बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत

 बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत

चार दशकों तक अपने संगीत सागर में श्रोताओं को डुबकी लगवाने वाले बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत- दोनों जगह अपनी धाक जमाई।

पंद्रह अगस्त, 1988 को दूरदर्शन पर राष्ट्रीय अखंडता को समर्पित एक गीत रिलीज हुआ- ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’, जिसमें तमिल में ‘नंबिसेई…’ के बोलों में लगी तान की गूंज पूरे देश में सुनाई दी। 1965 में आई शिवाजी गणेशन अभिनीत फिल्म ‘तिरूविलयादल’ का गीत ‘ओरू नाल पोथुमा’ तो तमिल श्रोताओं में पहले ही बहुत लोकप्रिय हो चुका था, लेकिन ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ की उस तान से एम बालमुरलीकृष्ण उत्तर भारत के घर-घर में पहुंच गए। चार दशकों तक अपने संगीत सागर में श्रोताओं को डुबकी लगवाने वाले बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत- दोनों जगह अपनी धाक जमाई। कर्नाटक संगीत के इस लीजेंड ने पहली बार हिंदुस्तानी घराने के दिग्गज संगीतकारों के साथ मशहूर जुगलबंदियां कीं। इस तरह का उनका पहला कार्यक्रम मुंबई में हुआ, जहां उन्होंने पंडित भीमसेन जोशी के साथ स्वरों में सवाल-जवाब किए। पंडित हरिप्रसाद चैरसिया की बांसुरी की तान का जवाब बालमुरलीकृष्ण ने अपने कंठ से तो किशोरी अमोनकर के स्वरों का उत्तर अपने आध्यात्मिक आलापों से दिया।

ब्रिटिशकाल की मद्रास प्रेसीडेंसी (अब आंध्र प्रदेश राज्य का एक हिस्सा) के पूर्वी गोदावरी जिले के शंकरगुप्तम स्थित उस घर की दीवारें चौबीसों घंटे कर्नाटक संगीत के स्वरों को सुनती रहती थीं, जहां 6 जुलाई, 1930 को मंगलमपल्ली बालमुरलीकृष्ण ने जन्म लिया। पिता बांसुरी, वायलिन और वीणा को झंकृत करते थे तो मां वीणा पर स्वर लहरियां बिखेरती थीं। मुरलीकृष्ण शिशु ही थे, तभी मां के आंचल से महरूम हो गए। संगीत प्रेमी पिता ने ही मां बनकर उनको पाला। स्वरों के बीच सांस लेते बालक मुरलीकृष्ण के रोम-रोम में संगीत बस गया। पिता ने यह देखा तो उन्हें त्यागराज की शिष्य परंपरा के वंशज पारुपल्ली रामकृष्ण पंतुलु के सुपुर्द कर दिया और यहीं से मुरलीकृष्ण ने कर्नाटक संगीत की सरगम सीखी। उस समय मुरलीकृष्ण महज आठ साल के बालक थे। विजयवाड़ा के त्यागराज आराधना में कार्यक्रम चल रहा था, जिसमें प्रतिष्ठित हरिकथा वाचक मुसुनुरी सूर्यनारायण मूर्ति भागवतार भी मौजूद थे। मुरलीकृष्ण ने अपना पहला संगीत कार्यक्रम प्रस्तुत किया। मुसुनुरी सूर्यनारायण मूर्ति बच्चे के भीतर संगीत की अद्भुत प्रतिभा देखकर बोल उठे- ‘बाल मुरलीकृष्ण’! और फिर यही उनका नाम पड़ गया- ‘मंगलमपल्ली बालमुरलीकृष्ण’। 15 साल की उम्र तक बालमुरलीकृष्ण ने सभी 72 मेलकर्ता रागों में महारत हासिल कर ली और इन सभी रागों में कृतियों की रचना की। 1952 में जनक राग मंजरी प्रकाशित हुई और संगीता रिकॉर्डिंग कंपनी ने नौ खंडों की शृंखला में रागांग रावली के नाम से इसे रिकॉर्ड किया। युवा बालमुरलीकृष्ण के संगीत कार्यक्रमों की संख्या बढ़ती गई और इसलिए उन्हें अपनी स्कूली पढ़ाई बंद करनी पड़ी। मंगलमपल्ली जिस कार्यक्रम में गाते, उसमें मंगल ही मंगल हो जाता। कर्नाटक संगीत गायक के रूप में स्थापित होने के बाद उन्होंने मृदंगम पर ताल साधी और वायलिन पर अपनी उंगलियों से स्वरों को इस कदर झंकृत किया कि प्रतिष्ठित मंचों पर कई संगीतकारों के साथ उनकी जुगलबंदी हुई। फिर कंजीरा बजाने में भी महारत हासिल की और एकल वायला वादन में तो ख्याति ही अर्जित कर ली।

