निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद

निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद

निबद्ध – अनिबद्ध की व्याख्या प्राचीन ग्रंथों से लेकर आधुनिक काल तक होती रही है। निबद्ध -अनिबद्ध विशेषण हैं और ‘गान’ संज्ञा है जिसमें ये दोनों विशेषण लगाए जाते हैं। निबद्ध – अनिबद्ध का सामान्य अर्थ ही है ‘बँधा हुआ’ और ‘न बँधा हुआ’, अर्थात् संगीत में जो गान ताल के सहारे चले वह निबद्ध और जो उस गान की पूर्वयोजना का आधार तैयार करे वह अनिबद्ध गान के अन्तर्गत माना जा सकता है। वैसे निबद्ध के साथ आलप्ति और अनिबद्ध के साथ लय का काम किया जाता रहा है।

निबद्ध गान के तीन भेद माने गये हैं यथा- प्रबन्ध, वस्तु और रूपक। ये तीन नाम एक दूसरे के पर्यायवाची माने जा सकते हैं। क्योंकि इनके अर्थ एक ही हैं। इसमें अन्तर इतना ही है कि जिस ‘बन्ध’ में चारों धातु और छहों अंग हों वह ‘प्रबंध’ है और जिसमें धातुओं तथा अंगों की संख्या कुछ कम हो तो वह ‘वस्तु’ है। जहाँ गीत में नाट्य का पुट परिलक्षित हो वहाँ ‘रूपक’ समझना चाहिये।

प्रबन्ध के धातु और अंग

हमारे शास्त्र में प्रबंध की एक पुरुष के रूप में कल्पना की गयी है। जैसे पुरुष के शरीर में वात, पित्त, कफ ये धातुएँ मानी जाती हैं उसी प्रकार प्रबंध पुरुष के चार या पाँच धातु माने गये हैं। आयुर्वेद में मनुष्य शरीर के छ: अंग माने गये हैं। प्रबंध पुरुष के भी छ: अंग हैं। इन धातुओं और अंगों का विवरण निम्नलिखित है।

धातु- उदग्राह, मेलापक, ध्रुव और आभोग ये चार धातुएँ हैं। इन्हे गीत के खण्ड के रूप में समझ सकते हैं। आज हमारे गान में स्थायी अंतरा संचारी और आभोग दिखता है जब कि ख्याल गायकी में तो मात्र स्थायी और अंतरा ही होता है। उसी प्रकार ‘उदग्राह’ गीत का प्रथम भाग होता है। जिसे ‘ध्रुव’ के पहले गाया जाता था। ‘ध्रुव’ आज के ‘स्थायी’ का ही प्राचीन रूप है। जिसे गीत के अंत तक प्रत्येक कड़ी के बाद पुन: पुन: गाया जाता था। ‘उदग्राह’ व ‘ध्रुव’ के बीच में ‘मेलापक’ का स्थान होता है। जिसका अर्थ है मिलाने वाला। गीत के अंतिम भाग को ‘आभोग’ कहा जाता है। अंतरा नाम का पाँचवाँ धातु ध्रुव और आभोग के बीच में माना गया है। दो तीन या चार धातुओं से प्रबंध की रचना की जा सकती है। आज ध्रुवपद या ख्याल सभी की बंदिशों का प्रारंभ ध्रुव (स्थायी) से ही होता है। अर्थात् जिसे हम मुखड़ा कहते हैं वही ध्रुव बनता है। ध्रुपद में दूसरे भाग को अंतरा कहते हैं जो ध्रुव व आभोग के बीच की कड़ी है। वास्तव में आज के ध्रुपद में प्रबंध के धातु में से ध्रुव अंतरा और आभोग ही जिवित हैं। उदग्राह और मेलापक आज की निबद्ध पद्धति से लुप्त हो चुके हैं।

अंग- प्रबंध के छ: अंग माने गये हैं। यथा- स्वर, विरुद, पद, तेन अथवा तेनक, पाट और ताल। इन छ: अंगों में स्वर तथा ताल के बिना प्रबंध की रचना हो ही नहीं सकती। अतएव किसी भी रचना के ये अनिवार्य अंग हैं। पद, विरुद व तेन साहित्य से संबंधित गीत के भेद हैं।

१- पद- ऐसा शब्द जो न तो मंगल अर्थ प्रकाशक होने के कारण तेन के अन्तर्गत जा सके और न ही गुण सूचक होने से विरुद के रूप में ग्रहण किया जा सके; पद कहलाता है।

२-तेन- मंगलार्थ प्रकाशक जैसे ‘हरि ऊँ’ अथवा ‘सर्व खल्विदं ब्रम्ह’ इत्यादि शब्दों को ‘तेन’ कहते हैं।

३- विरुद- गुण सूचक नाम को विरुद कहते हैं।

४- पाट- ताल वाद्य पर बजने वाले वर्ण समूह को ‘पाट’ कहते हैं अर्थात् प्रबंध में स्वर व ताल संगीत के तत्व हैं। गीत तत्व के अन्तर्गत पद, तेन, विरुद एवं पाट का संग्रह किया जाता है। आज भी ध्रुपद शैली के गीतों में विरुद तथा तेन अंग के शब्दों का प्रयोग होता देखा जा सकता है। अन्य गीत पद के अन्तर्गत आ जाते हैं। ‘तिरवट’ शैली के गीत ‘पाट’ के अन्तर्गत आते हैं।

