बैजू बावरा

बैजू बावरा का जीवन परिचय, बैजू बावरा गीत, बैजू बावरा 1952, बैजू बावरा की समाधि, बैजू बावरा का मकबरा, बैजू बावरा मन तड़पत हरि दर्शन को आज (राग मालकौंस), बैजू बावरा (1952 फ़िल्म), बैजू बावरा तू गंगा की मौज

बैजू बावरा भारत के ध्रुपदगायक थे। उनको बैजनाथ प्रसाद और बैजनाथ मिश्र के नाम से भी जाना जाता है। वे ग्वालियर के राजा मानसिंह के दरबार के गायक थे और अकबर के दरबार के महान गायक तानसेन के समकालीन थे। उनके जीवन के बारे में बहुत सी किंवदन्तियाँ हैं जिनकी ऐतिहासिक रूप से पुष्टि नहीं की जा सकती है।

प्रारंभिक जीवन
१६ वीं शताब्दी के महान गायक संगीतज्ञ तानसेन के गुरुभाई पंडित बैजनाथ का जन्म चंदेरी में सन् १५४२ में शरद पूर्णिमा की रात एक ब्राह्मण परिवार में हुआ। पंडित बैजनाथ की बाल्यकाल से ही गायन एवं संगीत में काफ़ी रुचि थी। उनके गले की मधुरता और गायन की चतुराई प्रभावशाली थी। पंडित बैजनाथ को बचपन में लोग प्यार से 'बैजू' कहकर पुकारते थे। बैजू की उम्र के साथ-साथ उनके गायन और संगीत में भी बढ़ोतरी होती गई। जब बैजू युवा हुए तो नगर की कलावती नामक युवती से उनका प्रेम प्रसंग हुआ। कलावती बैजू की प्रेयसी के साथ-साथ प्रेरणास्रोत भी रही। संगीत और गायन के साथ-साथ बैजू अपनी प्रेयसी के प्यार में पागल हो गए। इसी से लोग उन्हें बैजू बावरा कहने लगे। बैजनाथ ने ध्रुपद शैली में गायन की दीक्षा उस समय के मशहूर गुरु हरिदास स्वामी से वृंदावन में ग्रहण की थी।
ग्वालियर में जय विलास महल में संरक्षित ऐतिहासिक पुस्तकों के अनुसार, बैजू राग दीपक गाकर तेल के दीप जला सकते थे, राग मेघ, मेघ मल्हार, या गौड़ मल्हार गाकर वर्षा करा सकते थे, राग बहार गाकर फूल खिला सकते थे और यहाँ तक कि राग मालकौंस गाकर पत्थर भी पिघला सकते थे।

संगीत प्रतियोगिता
सम्राट अकबर संगीत एवं कला का प्रेमी था। उसके दरबार में संगीतकारों और साहित्यकारों का तांता लगा रहता था। तानसेन अकबर के दरबार के नौ रत्नों में गिने जाते थे। अकबर ने अपने दरबार में एक संगीत प्रतियोगिता का आयोजन रखा। इस प्रतियोगिता की यह शर्त थी कि तानसेन से जो भी मुक़ाबला कर जीतेगा, वह अकबर के दरबार का संगीतकार बना दिया जायेगा तथा हारे हुए प्रतियोगी को मृत्युदण्ड दिया जाएगा। कोई भी संगीतकार इस शर्त के कारण सामने नहीं आया परंतु बैजू बावरा ने यह बीड़ा उठाया तथा अपने गुरु हरिदास से आज्ञा प्राप्त कर संगीत प्रतियोगिता में भाग लिया। अंततः इस प्रतियोगिता में बैजू की हार हुई, किंतु बाद में अकबर ने प्रसन्न होकर बैजू को अपने दरबार में रखने का प्रस्ताव रखा। लेकिन अकबर के दरबार के इतिहासकार अबुल फ़ज़ल और औरंगज़ेब के दरबार के इतिहासकार फ़क़ीरुल्लाह के अनुसार बैजू ने तानसेन को प्रतियोगिता में हराया था और तानसेन ने बैजू के पैर छूकर अपने प्राणों की भीख मांगी थी। बैजू ने तानसेन को माफ़ कर दिया और ख़ुद ग्वालियर वापस चला गया।