उन्होंने दुनियाभर में लगभग 25,000 संगीत कार्यक्रम प्रस्तुत किए। अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, इटली, फ्रांस, रूस, श्रीलंका, मलेशिया, सिंगापुर आदि देशों को कर्नाटक संगीत की रंजकता से सराबोर कर दिया। उनकी मातृभाषा तेलुगु थी, लेकिन उनके कंठ से निकले स्वरों ने तेलुगु के साथ कन्नड़, संस्कृत, तमिल, मलयालम, हिंदी, बंगाली, पंजाबी की रचनाओं को भी अमर कर दिया। हर भाषा में उनका उच्चारण इतना स्पष्ट था कि बंगाली में रवींद्रनाथ ठाकुर की सभी रवींद्र संगीत रचनाओं को रिकॉर्ड करने के लिए उन्हें ही चुना गया। ठाकुर के गीतिकाव्य और ब्रिटेन स्थित गोवा संगीतकार डॉ. जोएल के संगीत निर्देशन में ब्रिटिश गायक मंडली के साथ उन्होंने एकल कलाकार के रूप में यादगार ‘गीतांजलि सूट’ पेश किया। बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक स्वर-ताल का मेल-जोल फ्रेंच भाषा से कराया, तो मलेशियाई राजघराने के लिए आयोजित समारोह में अग्रणी कर्नाटक वाद्य शिक्षक टीएच सुभाषचंद्रन के साथ जैज फ्यूजन में भी हाथ आजमाया। फरवरी 2010 में उन्होंने विशाखापत्तनम में तीन दिवसीय एक संगीत समारोह में तीनों दिन अपना कार्यक्रम प्रस्तुत किया।संगीत की सभी विधाओं में अपनी बहुमुखी प्रतिभा, सम्मोहित करने वाली आवाज और रचनाओं के प्रतिपादन के अनोखे ढंग के कारण बालमुरलीकृष्ण कर्नाटक संगीत के लीजेंड बन गए। संगीत की सात विधाओं में आॅल इंडिया रेडियो ने उन्हें ‘टॉप ग्रेड’ आर्टिस्ट घोषित किया। बालमुरलीकृष्ण ने मनोरंजन के लिए लोकप्रिय मांग के साथ परिष्कृत सुर कौशल और शास्त्रीय संगीत के तालबद्ध पैटर्न का मेल किया और पूर्ववर्ती दिग्गजों की आकाशगंगा की तरह अपने तरीके से संगीत की विरासत को सहेजा। कवि, संगीतकार और संगीत वैज्ञानिक के रूप में तीनों की रचनाओं के तत्त्व बहाल किए और कर्नाटक संगीत में एक नए युग की शुरुआत की। स्वयं तेलुगु, संस्कृत और तमिल सहित विभिन्न भाषाओं में चार सौ से ज्यादा संगीत रचनाएं रचीं, जिनमें भक्ति संगीत से लेकर वर्ण, कृति, भावगीत और थिलान तक हैं, तो भद्राचल रामदास और अन्नामाचार्य की संगीत रचनाओं को भी लोकप्रिय बनाया। थिलान में संगथी का प्रवेश कराने में भी उन्हें अग्रणी माना जाता है।

दरअसल, गैरपरंपरागत, प्रयोग की भावना और असीम रचनात्मकता ही मुरलीकृष्ण की संगीत यात्रा की विशेषता रही। उन्होंने कर्नाटक संगीत परंपरा को बरकरार रखते हुए कई नवाचार किए। गणपति, सर्वश्री, सुमुखम, लावंगी जैसे राग उनके स्वर-ज्ञान सागर से ही निकले, जिनमें आरोह और अवरोह पैमाने तीन या चार ही नोट हैं। उनके द्वारा रचित महाती, लावंगी, सिद्धि, सुमुखम में केवल चार और सर्वश्री, ओंकारा, गणपति में तीन नोट हैं। बालमुरलीकृष्ण ने ताल की वर्तमान पद्धति के हिस्से ‘सशब्द क्रिया’ (तालों की वे क्रियाएं, जो ध्वनि-शब्द उत्पन्न कर सकती हैं) में ‘गति बेदम’ को शामिल किया और ताल पद्धति की एक नई शृंखला शुरू की। वैसे संत अरुंगिरिनादर भी अपने प्रसिद्ध तिरुपुगाज में ऐसी पद्धतियों को शामिल करते थे, लेकिन केवल संधाम के रूप में। बालमुरलीकृष्ण ने ऐसे संधामों को अंगम और परिभाषा के साथ एक तार्किक लय में ढाला। त्रिमुखी, पंचमुखी, सप्तमुखी और नवमुखी प्रारंभिक वर्गीकरण हैं, जिनका नामकरण उन्होंने अपनी नई ताल पद्धति के लिए किया।नए रागों के आविष्कार के लिए बालमुरलीकृष्ण की आलोचना भी हुई। रूढ़िवादियों ने इसे अपवित्र करने वाला काम माना, लेकिन वास्तव में नए रागों का नवप्रवर्तन त्यागराज की विरासत को परिभाषित करने वाली खासियत थी।