उपर्लिखित छ: अंगों में से ६,५,४,३,२ अंगों से भी प्रबंधों की रचना होती है। इसीलिये अंगों की संख्यानुसार प्रबंधों की ५ जातियाँ मानी गयी हैं। जो निम्नलिखित हैं।

१- भेदिनी- ६ अंग
२- आनन्दिनी- ५ अंग
३- दीपिनी- ४ अंग
४- भावनी- ३ अंग
५- तारावली- २ अंग

उपर्युक्त व्याख्या से यह बात कही जा सकती है कि प्राचीन प्रबंध के धातु और अंग का लोप नहीं हुआ है वरन् वह किसी न किसी रूप में आज भी प्रयोग में हैं। आज स्थायी और अंतरा के रूप में दो धातुएँ तो जीवित ही हैं; साथ ही पद, विरुद, स्वर, ताल, पाट भी किसी न किसी रूप में अभिमूर्त हैं। विशेष परिवर्तन यही है कि आज हम प्रबंधों के प्रकारों के शास्त्रीय नाम तथा विभाजन को बिल्कुल भूल बैठे हैं। और यह भी सत्य है कि जितनी विविधता शास्त्रों में वर्णित है उतनी आज प्रत्यक्ष प्रयोग में नहीं रह गयी है।

अनिबद्ध – अनिबद्ध को शार्ङ्रदेव ने आलप्ति कहा है जिसका वर्णन उन्होंने रागाध्याय में किया है। इसके बारे में विस्तार से चर्चा कल्लिनाथ ने अपनी संगीत रत्नाकर की टीका में की है। जिसके अनुसार ‘ आलप्ति में आविर्भाव व तिरोभाव दोनों का विनियोग करते हुए राग का थोड़ा थोड़ा प्रकटीकरण अभिप्रेत है।’ अर्थात् राग को एक बार में ही स्पष्ट कर प्रस्तुत कर देने में सौंदर्य नहीं है; ढकने खोलने की लुका छिपी में सहृदयों को आनंद मिलता है।[1] इसलिये ‘रागालापनमालप्ति: प्रकटीकरणं मतम्’ इस लक्षण में तिरोभाव सूचक लक्ष्य ‘आलप्ति’ शब्द का पूरक है।

‘संगीत रत्नाकर’ में वर्णित आलप्ति के लक्षण के अनुसार ग्रह-अंश, मन्द्र-तार, न्यास-अपन्यास, अल्पत्व-बहुत्व और औडव-षाडव की अभिव्यक्ति जहाँ हो वह ‘रागालाप’ है। अर्थात् आलाप का प्रयोजन राग विशेष के लक्षणों की अभिव्यक्ति मात्र है। किन्तु सहृदय का रंजन यहाँ प्रयोजन नहीं है। यही रागालाप जब शार्न्गदेव के अनुसार जब विदारी (खण्ड) पृथक – पृथक करके अर्थात् अपन्यास स्वरों के अनुसार विराम देते हुए प्रस्तुत किया जाय, तब ‘रूपक’ कहलाता है। यह रूपक अनिबद्ध का प्रकार है और निबद्ध की तीन संज्ञा – प्रबंध, वस्तु, रूपक में आये रूपक से सर्वथा भिन्न है।

आलप्ति के दो भेद माने गये हैं। – १- रागालप्ति, २- रूपकालप्ति।

रागालप्ति का विभाजन ४ स्वस्थान में किया जाता है। स्वस्थानों का क्षेत्र स्थायी स्वर (Tonic) से निर्धारित होता है। आज सभी रागों में षडज स्वर ही स्थायी स्वर होता है। स्थायी षडज से चतुर्थ स्वर (म) से पूर्व तक अर्थात् स्थायी (tonic) से तीसरे स्वर (ग) तक प्रथम स्वस्थान का क्षेत्र है। अर्थात् रागालप्ति का प्रथम खण्ड षडज से गंधार तक ही बनेगा। मन्द्र स्वर में प्रथम स्वस्थान का क्षेत्र बना रहेगा। चतुर्थ स्वर को द्वि +अर्ध = द्वयर्ध संज्ञा दी गयी है, जिसका अर्थ है एक से दुगने तक के अन्तर का आधा भाग यानि कि डेढ़। ‘द्विगुण’ संज्ञा अष्टम स्वर (सं) की है। अत: चौथा स्वर द्वयर्ध है। जब चतुर्थ स्वर यानि मध्यम को लेते हुए रागालप्ति होगी तब द्वितीय स्वस्थान बनेगा। सप्तम् स्वर तक तृतीय स्वस्थान बनेगा और द्विगुण यानि अष्टम् (सं) स्वर को ले लेने पर चतुर्थ स्वस्थान निष्पन्न होगा। अष्टम स्वर के बाद तार स्थान में मध्य सथान की ही पुनरुक्ति होती है अस्तु तार स्थान में कोई नया स्वस्थान नहीं माना गया है। यदि प्रथम स्वस्थान में ऋषभ स्वर वर्जित हो तो भी गांधार तक ही पहला स्वस्थान गिना जायेगा। रागालाप में आविर्भाव व तिरोभाव का बड़ा महत्व होता है। रागाभिव्यंजन हेतु इसके द्वारा राग के छोटे छोटे स्वर समूहों से राग की स्थापना करी जाती है।

