जानिए भारतीय संगीत के बारे में

जानिए भारतीय संगीत के बारे में

भारतीय संगीत : संगीत और वाद्ययंत्रों का अविष्कार भारत में ही हुआ है। संगीत का सबसे प्राचीन ग्रंथ सामवेद है। हिन्दू धर्म का नृत्य, कला, योग और संगीत से गहरा नाता रहा है। हिन्दू धर्म मानता है कि ध्वनि और शुद्ध प्रकाश से ही ब्रह्मांड की रचना हुई है। आत्मा इस जगत का कारण है। चारों वेद, स्मृति, पुराण और गीता आदि धार्मिक ग्रंथों में धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को साधने के हजारोहजार उपाय बताए गए हैं। उन उपायों में से एक है संगीत। संगीत की कोई भाषा नहीं होती। संगीत आत्मा के सबसे ज्यादा नजदीक होता है। शब्दों में बंधा संगीत विकृत संगीत माना जाता है।

जानिए भारतीय संगीत के बारे में

प्राचीन परंपरा : भारत में संगीत की परंपरा अनादिकाल से ही रही है। हिन्दुओं के लगभग सभी देवी और देवताओं के पास अपना एक अलग वाद्य यंत्र है। विष्णु के पास शंख है तो शिव के पास डमरू, नारद मुनि और सरस्वती के पास वीणा है, तो भगवान श्रीकृष्ण के पास बांसुरी। खजुराहो के मंदिर हो या कोणार्क के मंदिर, प्राचीन मंदिरों की दीवारों में गंधर्वों की मूर्तियां आवेष्टित हैं। उन मूर्तियों में लगभग सभी तरह के वाद्य यंत्र को दर्शाया गया है। गंधर्वों और किन्नरों को संगीत का अच्छा जानकार माना जाता है।

सामवेद उन वैदिक ऋचाओं का संग्रह मात्र है, जो गेय हैं। संगीत का सर्वप्रथम ग्रंथ चार वेदों में से एक सामवेद ही है। इसी के आधार पर भरत मुनि ने नाट्यशास्त्र लिखा और बाद में संगीत रत्नाकर, अभिनव राग मंजरी लिखा गया। दुनियाभर के संगीत के ग्रंथ सामवेद से प्रेरित हैं।

संगीत का विज्ञान : हिन्दू धर्म में संगीत मोक्ष प्राप्त करने का एक साधन है। संगीत से हमारा मन और मस्तिष्क पूर्णत: शांत और स्वस्थ हो सकता है। भारतीय ऋषियों ने ऐसी सैकड़ों ध्वनियों को खोजा, जो प्रकृति में पहले से ही विद्यमान है। उन ध्वनियों के आधार पर ही उन्होंने मंत्रों की रचना की, संस्कृत भाषा की रचना की और ध्यान में सहायक ध्यान ध्वनियों की रचना की। इसके अलावा उन्होंने ध्वनि विज्ञान को अच्छे से समझकर इसके माध्यम से शास्‍‍त्रों की रचना की और प्रकृति को संचालित करने वाली ध्वनियों की खोज भी की। आज का विज्ञान अभी भी संगीत और ध्वनियों के महत्व और प्रभाव की खोज में लगा हुआ है, लेकिन ऋषि-मु‍नियों से अच्छा कोई भी संगीत के रहस्य और उसके विज्ञान को नहीं जान सकता।

प्राचीन भारतीय संगीत दो रूपों में प्रचलन में था-1. मार्गी और 2. देशी। मार्गी संगीत तो लुप्त हो गया लेकिन देशी संगीत बचा रहा जिसके मुख्यत: दो विभाजन हैं- 1. शास्त्रीय संगीत और 2. लोक संगीत।

शास्त्रीय संगीत शास्त्रों पर आधारित और लोक संगीत काल और स्थान के अनुरूप प्रकृति के स्वच्छंद वातावरण में स्वाभाविक रूप से पलता हुआ विकसित होता रहा। हालांकि शास्त्रीय संगीत को विद्वानों और कलाकरों ने अपने-अपने तरीके से नियमबद्ध और परिवर्तित किया और इसकी कई प्रांतीय शैलियां विकसित होती चली गईं तो लोक संगीत भी अलग-अलग प्रांतों के हिसाब से अधिक समृद्ध होने लगा।

