खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ?

खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ?

गायकी में गले का तैयार होना बहुत आवश्यक है. गला अगर तैयार है तो गायकी स्वाभाविक रूप से, बिना ज्यादा प्रयास किये होती है. फिर सुर का सही ज्ञान हो तो संगीत सीखना आसान हो जाता है.

गले की तैयारी के दो हिस्से हैं.

सांस की स्थिरता और फेफड़ों की लम्बी सांस खींचने की
शक्ति 
आवाज़ की सुगमता और सफाई 
कुछ लोगों में दोनों ही खूबियाँ प्राकृतिक रूप से मौजूद होतीं है. लेकिन ज्यादातर आम लोगों में ये दोनों खूबियाँ पूरी तरह से तैयार नहीं होती है और इसलिए जैसे हम व्यायाम कर के शरीर को सुडौल और मजबूत बनाते है, वैसे ही, गले को तैयार करने के लिए गायकी का व्यायाम बहुत जरूरी है. हम यहाँ पर ऐसे ही कुछ बहुत सरल और प्रभावशाली अभ्यास बताएँगे जो आपको नियमित रूप से करने होंगे. 2-3 महीने के अन्दर ही आप फरक महसूस करने लगेंगे.

ओंकार का अभ्यास

सुबह 5 बजे उठ के किया हुआ ओंकार का रियाज़ फेफड़ों को मजबूत करता है, आवाज़ साफ़ करता है और सांस को स्थिर बनाता है. धीरे धीरे अभ्यास करते रहने से एक सांस में ज्यादा लम्बे अन्तराल तक सुर लगा सकते हैं. 
ओंकार के अभ्यास के लिए आप अपने मूल 'स' स्वर में ही ओंकार (ओ म) का उच्चारण करें. ये कम से कम 20 मिनट रोज करें.

खर्ज का अभ्यास

खर्ज सप्तक के सुर सबसे नीचे और भारी होते हैं. जब आपने अपना मूल 'स' स्वर पकड़ लिया हो तो उसके नीचे से नी ध प म ग रे स का अभ्यास खर्ज का अभ्यास कहलाता है. खर्ज के सुर लगाना आम तौर पे आसान नहीं होता. संगीत रियाज़ का एक बड़ा रहस्य जो बहुत लोग नहीं जानते हैं कि खर्ज के सुर में आप जितना ज्यादा रियाज़ करेंगे, आप उतनी आसानी से ऊंचे सुर लगा पाएंगे. जितना ऊंचा आपको गाना हो, उतने ही नीचे सुर में रियाज़ करें. ओंकार के अभ्यास से जहाँ आपकी सांस मजबूत और स्थिर बनेगी, खर्ज सुरों के अभ्यास से आपका गला पूरा खुलेगा और आवाज़ साफ़ होगी. 
साँस के सही नियंत्रण और प्रयोग का अभ्यास 
गायन कला साँस की लय और संगीत की लय का बड़ा बारीक़ तालमेल है. साधरणतयः गाते समय कम से कम समय में ज्यादा से ज्यादा साँस भर के (वो भी सही समय पर), और फिर साँस को धीरे धीरे छोड़ते हुए, साँस का भरपूर इस्तेमाल करते हुए गायन किया जाता है. गाने के बीच साँस लेना एक कला है. बहुत जल्दी साँस लेने पर या जल्दी साँस भर के रोके रखने पे गायकी में तनाव आ सकता है, या फिर लय बना कर रखने में परेशानी हो सकती है. अच्छे गायन के लिए साँस बड़ी सधी हुई, एक सामान, पूरी तरह नियंत्रण में और गहरी होनी चाहिए. साँस मज़बूत करने के लिए प्राणायाम एक अचूक उपाय है जिसके निरंतर अभ्यास से गायन की क्षमता में बहुत बढ़त होती है.

नोट
यह एक महत्वपूर्ण क्रिया है अतः
अपने गुरु के सामने बैठकर रियाज़ करें अपनी ग़लतीयां सुधारे

 

 

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 9259436235 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 9259436235