रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग

रागों का वर्गीकरण, टाइम थ्योरी ऑफ़ रागस इन हिंदी, संगीत राग, थाट व उसके प्रकार, राग दीपक नोट्स, राग की परिभाषा, मल्हार राग

प्रमुख रागों में ऐसे स्वर समूह होते है जिनसे उनकी स्वतंत्र छवि बनती है। ऐसे ही स्वतंत्र छवि बनाने वाले स्वर समूह को रागांग कहते है तथा स्वतंत्र अंग वाले राग, रागांग प्रमुख राग माने जाते हैं। ऐसे रागों में विस्तार की विस्तृत संभावनायें रहती है। आधुनिक काल में हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति में रागांग वर्गीकरण पद्धति को महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। इसी पद्धति एवं प्रमुख रागांग आदि का विश्लेषण इस लेख में प्रस्तुत किया गया है।
रागांग वर्गीकरण पद्धति स्वर साम्य की अपेक्षा स्वरूप साम्य पर आधारित है क्योंकि ‘राग की सामान्य पहिचान तो स्वरों द्वारा हो जाती है परन्तु सूक्ष्म पहचान विशिष्ट स्वर समूहों द्वारा ही सम्भव है।’1 इस पद्धति का उल्लेख मध्यकाल से ही होता आया है। रागों के प्रकारों में रागांग प्रकार के रागों का उल्लेख तथा वर्णन नान्य देव, शारंगदेव, कुम्भ आदि ग्रन्थकारों ने बताया है, किन्तु इसका विस्तार मध्यकाल से अधिक हुआ है ऐसा प्रतीत होता है। कल्ल्निाथ के अनुसार- ‘‘रागांग राग वे है, जिनमें ग्राम रागों की छाया हो।’’2 इससे कल्पना की जा सकती है कि एक मुख्य राग की छाया (किसी विशेष स्वर समुदाय द्वारा) भिन्न-भिन्न रागों मे उपस्थित हो, तब उसे रस राग को रागांग कहा जता है। मध्यकाल मेें रागांग पद्धति को हो भेद पद्धति भी कहा जाता था। पं0 भावभट्ट का 18 भेदों का योगदान इस क्षेत्र में सराहनीय है।
मध्यकाल में मिश्र रागों के निर्माण में इस पद्धति का प्रयोग दृष्टिगोचर होता है। इस प्रकार के रागों का मिश्रण करके नए राग बनाने वालों में अमीर खुसरों अपना विशेष स्थान रखते हैं। अमीर खुसरों ने मुख्य रागों के साथ अन्य रागों को मिलाकर कई अन्य नए रागों की रचना की हैै।3 रत्नाकर के अनुसार इस समय में सब मिलाकर 264 से अधिक राग प्रचार में थे। संगीत रत्नाकर मंे 30 ग्राम राग, 8 उप राग, 20 राग, 96 भाषा, 20 विभाषा, 4 अन्तर भाषा, 21 पूर्व प्रसिद्ध तथा अधुना प्रसिद्ध रागांग, 20 भाषांग, 15 क्रियांग तथा 30 उपांग, कुल 264 रागों के नाम है।4
रागांग का शाब्दिक अर्थ होता है राग का अंग। यानी राग में प्रयुक्त कुछ विशेष स्वर संगति जिसके द्वारा राग स्पष्ट रूप से पहचाना जा सकें। जब प्राचनी व सिद्ध रागों की स्वरावली अन्य रागों में भी प्रयुुक्त होती दिखायी देती है तो वही उस राग का रागांग कहलाता है। प रे स्वर संगति कल्याण को दर्शाती है। रे प यह मीडयुक्त स्वर संयोग तुरन्त मल्हार अंग दर्शाता है।
कहा जा सकता है कि कुछ प्रमुख रागों में ऐसे स्वर समूह होते है जिनसे उनकी स्वतंत्र छवि बनती है। बस ऐसे ही स्वतंत्र छवि बनाने वाले स्वर समूह को रागांग कहते है तथा स्वतंत्र अंग वाले राग रागांग प्रमुख राग माने जाते है, ऐसे रागों में विस्तार की विस्तृत संभावनायें रहती है। आधुनिक काल में हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति में रागांग वर्गीकरण पद्धति को महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है।
आधुनिक काल में पं0 भातखंडे का इस पद्धति में योगदान है। पं0 जी ने हिन्दुस्तानी संगीत में प्रचलित मुख्य रागों में से कुछ स्वर समूहों को चुना तथा उसके आधार पर रागों का वर्गीकरण किया। उनके अनुसार रागांग में अंग ऐसा भाग है, जो रागों में अधिक स्पष्ट दिखता है। किसी राग के आरोह में नियमित स्वर छोड़ना, किसी के आरोह या अवरोह विशेष प्रकार के रखना, किसी राग की स्वर रचना विशिष्ट प्रकार की रखना आदि। उदारहरणार्थ इसे काफी थाट के अंगों में समझा जा सकता है। पं0 जी ने काफी थाट के पाँच अंग माने है, काफी अंग, धनाश्री अंग, कानड़ा अंग, सारंग अंग, मल्हार अंग। इन रागों से विशेष प्रकार का स्वरसमूह चुनकर उनका प्रयोग जिन रागों में होता है, उन्हें उस रागांग से जाना गया है।
