443 1
भारतीय संगीत 424 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 654 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 265 1
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 301 0
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 268 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 393 0
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 208 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 316 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 367 0
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 458 0
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 398 0
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 338 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 153 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 735 6
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 341 4
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 846 4
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 535 4
गुरु की परिभाषा 1,148 3
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 329 3
माइक्रोफोन के प्रकार : 511 2
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 400 2
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 499 2
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 342 2
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 427 2
टांसिल होने पर 353 2
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 430 2
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 460 1
गायकी और गले का रख-रखाव 351 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 982 1
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 591 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 199 1
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 858 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 236 1
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 400 1
कंठध्वनि 311 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 331 0
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 702 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 527 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 436 0
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 384 0
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 644 0
शास्त्रीय संगीत और योग 540 0
भारतीय कलाएँ 413 0
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,025 0
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 654 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 630 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 454 0
माइक्रोफोन की हानि : 270 0
स्वर परिचय
Total views Views today
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 139 4
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 149 2
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 177 1
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 134 1
संगीत के स्वर 264 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 154 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 141 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 128 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 112 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 85 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 163 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
माइक्रोफोन का कार्य 259 2
भारतीय नृत्य कला 773 2
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 294 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 224 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 438 2
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 144 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 552 1
रचन: श्री वल्लभाचार्य 514 1
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 386 1
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 403 0
अकबर और तानसेन 511 0
बैजू बावरा 434 0
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 154 0
वीडियो
Total views Views today
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 422 1
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 676 1
वंदेमातरम् 193 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 224 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 323 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 261 0
राग यमन 270 0
मोरा सइयां 217 0
कर्ण स्वर 272 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 263 0
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 201 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 161 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 220 0