पूरिया कल्याण

थाट: 

यह राग, यमन और पूरिया धनाश्री या पूरिया से मिल कर बना है। इस राग के अवरोह में, उत्तरांग में कल्याण अंग (सा' नि ध प ; म् ध नि ध प) के पश्चात पूर्वांग में (प म् ग म् रे१ ग रे१ सा) पूरिया धनाश्री अंग अथवा (म् ध ग म् ग ; म् ग रे१ सा) पूरिया अंग लिया जाता है।

राग पूरिया कल्याण में पंचम बहुत महत्वपूर्ण स्वर है। राग यमन की तरह, उत्तरांग में आरोह में पंचम का प्रयोग कम किया जाता है जैसे - म् ध नि सा'। इसी तरह आरोह और अवरोह दोनों में कभी कभी षड्ज को छोड़ा जाता है। आलाप और तानों का प्रारंभ अधिकतर निषाद से किया जाता है। यह स्वर संगतियाँ राग पूरिया कल्याण का रूप दर्शाती हैं -

,नि रे१ ग ; ग म् म् ग ; म् ध प ; म् ध नि ध प ; प म् ध प म् ग ; म् रे१ ग ; रे१ सा ; म् ध म् नि ; नि ध म् ध प ; ध नि सा' नि ध प ; ग म् ध नि सा' नि ; ध नि ध सा' ; नि सा' ; ध नि रे१' सा' ; नि रे१' ग' ; ग' म्' ग'; ग' रे१' सा' ; नि ध नि ध प ; प म् ध प ; म् नि ध म् ग ; म् प म् ग ; प ध म् प म् ग ग रे१ रे१ सा ; ,नि ,ध ,म् ,ध ; ,नि रे१ सा ; 

There is currently no content classified with this term.