पं0 विष्णु दिगम्बर पलुष्कर जी के शिष्य श्री नारायण मोरेश्वर खरे जी ने प्रचलित रागों के अंगभूत टुकड़ों को चुना अथवा ऐसे प्रचलित रागों को खोजा जिनसे अन्य रागों का साम्य हो सके। इस प्रकार के रागों को एक वर्ग में रखकर ‘रागांग’ संज्ञा से सम्मानित किया गया तथा ऐसे रागांगों की संख्या तीस मानी गयी। इन्हीं रागांगों के राग वाचक स्वरों के आधार पर अन्य रागों के गायन-वादन का विधान ही इस वर्गीकरण की प्रमुख विशेषता है। ये तीस रागांग इस प्रकार हैं:-
1. कल्याण 2. बिलावल 3. खमाज
4 भैरव 5. काफी 6. मारवा
7 तोड़ी 8. पूर्वी 9. आसावरी
10. भैरवी 11. सारंग 12. ललित
13. भीमपलासी 14. श्री 15. विभास
16. पीलू 17. सोरठ 18. केदार
19. नट 20. कानड़ा 21. बागेश्वरी
22. शंकरा 23. हिंडोल 24. आसा
25. मल्हार 26. भूपाली 27. कामोद
28. भटियार 29. बिहाग 30. दुर्गा
भारतीय संगीत शास्त्र में तुलसी राम देवांगन ने रागांग के लिए बताया कि उत्तर भारतीय संगीत में ऐसे अंग प्रमुख राग जिनके स्वतंत्र अंग सर्वमान्य है तथा जिनकी छाया या अंग प्रभाव दूसरे रागों में दिखायी देते है5 निम्नांकित हैः-
1. विलावल अंग 2. काफी अंग 3. कल्याण अंग
4 धनाश्री अंग 5. सारंग अंग 6. कानड़ा अंग
7 मल्हार अंग 8. खमाज अंग 9. भैरव अंग
10. गौरी अंग 11. श्री अंग 12. तोड़ी अंग
13. मारवा अंग 14. भैरवी अंग 15. आसावरी अंग
16. पूर्वी अंग 
प्राचीन महान संगीतज्ञों द्वारा प्रदर्शित तथा प्रचलित जाति गायन कालांतर में राग एवं उसी के अंग-प्रत्यंगों के जोड़-तोड़ के रूप रूपांतर से सृजित राग एवं इन्हीं रागों के रागांगों द्वारा अनगिनत राग काल क्रम में उत्पन्न होते रहे है और आगे भी होते रहेंगे तब अनावश्यक रूप से अवैज्ञानिक तथा असैद्धान्तिक काल्पनिक थाट तथा थाट राग वर्गीकरण प्रचलन की आवश्यकता नहीं थी।
अमुक थाट से अमुक राग उत्पन्न होता है’ यह तथ्य अथवा उक्ति राग वर्गीकरण व्याख्यान में ऐतिहासिक, सैद्धान्तिक अथवा विज्ञान सम्मत नहीं प्रतीत होती है, थाट की उत्पत्ति से सैकड़ों वर्ष पूर्व ही राग की उत्पत्ति हो चुकी थी, जैसा कि शास्त्र कहता है कि छठवीं शताब्दी के मतंग मुनि कृत वृहद्देशी ग्रन्थ में प्रथम बार राग उल्लेख किया गया है और थाट का उल्लेख उसके सैकड़ों वर्षों बाद पंद्रहवी शताब्दी के लेखक पं0 लोचन कवि ने अपने ग्रंथ राग तंरगिणी में प्रथम बार किया। अब, जब राग की रचना थाट से सैकड़ों वर्ष पूर्व ही हो चुकी थी तब राग, थाट का जनक हुआ, न कि थाट राग का।
हर कोई राग उसके अपने अंगों से ही पहचाना जाता है, थाट से नहीं। इस कथन की पुष्टि स्वयं पं0 भातखण्डे जी की निम्नोक्त उक्ति से भी की जा सकती है ‘‘प्रत्येक राग का अपना एक विशेष, दूसरे सब रागों से भिन्न स्वरूप होता है।’’ जैसे कोई दरबारी, अथवा जौनपुरी (आसावरी थाट)गाने वाले कलाकार से दरबारी अथवा जौनपुरी के अंग ही सुनना चाहेंगे आसावरी अंग नहीं।
जयसुख लाल त्रिभुवनशाह केे अनुसार रागांग ’’राग के राग वाचक मुख्य अंग को वैसे ही रखकर (1) कुछ स्वरों मे हेर-फेर यानी शुद्ध स्वरूप बदलने से (2) स्वरों की संख्या घटाने अथवा बढ़ाने से (3) विविध स्वर संगतियों को वक्रत्व प्रदान करने से, राग को अन्य रागों से मिलन कराने से जिनमें मूल राग का स्वरूप दिखता रहे। ऐसे रागों को रागांग राग कहते है। इसी प्रकार से शिवमत भैरव, बंगाल भैरव, अहीर भैरव, आदि कई राग प्रचार में है।6
