राग परिचय

स्वर (संगीत)

स्वर (संगीत)

ध्वनियों में हम प्राय: दो भेद रखते हैं, जिनमें से एक को स्वर और दूसरे को कोलाहल या रव कहते हैं। कुछ लोग बातचीत की ध्वनि को भी एक भेद मानते हैं।

संगीत संबंधी कुछ परिभाषा

संगीत संबंधी कुछ परिभाषा

संगीत- बोलचाल की भाषा में सिर्फ़ गायन को ही संगीत समझा जाता है मगर संगीत की भाषा में गायन, वादन व नृत्य तीनों के समुह को संगीत कहते हैं। संगीत वो ललित कला है जिसमें स्वर और लय के द्वारा हम अपने भावों को प्रकट करते हैं। कला की श्रेणी में ५ ललित कलायें आती हैं- संगीत, कविता, चित्रकला, मूर्तिकला और वास्तुकला। इन ललित कलाओं में संगीत को सर्वश्रेष्ठ माना गया है।

रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग

रागों का वर्गीकरण, टाइम थ्योरी ऑफ़ रागस इन हिंदी, संगीत राग, थाट व उसके प्रकार, राग दीपक नोट्स, राग की परिभाषा, मल्हार राग

प्रमुख रागों में ऐसे स्वर समूह होते है जिनसे उनकी स्वतंत्र छवि बनती है। ऐसे ही स्वतंत्र छवि बनाने वाले स्वर समूह को रागांग कहते है तथा स्वतंत्र अंग वाले राग, रागांग प्रमुख राग माने जाते हैं। ऐसे रागों में विस्तार की विस्तृत संभावनायें रहती है। आधुनिक काल में हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति में रागांग वर्गीकरण पद्धति को महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। इसी पद्धति एवं प्रमुख रागांग आदि का विश्लेषण इस लेख में प्रस्तुत किया गया है।

सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि

सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि

सा और प को अचल स्वर माना जाता है। जबकि अन्य स्वरों के और भी रूप हो सकते हैं। जैसे 'रे' को 'कोमल रे' के रूप में गाया जा सकता है जो कि शुद्ध रे से अलग है। इसी तरह 'ग', 'ध' और 'नि' के भी कोमल रूप होते हैं। इसी तरह 'शुद्ध म' को 'तीव्र म' के रूप में अलग तरीके से गाया जाता है। 

राग बहार

राग बसंत बहार, बहार का अर्थ, राग बागेश्री, बहार meaning, राग परिचय, राग सूची, कौन सा राग कब गाया जाता है, थाट व उसके प्रकार,

 आरोह में गमपगमधनिसां इस प्रकार पंचम का वक्र प्रयोग भी होता है जिससे रागरंजकता बढ़ती है। इस राग का वादी स्वर षडज तथा संवादी स्वर मध्यम हैं। राग विस्तार मध्य व तार सप्तक में होने के कारण यह चंचल प्रकृति का राग माना जाता है। मपगम धनिसां इसकी मुख्य पकड़ है। यह राग बाकी अनेक रागों के साथ मिलाकर भी गाया जाता हैं। जिस राग के साथ उसे मिश्रित किया जाता है उसे उस राग के साथ संयुक्त नाम से जाना जाता है। उदाहरण के लिए बागेश्री राग में इसे मिश्र करने से बागेश्री-बहार, वसंत-बहार, भैरव-बहार इत्यादि। परंतु मिश्रण का एक नियम हे कि जिसमें बहार मिश्र किया जाय वह राग शुद्ध मध्यम या पंचम में होना चाहिए क्योंकि

राग यमन (कल्याण)

राग यमन

इस राग को राग कल्याण के नाम से भी जाना जाता है। इस राग की उत्पत्ति कल्याण थाट से होती है अत: इसे आश्रय राग भी कहा जाता है। जब किसी राग की उत्पत्ति उसी नाम के थाट से हो तो उसे कल्याण राग कहा जाता है। इस राग की विशेषता है कि इसमें तीव्र मध्यम और अन्य स्वर शुद्ध प्रयोग किये जाते हैं। ग वादी और नि सम्वादी माना जाता है। इस राग को रात्रि के प्रथम प्रहर या संध्या समय गाया-बजाया जाता है। इसके आरोह और अवरोह दोनों में सातों स्वर प्रयुक्त होते हैं, इसलिये इसकी जाति सम्पूर्ण है।

सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं।

सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। सातों स्वरों के नाम क्रमश: सा, रे, ग, म, प, ध और नि हैं। इसमें प्रत्येक स्वर की आन्दोलन संख्या अपने पिछले स्वर से अधिक होती है। दूसरे शब्दों में सा से जैसे-जैसे आगे बढ़ते जाते हैं, स्वरों की आन्दोलन संख्या बढ़ती जाती है। रे की आन्दोलन संख्या सा से, ग, की, रे, से, व, म, की, ग, से अधिक होती है। इसी प्रकार प, ध और नी की आन्दोलन संख्या अपने पिछले स्वरों से ज़्यादा होती है। पंचम स्वर की आन्दोलन संख्या सा से डेढ़ गुनी अर्थात् 3/2 गुनी होती है। उदाहरण के लिए अगर सा की आन्दोलन संख्या 240 है तो प की आन्दोलन संख्या 240 की 3/2 गुनी 360 होगी। प्रत्

राग मुलतानी

राग मुलतानी

राग मुलतानी
थाठ: तोड़ी वादी: प संवादी: सा जाति: औडव-संपूर्ण आरोह में रे और ध वर्जित स्वर हैं गायन समय: दिन का चौथा प्रहर स्वर:- कोमल रे, कोमल ग, तीव्र म का प्रयोग, बाकी सब स्वर शुद्ध

नीचे आप जहाँ भी ~ चिन्ह देखें, ये मीड़ दर्शाने के लिये है।
और () खटका दिखाने के लिये। अर्थात अगर (सा) दिखाया गया है तो इसे 'रे सा ऩि सा' गाया जायेगा।
राग परिचय:

आरोह: ऩि सा म॑‍~ग॒ म॑~प, नि सां।

अवरोह: सां नि ध॒ प, म॑ ग॒ म॑ ग॒, रे॒ सा।

पकड़: ऩि सा म॑~ग॒ ऽ म॑ प, म॑ ग॒ म॑ ऽ ग॒ रे॒ सा।

Pages

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 5,867 25
स्वर मालिका तथा लिपि 1,134 8
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 985 7
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,485 7
राग भूपाली 1,296 7
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,743 6
वादी - संवादी 916 5
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 856 5
टप्पा गायन : एक परिचय 54 5
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 464 4
रागों के प्रकार 1,899 4
राग रागिनी पद्धति 1,529 4
आविर्भाव-तिरोभाव 929 3
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 897 3
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,831 3
राग दरबारी कान्हड़ा 1,156 3
स्वर (संगीत) 752 2
राग यमन (कल्याण) 1,147 2
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,311 2
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,118 2
राग- गौड़ सारंग 264 1
स्वर मालिका तथा लिपि 696 1
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,366 1
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 703 1
राग बहार 659 1
रागों मे जातियां 1,847 1
शुद्ध स्वर 1,100 1
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 333 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 500 0
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,882 0
राग ललित! 967 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 575 0
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 542 0
राग मुलतानी 452 0
रागों का विभाजन 272 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 166 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 383 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 154 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 524 11
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,325 7
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 950 4
हारमोनियम के गुण और दोष 2,494 4
संगीत शास्त्र परिचय 2,388 3
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 1,047 2
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 521 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 718 2
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,071 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,169 1
भारतीय संगीत 468 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 405 1
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 597 1
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,301 0
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 373 0
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 451 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 187 0
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 328 0
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 640 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 337 0
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 297 0
संगीत का विकास और प्रसार 932 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 846 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 456 0
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 248 0
रागों का सृजन 442 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 350 0
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 617 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 837 9
वंदेमातरम् 211 1
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 356 1
कर्ण स्वर 300 1
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 238 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 464 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 285 0
राग यमन 314 0
मोरा सइयां 232 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 3,146 8
गुरु-शिष्य परम्परा 772 3
कैराना का किराना घराने से नाता 309 2
भारत में संगीत शिक्षण 1,148 1
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 9 7
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 259 6
भारतीय नृत्य कला 886 4
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 80 3
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 333 2
माइक्रोफोन का कार्य 304 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
गुरु की परिभाषा 1,374 5
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 1,062 5
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 914 4
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 946 4
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 388 3
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 709 3
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,127 2
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 544 2
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 675 2
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,118 2
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 255 1
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 488 1
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 459 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 586 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 760 1
गायकी और गले का रख-रखाव 457 1
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 477 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 686 1
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 637 0
टांसिल होने पर 398 0
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 422 0
माइक्रोफोन की हानि : 296 0
कंठध्वनि 386 0
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 462 0
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 519 0
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 32 0
नई स्वरयंत्र की सूजन 394 0
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 385 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 562 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 475 0
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 222 0
शास्त्रीय संगीत और योग 601 0
भारतीय कलाएँ 452 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 479 0
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 722 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 482 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 514 4
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 44 2
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 185 1
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 167 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 591 1
बैजू बावरा 505 1
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 467 0
रचन: श्री वल्लभाचार्य 621 0
अकबर और तानसेन 561 0
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 448 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 188 2
संगीत के स्वर 336 1
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 190 1
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 154 1
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 201 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 176 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 165 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 151 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 118 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 188 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 158 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 254 1
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 226 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 298 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 179 0