बदलता संगीत : मुस्लिमों के शासनकाल में प्राचीन भारतीय संगीत की समृद्ध परंपरा को अरबी और फारसी में ढालने के लिए आवश्यक और अनावश्यक और रुचि के अनुसार उन्होंने इसमें अनेक परिवर्तन किए। उन्होंने उत्तर भारत की संगीत परंपरा का इस्लामीकरण करने का कार्य किया जिसके चलते नई शैलियां भी प्रचलन में आईं, जैसे खयाल व गजल आदि। बाद में सूफी आंदोलन ने भी भारतीय संगीत पर अपना प्रभाव जमाया। आगे चलकर देश के विभिन्न हिस्सों में कई नई पद्धतियों व घरानों का जन्म हुआ। ब्रिटिश शासनकाल के दौरान पाश्चात्य संगीत से भी भारतीय संगीत का परिचय हुआ। इस दौर में हारमोनियम नामक वाद्य यंत्र प्रचलन में आया।

दो संगीत पद्धतियां : इस तरह वर्तमान दौर में हिन्दुस्तानी संगीत और कर्नाटकी संगीत प्रचलित है। हिन्दुस्तानी संगीत मुगल बादशाहों की छत्रछाया में विकसित हुआ और कर्नाटक संगीत दक्षिण के मंदिरों में विकसित होता रहा।

हिन्दुस्तानी संगीत : यह संगीत उत्तरी हिन्दुस्तान में- बंगाल, बिहार, उड़ीसा, उत्तरप्रदेश, हरियाणा, पंजाब, गुजरात, जम्मू-कश्मीर तथा महाराष्ट्र प्रांतों में प्रचलित है।

कर्नाटक संगीत : यह संगीत दक्षिण भारत में तमिलनाडु, मैसूर, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश आदि दक्षिण के प्रदेशों में प्रचलित है।

वाद्य यंत्र : मुस्लिम काल में नए वाद्य यंत्रों की भी रचना हुई, जैसे सरोद और सितार। दरअसल, ये वीणा के ही बदले हुए रूप हैं। इस तरह वीणा, बीन, मृदंग, ढोल, डमरू, घंटी, ताल, चांड, घटम्, पुंगी, डंका, तबला, शहनाई, सितार, सरोद, पखावज, संतूर आदि का आविष्कार भारत में ही हुआ है। भारत की आदिवासी जातियों के पास विचित्र प्रकार के वाद्य यंत्र मिल जाएंगे जिनसे निकलने वाली ध्वनियों को सुनकर आपके दिलोदिमाग में मदहोशी छा जाएगी।

उपरोक्त सभी तरह की संगीत पद्धतियों को छोड़कर आओ हम जानते हैं, हिन्दू धर्म के धर्म-कर्म और क्रियाकांड में उपयोग किए जाने वाले उन 10 प्रमुख वाद्य यंत्रों को जिनकी ध्वनियों को सुनकर जहां घर का वस्तु दोष मिटता है वहीं मन और मस्तिष्क भी शांत हो जाता है।

भारत की नृत्य शैली : प्राचीन भारती नृत्य शैली से ही दुनियाभर की नृत्य शैलियां विकसित हुई है। भारतीय नृत्य मनोरंजन के लिए नहीं बना था। भारतीय नृत्य ध्यान की एक विधि के समान कार्य करता है। इससे योग भी जुड़ा हुआ है। सामवेद में संगीत और नृत्य का उल्लेख मिलता है। भारत की नृत्य शैली की धूम सिर्फ भारत ही में नहीं अपितु पूरे विश्व में आसानी से देखने को मिल जाती है।

हड़प्पा सभ्यता में नृत्य करती हुई लड़की की मूर्ति पाई गई है, जिससे साबित होता है कि इस काल में ही नृत्यकला का विकास हो चुका था। भरत मुनि का नाट्य शास्त्र नृत्यकला का सबसे प्रथम व प्रामाणिक ग्रंथ माना जाता है। इसको पंचवेद भी कहा जाता है। इंद्र की साभ में नृत्य किया जाता था। शिव और पार्वती के नृत्य का वर्णन भी हमें पुराणों में मिलता है।