रागांग ही राग उत्पत्ति तथा राग वर्गीकरण का वैज्ञानिक तथा सैद्धान्तिक आधार है थाट नहीं किसी एक राग अथवा एकाधिक रागों के एक अथवा एकाधिक रागांग ही राग उत्पत्ति तथा राग वर्गीकरण का वैज्ञानिक तथा सैद्धान्तिक सहज सरल बोधगम्य आधार, है, जिसे जाने बिना कोई अच्छा विद्यार्थी, अच्छा शिक्षक अथवा अच्छा कलाकार कदापि नहीं बन सकता। जिन्हें किसी एक अथवा एकाधिक रागों के अंग अथवा अंगो की जानकारी जितनी अधिक होगी वे उतनी ही आत्मविश्वास के साथ राग गायन वादन प्रस्तुत कर सकते है। उन्हें यह ज्ञान होगा कि किसी मौलिक राग का मुख्य अंग कहाँ-कहाँ कैसे-कैसे प्रयोग करना है। मैलिक तथा मिश्र जाति के इन मुख्य अंगों के द्वारा ही हर कोई राग अपनी पहचान तथा प्रतिष्ठा स्थापित करता है, जिसे कहते है विविध अंग अर्थात् रागों के नाम से जैसे बिलावल अंग, भैरव अंग, तोड़ी अंग, सारंग अंग, मल्हार अंग आदि-आदि।
डाॅ0 जतिन्द्र सिंह खन्ना के अनुसार ‘’रागों को एक अंग हो सकता है किन्तु कुछ रागों का अंग एक प्रधान अंग के रूप में स्थापित हो चुका है और इस राग के साथ नाम तथा स्वरों की दृष्टि से कुछ अन्य राग भी जुड़ गये है।’’ जैसे- एकराग मियाँ की तोड़ी है। इसके प्रधान अंग को तोड़ी अंग कहते है। यह राग की चलन तथा स्वर विस्तार से सम्बन्धित हैं। इसका प्रयोग जब भी कहीं होगा तो उसमें तोड़ी शब्द को प्रयोग होगा तोड़ी अंग लगाया जाएगा। जैसे गुर्जरी तोड़ी शब्द भी आया है तथा तोड़ी के स्वर भी सम्मिलित है। इसी प्रकार विलासखानी तोड़ी में स्वर तो भैरवी के है परन्तु इसकी चलन तोड़ी के समान है। इसलिए यह तोड़ी का प्रकार है।7
राग गायन-वादन के लिए हमें जानने की आवश्यकता है रागांगो की थाट की नहीं। तोड़ी अंग के बिना, तोड़ी अंग के राग भूपालतोड़ी, गुर्जरी तोड़ी, वैरागी तोड़ी आदि राग, तोड़ी थाट से, सारंग अंग के बिना, सारंग अंग के राग वृंदावनी, मधमाद, शुद्ध सारंग, सामंत सारंग, आदि राग काफी थाट से कान्हड़ा अंग के बिना, कान्हड़ा अंग के राग दरबारी, आड़ाना, नायकी, सुहा आदि राग आसावरी थाट से गाया बजाया जाना बिलकुल सम्भव नही। जौनपुर के सुल्तान हुसैन शर्की भी रागांग पद्धति को मानने वालों मे से थे। उन्होनें श्याम के बारह प्रकार बतायें है जिनका उल्लेख फकिरूल्ला के राग दर्पण के दूसरे अध्याय में मिलता हैं।8
अधिकतर या सभी विद्वानों की रागांग के बारे में राय जानकर यही पता चलता है कि थाट राग वर्गीकरण एक गणितीय वर्गीकरण है तथा संगीत को गणित की तरह बांटकर आसानी से वर्गीकरण नहीं किया जा सकता। थाट अपने आप में जड़ है तथा उसे गाया बजाया नहीं जा सकता और राग अपने कुछ नियमों के अंतर्गत रहकर अपने अंगों के साथ सदा क्रियाशील है। जिस कारण एक ही राग हर किसी कलाकार द्वारा नये-नये अंदाज में अति सुन्दर रूप में पेश किये जाते है और उसका यह सौन्दर्य उस राग के मुख्य अंगों पर निर्भर करता है।
निष्कर्षतः कह सकते हैं कि रागांग वर्गीकरण पद्धति कोरी कल्पना पर आधारित नहीं है, राग इससे जुड़ाव भी महसूस करते हैं जबकि थाट एवं राग में कोई भी साम्यता एवं जुड़ाव महसूस नहीं होता बल्कि लगता है कि थाट को जबरदस्ती रागों के साथ जोड़ा गया है। थाट वर्गीकरण पद्धति के प्रचारित होने के बावजूद भी लोग रागांग वर्गीकरण पद्धति को भूल नहीं पाये हैं। यह इस पद्धति के उपयोगी होने का ही प्रमाण है।
संदर्भ ग्रन्थ
1. भारतीय संगीत शास्त्र, तुलसी राम देवांगन, पृष्ठ 291, 292
2. संगीत रत्नाकर, कल्लिनाथ (भाग-2) पृष्ठ 15
3. राग दर्पण, फकिरूल्ला (द्वितीय अध्याय) पृष्ठ 62,,
4. भारतीय संगीत शास्त्र- तुलसी राम देवांगन
5. भैरव के प्रकार, जय सुखलाल त्रिभुवन शाह ‘विनय’ प्रथम संस्करण 1991
6. संगीत की पारिभाषिक शब्दावली, डा0जतिन्द्र सिंह खन्ना पृष्ठ 12
7. राग दर्पण, फकिरूल्ला, (द्वितीय अध्याय) पृष्ठ 78

 

 

 

Vote: 
Average: 5 (1 vote)
Rag content type: 

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 5,050 20
राग ललित! 884 8
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 771 8
स्वर मालिका तथा लिपि 587 7
राग बहार 591 7
शुद्ध स्वर 948 6
आविर्भाव-तिरोभाव 805 4
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,751 4
वादी - संवादी 804 4
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,491 4
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 440 4