रूपकालाप में जैसा काम निबद्ध गान में लयात्मकता के साथ करते हैं वैसा ही किया जाता है। रूपकालप्ति दो प्रकार की है। १- प्रतिग्रहणिका २- भञ्जनी।

प्रतिग्रहणिका का अर्थ है छोड़ कर फ़िर पकड़ना। आलाप में स्थाय का प्रयोग करके रूपक के अवयव का प्रतिग्रहण करना ‘प्रतिग्रहणिका’ है। रूपक के अवयव को आज की भाषा में ‘मुखड़ा’ समझ सकते हैं।

भञ्जनी का अर्थ है तोड़ना या खण्ड में बाँटना। भञ्जनी भी दो प्रकार की होती है- स्थाय भञ्जनी और रूपक भञ्जनी। ये सारी प्रक्रियायें आलाप के विभिन्न अंगों का निष्पादन करती हैं जिसमें गति की विभिन्न लय प्रक्रिया के साथ साथ विभिन्न वाद्य वादन के बोलों जैसे दिर दिर नोम् तोम् इत्यादि का प्रयोग निहित होता है। आधुनिक वाद्य वादन में आलाप जोड़ इत्यादि इसी रागालाप व रूपकालाप का परिवर्धित रूप रूप माना जा सकता है।

 

 

 

Vote: 
Average: 1 (1 vote)

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 4,892 36
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,648 10
रागों के प्रकार 1,607 7
स्वर मालिका तथा लिपि 1,025 4
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,711 4
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 378 4
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 718 4
शुद्ध स्वर 908 4
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,206 3
रागों का विभाजन 223 3
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 125 3
आविर्भाव-तिरोभाव 774 2
राग ललित! 861 2
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 744 2
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,181 2
राग यमन (कल्याण) 978 2
राग बहार 569 2
राग रागिनी पद्धति 1,368 2
राग भूपाली 1,110 2
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 330 2
राग दरबारी कान्हड़ा 1,036 2
राग- गौड़ सारंग 226 2
स्वर मालिका तथा लिपि 532 1
वादी - संवादी 781 1
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 508 1
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,459 1
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 427 1
राग मुलतानी 397 1
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,256 1
रागों मे जातियां 1,697 1
षड्जग्राम-तान बोधिनी 136 1
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 283 1
स्वर (संगीत) 668 1
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 421 0
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 631 0
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 723 0
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 997 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,035 12
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 818 8
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 539 6
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,191 5
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 583 4
भारतीय संगीत 423 4
हारमोनियम के गुण और दोष 2,251 4
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,019 3
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 264 3
संगीत शास्त्र परिचय 2,212 3
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 551 3
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 954 3
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 337 2
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 301 2
संगीत का विकास और प्रसार 846 2
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 206 2
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 153 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 268 1
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 752 1
रागों का सृजन 403 1
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 316 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 366 1
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 457 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 651 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 890 0
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 397 0
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 441 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 392 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,802 8
भारत में संगीत शिक्षण 1,065 1
गुरु-शिष्य परम्परा 685 0
कैराना का किराना घराने से नाता 271 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 837 8
नई स्वरयंत्र की सूजन 329 7
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,024 6
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 397 4
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 326 3
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 383 3
गुरु की परिभाषा 1,141 3
टांसिल होने पर 349 3
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 529 3
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 427 2
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 458 2
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 702 2
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 338 2
भारतीय कलाएँ 412 2
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 727 2
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 454 2
माइक्रोफोन के प्रकार : 507 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 980 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 495 1
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 526 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 198 1
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 642 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 628 1
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 397 0
कंठध्वनि 309 0
माइक्रोफोन की हानि : 268 0
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 335 0
गायकी और गले का रख-रखाव 348 0
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 587 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 432 0
शास्त्रीय संगीत और योग 539 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 423 0
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 653 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 855 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 234 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 674 3
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 322 1
वंदेमातरम् 191 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 420 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 222 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 259 0
राग यमन 269 0
मोरा सइयां 215 0
कर्ण स्वर 270 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 223 2
भारतीय नृत्य कला 770 1
माइक्रोफोन का कार्य 256 0
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 293 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 401 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 551 1
अकबर और तानसेन 510 1
बैजू बावरा 434 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 152 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 142 0
रचन: श्री वल्लभाचार्य 512 0
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 384 0
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 434 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 133 1
संगीत के स्वर 263 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 174 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 147 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 154 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 140 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 128 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 111 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 84 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 162 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 133 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 200 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 263 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 161 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 220 0