कश्मीर प्रकरण
बैजू बावरा अकबर के दरबार में रहने के बजाय ग्वालियर आ गए, जहां उन्हें सूचना मिली कि उनके गुरु हरिदास समाधिस्थ होने वाले हैं। वे अपने गुरु के अंतिम दर्शनों के लिए वृन्दावन पहुंचे और उनके दर्शन करने के पश्चात विभिन्न प्रकार की आपदाओं का सामना करते हुए अपने जीवन के अंतिम पड़ाव में कश्मीर नरेश की राजधानी श्रीनगर पहुंचे। उस समय उनका शिष्य गोपाल नायक वहां दरबारी गायक था। फटेहाल बैजू ने अपने आने की सूचना गोपालदास तक पहुंचाने के लिए द्वारपाल से कहा, तो द्वारपाल ने दो टूक जवाब दिया कि उनके स्वामी का कोई गुरु नहीं है। यह सुनकर बैजू को काफ़ी आघात पहुंचा और वे श्रीनगर के एक मंदिर में पहुंचकर राग ध्रुपद का गायन करने लगे। बैजू के श्रेष्ठ गायन को सुनकर अपार भीड़ उमड़ने लगी। जब बैजू की ख़बर कश्मीर नरेश के पास पहुंची, तो वे स्वयं भी वहां आए तथा बैजू का स्वागत कर अपने दरबार में ले आए। कश्मीर नरेश ने गोपालदास को पुनः संगीत शिक्षा दिए जाने हेतु बैजू से निवेदन किया। राजा की आज्ञा से उन्होंने गोपाल को पुनः संगीत शिक्षा देकर निपुण किया।
एक अन्य दन्तकथा के अनुसार गोपाल नायक बैजू का प्रिय शिष्य था। वह अपनी पत्नी प्रभा के साथ बैजू को छोड़ जीविका के लिए कहीं और चला गया जिसके आघात से बैजू अपना आपा खो बैठा और उसका नाम बैजू बावरा पड़ गया। गोपाल नायक कश्मीर नरेश के दरबार में गायक नियुक्त हो गया और वहाँ उसने यह प्रचलित कर दिया कि वह स्व-शिक्षित है और उस पर किसी भी गुरु की कृपा नहीं है। यह सुन बैजू फटेहाल श्रीनगर पहुँचा और अपने गायन से सबको मंत्रमुग्ध कर दिया लेकिन गोपाल नायक ने अपने गुरु को पहचानने से मना कर दिया। आहत बैजू एक मंदिर में जाकर गाना गाने लगा और वहाँ भारी भीड़ उमड़ पड़ी और जब कश्मीर नरेश को इस बात की सूचना मिली तो कश्मीर नरेश ने बैजू को अपने दरबार में बुलवा भेजा और बैजू और गोपाल की संगीत प्रतियोगिता रखवा डाली। बैजू को पहले गाने का मौका मिला और गोपाल को उसका उत्तर देना था। बैजू ने राग भीमपलासी गाया जिसके कारण पत्थर पिघलने लगे। गोपाल ने उत्तर में गाया लेकिन जीत न पाया। प्रतियोगिता की शर्त के अनुसार हारने वाले को मृत्युदण्ड दिया जाना था लेकिन बैजू बावरा ने राजा से अनुरोध कर गोपाल को मृत्युदण्ड से बचा लिया। लेकिन अपनी मूर्खता के कारण गोपाल को अपनी जान से हाथ गँवाना पड़ा। उसका अन्तिम संसकार सतलज के किनारे उसकी पुत्री मीरा ने किया। ऐसा कहा जाता है कि दाह संस्कार के बाद जब गोपाल की हड्डियों को नदी में फेंका गया तो वह डूब गयीं। दन्तकथा के अनुसार गोपाल की विधवा प्रभा ने जब बैजू से उन हड्डियों को लाने का अनुरोध किया तो बैजू ने गोपाल की पुत्री मीरा को राग मल्हार का एक नया संस्करण सिखाया जिसको एक सप्ताह तक सीखने के बाद जब मीरा ने सतलज के किनारे भीड़ के सामने जब गाया तो गोपाल की हड्डियाँ नदी के किनारे आ लगीं। उस समय के बाद से उस राग को मीरा की मल्हार का नाम दिया गया। इस प्रकरण के पश्चात् उदास बैजू चंदेरी वापस चला आया।

देहान्त
बैजू का ७१ वर्ष की आयु में मियादी बुख़ार के कारण चंदेरी में सन् १६१३ ई. में वसन्त पञ्चमी के दिन देहान्त हो गया।

 

 

 

Vote: 
Average: 3 (3 votes)