राग यमन (कल्याण) 1,006 4
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,277 4
राग भूपाली 1,145 4
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,678 4
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,013 4
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 296 3
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,226 3
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 643 3
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,208 3
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 753 3
रागों मे जातियां 1,723 3
राग रागिनी पद्धति 1,387 3
राग दरबारी कान्हड़ा 1,058 2
स्वर मालिका तथा लिपि 1,046 2
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 391 2
रागों के प्रकार 1,659 2
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 136 1
स्वर (संगीत) 682 1
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 520 1
रागों का विभाजन 235 1
राग- गौड़ सारंग 231 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 434 0
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 755 0
राग मुलतानी 411 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 144 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 340 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,855 12
गुरु-शिष्य परम्परा 698 3
भारत में संगीत शिक्षण 1,081 2
कैराना का किराना घराने से नाता 279 1
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 351 9
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 765 7
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 877 6
कंठध्वनि 325 5
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 445 4
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 397 4
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 553 3
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 438 3
माइक्रोफोन के प्रकार : 520 3
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 350 3
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 599 3
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 473 2
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 352 2
शास्त्रीय संगीत और योग 548 2
भारतीय कलाएँ 420 2
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 667 2
टांसिल होने पर 361 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 242 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 340 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 709 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 506 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,003 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 206 1
गुरु की परिभाषा 1,170 1
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,039 1
माइक्रोफोन की हानि : 274 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 408 0
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 407 0
गायकी और गले का रख-रखाव 361 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 534 0
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 651 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 431 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 635 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 872 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 460 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 912 6
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 162 6
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 326 6