तभी तो त्यागराज कृत नागोमोमू की भावुक व्याख्या के लिए बालमुरलीकृष्ण को खूब वाहवाही मिली और वह आज भी लोकप्रिय है। बालमुरलीकृष्ण की रुचि जब संगीत चिकित्सा के प्रति तेजी से बढ़ी तो उन्होंने संगीत से सेहत सुधार पर काम शुरू किया। बालमुरलीकृष्ण ने एवीएम प्रोडक्शंस के बैनर तले 1967 में बनी तेलुगु फिल्म ‘भक्त प्रह्लाद’ नारद की भूमिका के साथ अभिनय की जमीन पर भी कदम रखा था, जिसमें उन्होंने अपने गीत भी गाए। उन्होंने तेलुगु और तमिल की कुछ अन्य फिल्मों में भी अभिनय किया और तेलुगु, संस्कृत, कन्नड़ द्न तमिल की अनेक फिल्मों में अपनी आवाज दी। वह एकमात्र कर्नाटक संगीतकार रहे, जिन्हें तीन राष्ट्रीय पुरस्कार- सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक, सर्वश्रेष्ठ संगीतकार और सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशक के रूप में मिले और फ्रांस सरकार की ओर से चेविलियर्स आॅफ द आर्डर डेस आर्ट्स एट डेस लेटर्स मिला। भारत के तीनों पद्म पुरस्कार- पद्मश्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण के साथ संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, यूनेस्को से महात्मा गांधी रजत पदक और ग्लोबल इंडियन म्यूजिक एकेडमी की ओर से लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड उनकी झोली में गिरकर खुद सम्मानित हो गए। 22 नवंबर, 2016 को बालमुरलीकृष्ण की सांसों की लय की गति बेदम हो गई और फिर सम पर न आ सकी, लेकिन कृष्ण की मुरली की-सी बालमुरलीकृष्ण की तान संगीत प्रेमियों की स्मृतियों में सदैव गूंजती रहेगी। ०

 

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 4,892 36
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,649 11
रागों के प्रकार 1,607 7
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,711 4
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 378 4
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 718 4
शुद्ध स्वर 908 4
स्वर मालिका तथा लिपि 1,025 4
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,206 3
रागों का विभाजन 223 3
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 331 3
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 125 3
राग ललित! 861 2
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 744 2
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 509 2
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,181 2
राग यमन (कल्याण) 978 2
राग बहार 569 2
राग रागिनी पद्धति 1,368 2
राग भूपाली 1,110 2
राग दरबारी कान्हड़ा 1,036 2
राग- गौड़ सारंग 226 2
आविर्भाव-तिरोभाव 774 2
वादी - संवादी 781 1
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,459 1
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 427 1
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 632 1
राग मुलतानी 397 1
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,256 1
रागों मे जातियां 1,697 1
षड्जग्राम-तान बोधिनी 136 1
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 283 1
स्वर (संगीत) 668 1
स्वर मालिका तथा लिपि 532 1
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 422 1
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 723 0
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 997 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,035 12
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 819 9
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 539 6
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,191 5
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 583 4
भारतीय संगीत 423 4
हारमोनियम के गुण और दोष 2,251 4
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 552 4
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 207 3
संगीत शास्त्र परिचय 2,212 3
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 954 3
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,019 3
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 338 3
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 264 3
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 301 2
संगीत का विकास और प्रसार 846 2
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 458 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 652 2
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 268 1
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 752 1
रागों का सृजन 403 1
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 316 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 366 1
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 153 1
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 441 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 392 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 890 0
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 397 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 838 9
नई स्वरयंत्र की सूजन 329 7
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,024 6
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 397 4
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 339 3
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 383 3
गुरु की परिभाषा 1,141 3
भारतीय कलाएँ 413 3
टांसिल होने पर 349 3
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 529 3
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 326 3
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 458 2
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 702 2
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 643 2
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 727 2
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 454 2
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 427 2
माइक्रोफोन के प्रकार : 507 1
गायकी और गले का रख-रखाव 349 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 495 1
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 526 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 980 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 433 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 198 1
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 588 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 628 1
माइक्रोफोन की हानि : 269 1
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 335 0
शास्त्रीय संगीत और योग 539 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 423 0
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 653 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 855 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 234 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 397 0
कंठध्वनि 309 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,802 8
भारत में संगीत शिक्षण 1,065 1
कैराना का किराना घराने से नाता 271 0
गुरु-शिष्य परम्परा 685 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 674 3
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 322 1
वंदेमातरम् 191 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 420 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 222 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 259 0
राग यमन 269 0
मोरा सइयां 215 0
कर्ण स्वर 270 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 223 2
भारतीय नृत्य कला 770 1
माइक्रोफोन का कार्य 256 0
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 293 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 401 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 551 1
अकबर और तानसेन 510 1
बैजू बावरा 434 1
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 435 1
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 142 0
रचन: श्री वल्लभाचार्य 512 0
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 384 0
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 152 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 133 1
संगीत के स्वर 263 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 174 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 147 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 154 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 140 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 128 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 111 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 84 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 162 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 133 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 200 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 263 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 161 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 220 0