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 5,021 12
वादी - संवादी 2,889 9
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 11,849 8
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 3,034 7
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 3,938 6
रागों के प्रकार 5,200 6
स्वर मालिका तथा लिपि 2,735 6
राग रागिनी पद्धति 2,992 5
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 2,689 5
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 4,286 5
राग दरबारी कान्हड़ा 2,358 4
शुद्ध स्वर 2,668 4
आविर्भाव-तिरोभाव 2,998 4
राग ललित! 2,250 4
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 2,276 4
रागों मे जातियां 3,132 3
राग भूपाली 2,924 3
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 852 3
स्वर (संगीत) 2,158 3
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 1,263 3
टप्पा गायन : एक परिचय 851 3
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 1,437 3
राग यमन (कल्याण) 2,650 3
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 2,257 2
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 967 2
स्वर मालिका तथा लिपि 2,075 2
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 2,158 2
रागों का विभाजन 703 2
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 376 1
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 1,247 1
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 3,499 1
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 1,752 1
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 1,203 1
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 1,433 1
राग बहार 1,669 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 371 0
राग- गौड़ सारंग 715 0
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 364 0
राग मुलतानी 947 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 963 8
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 2,559 7
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,923 7
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 1,724 6
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 2,702 5
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 1,280 5
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 1,688 5
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 2,301 4
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 1,049 4
नई स्वरयंत्र की सूजन 937 4
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 934 4
गायकी और गले का रख-रखाव 1,079 4
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 1,500 4
संगीत सुनने से दिमाग पर होता है ऐसा असर 264 3
कंठध्वनि 854 3
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 971 3
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 1,125 3
गुरु की परिभाषा 3,846 3
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 1,704 2
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 482 2
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 1,452 2
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 804 2
माइक्रोफोन के प्रकार : 1,297 2
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 1,278 2
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 841 1
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 259 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 1,349 1
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 990 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 930 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 439 1
शास्त्रीय संगीत और योग 1,129 1
संगीत कितने प्रकार का होता है और उसका किशोरों के दिमाग पर क्या असर पड़ता है? 282 1
टांसिल होने पर 697 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 889 0
माइक्रोफोन की हानि : 553 0
आइआइटी कानपुर ने भी माना राग दरबारी सुनने से तेज होता है दिमाग, दूर कर सकते रोग 245 0
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 986 0
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 1,298 0
भारतीय कलाएँ 720 0
माता-पिता अपने किशोर बच्चों को गानो के गलत प्रभाव से कैसे बचा सकते हैं? 180 0
क्या प्रभाव पड़ता है संगीत का किशोरों पर? 188 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
हारमोनियम के गुण और दोष 4,422 6
संगीत शास्त्र परिचय 4,082 5
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 1,419 5
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 1,935 4
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 2,316 4
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 2,554 3
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 1,268 3
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 1,305 3
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 914 2
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 558 2
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 4,470 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 1,323 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 2,179 1
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 531 1
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 1,393 1
संगीत का विकास और प्रसार 1,901 1
भारतीय संगीत 832 1
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 625 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 861 0
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 1,207 0
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 1,069 0
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,913 0
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 2,082 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 586 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 1,723 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 1,076 0
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 734 0
रागों का सृजन 805 0
वीडियो
Total views Views today
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 645 5
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 1,146 3
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 2,675 2
कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया 256 1
वंदेमातरम् 411 1
राग यमन 647 1
कर्ण स्वर 514 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 424 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 615 0
मोरा सइयां 455 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
भारत में संगीत शिक्षण 1,948 4
गुरु-शिष्य परम्परा 1,613 3
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 5,707 3
रामपुर सहसवां घराना भी है गायकी का मशहूर घराना 221 0
कैराना का किराना घराने से नाता 514 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 1,064 3
भारतीय नृत्य कला 2,023 2
शास्त्रीय संगीत क्या है 293 2
बेहद लोकप्रिय है शास्त्रीय गायकी का किराना घराना 197 2
मेवाती घराने की पहचान हैं पंडित जसराज 209 1
लोक कला की ध्वजवाहिका 165 1
लोक और शास्त्र के अन्तरालाप की देवी 151 1
कर्नाटक गायन शैली के प्रमुख रूप 300 1
वेद में एक शब्द है समानिवोआकुति 224 1
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 422 1
माइक्रोफोन का कार्य 750 1
पंडित भीमसेन गुरुराज जोशी 255 1
लता मंगेशकर का नाम : भारतीय संगीत की आत्मा 202 0
जयपुर- अतरौली घराने की देन हैं एक से बढ़कर एक कलाकार 216 0
काशी की गिरिजा 176 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 487 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत का आधार: 240 0
राग क्या हैं 684 0
क्या अलग था गिरिजा देवी की गायकी में 283 0
कर्नाटक संगीत 342 0
ठुमरी का नवनिर्माण 183 0
रागदारी: शास्त्रीय संगीत में घरानों का मतलब 263 0
सबसे पुराना माना जाता है ग्वालियर घराना 269 0
आगरा का भी है अपना शास्त्रीय घराना 182 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 1,130 3
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 952 3
उस्ताद बड़े गुलाम अली खान वाला पटियाला घराना 278 1
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 360 1
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 1,082 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 898 1
रचन: श्री वल्लभाचार्य 1,324 1
अकबर और तानसेन 1,086 1
बैजू बावरा 1,013 0
फकीर हरिदास और तानसेन के संगीत में क्या अंतर है? 204 0
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 439 0
पण्डित अजॉय चक्रबर्ती 182 0
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 371 0
बड़े गुलाम अली खान: जिन्होंने गाने के लिए रफी और लता से 50 गुना फीस ली 212 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 524 3
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 669 2
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 316 2
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 483 1
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 789 2
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 426 2
संगीत के स्वर 1,248 1
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 409 1
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 341 1
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 391 1
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 580 1
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 408 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 489 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 481 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 344 0