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 568 6
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 454 5
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,071 5
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 970 4
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 840 4
संगीत शास्त्र परिचय 2,238 4
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,213 3
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,041 3
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 307 3
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 274 3
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 214 3
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 469 3
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 406 2
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 278 2
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 599 2
संगीत का विकास और प्रसार 865 2
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 769 2
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 406 2
भारतीय संगीत 431 2
रागों का सृजन 410 2
हारमोनियम के गुण और दोष 2,278 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 660 2
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 548 2
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 344 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 371 1
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 23 4
भारतीय नृत्य कला 786 4
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 231 1
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 301 0
माइक्रोफोन का कार्य 266 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
रचन: श्री वल्लभाचार्य 526 4
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 396 2
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 445 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 158 1
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 147 1
बैजू बावरा 443 0
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 558 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 410 0
अकबर और तानसेन 516 0
स्वर परिचय
Total views Views today
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 123 4
संगीत के स्वर 273 2
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 183 2
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 165 2
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 159 1
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 149 1
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 137 1
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 143 1
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 90 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 167 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 142 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 210 4
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 269 3
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 226 2
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 167 1
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 693 2
वंदेमातरम् 196 1
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 428 1
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 265 1
राग यमन 278 1
कर्ण स्वर 276 1
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 229 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 326 0
मोरा सइयां 222 0