नाट्यशास्त्र अनुसार भारत में कई तरह की नृत्य शैलियां विकसित हुई जैसे भरतनाट्यम, चिपुड़ी, ओडिसी, कत्थक, कथकली, यक्षगान, कृष्णअट्टम, मणिपुरी और मोहिनी अट्टम। इसके अलावा भारत में कई स्थानीय संस्कृति और आदिवासियों के क्षेत्र में अद्भुत नृत्य देखने को मिलता है जिसमें से राजस्थान के मशहूर कालबेलिया नृत्य को यूनेस्को की नृत्य सूची में शामिल किया गया है।

मुगल काल में भारतीय संगीत, वाद्य और नृत्य को इस्लामिक शैली में ढालने का प्रासास किया गया जिसके चलते उत्तर भारती संगीत, वाद्य और नृत्य में बदलाव हो गया।
(अनिरुद्ध जोशी)

 

 

 

Vote: 
No votes yet

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,769 7
राग भूपाली 1,502 6
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 6,891 6
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,424 5
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 1,309 4
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,501 4
राग दरबारी कान्हड़ा 1,291 3
आविर्भाव-तिरोभाव 1,058 3
वादी - संवादी 1,091 3
रागों के प्रकार 2,367 3
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 180 2
शुद्ध स्वर 1,289 2
स्वर मालिका तथा लिपि 830 2
स्वर मालिका तथा लिपि 1,271 2
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 2,090 2
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 551 2
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 2,091 2
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 660 2
राग मुलतानी 517 2
रागों का विभाजन 327 2
राग बहार 764 2
रागों मे जातियां 2,044 2
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,242 2
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 386 1
राग- गौड़ सारंग 309 1
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 566 1
राग ललित! 1,077 1
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 978 1
टप्पा गायन : एक परिचय 133 1
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 1,112 1
षड्जग्राम-तान बोधिनी 184 1
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 437 1
राग रागिनी पद्धति 1,688 1
स्वर (संगीत) 849 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 668 0
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 90 0
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 803 0
राग यमन (कल्याण) 1,322 0
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,982 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 1,233 6
हारमोनियम के गुण और दोष 2,760 5
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,424 4
स्वरों का महत्त्व क्या है? 466 4
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 730 3
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 608 3
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 738 3
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 406 2
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 222 2
संगीत का विकास और प्रसार 1,024 2
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 395 2
संगीत शास्त्र परिचय 2,591 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 806 2
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 553 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,310 1
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 437 1
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 382 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 324 1
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 524 1
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 292 1
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,621 1
रागों का सृजन 502 1
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 709 1
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 670 1
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,186 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 940 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 1,101 0
भारतीय संगीत 518 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 1,272 4
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 568 3
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 449 3
भारतीय कलाएँ 504 3
गुरु की परिभाषा 1,865 3
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 287 2
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 725 2
गायकी और गले का रख-रखाव 570 2
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 1,160 2
टांसिल होने पर 440 1
माइक्रोफोन की हानि : 335 1
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 522 1
कंठध्वनि 440 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 670 1
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 530 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 479 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 843 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,337 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 600 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 516 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 239 1
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 519 1
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 785 1
शास्त्रीय संगीत और योग 663 1
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,212 1
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 553 1
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 806 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 771 1
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 1,060 1
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 520 1
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 571 0
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 571 0
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 69 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 610 0
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 553 0
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 775 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 3,461 3
भारत में संगीत शिक्षण 1,232 2
कैराना का किराना घराने से नाता 336 1
गुरु-शिष्य परम्परा 921 1
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 411 2
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 295 1
माइक्रोफोन का कार्य 346 1
भारतीय नृत्य कला 1,020 1
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 136 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत के स्वर 432 2
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 208 2
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 212 2
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 182 1
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 173 1
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 243 1
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 236 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 196 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 177 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 149 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 181 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 551 2
बैजू बावरा 566 1
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 574 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 222 1
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 209 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 630 1
रचन: श्री वल्लभाचार्य 726 1
अकबर और तानसेन 628 1
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 106 0
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 515 0
वीडियो
Total views Views today
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 531 2
मोरा सइयां 262 1
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 986 1
कर्ण स्वर 339 1
वंदेमातरम् 252 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 266 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 390 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 320 0
राग यमन 363 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 200 1
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 273 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 346 0
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 246 0