रियाज़ कैसे करें 10 तरीके

सुरसाधना, खरज का रियाज, सरगम सीखना, गायकी टिप्स, गायन सीखना, हारमोनियम बजाना कैसे सीखे

रियाज़ करने की शुरुआत के लिए आप इस प्रकार से कोशिश करें -
1) संगीत सीखने का सबसे पहला पाठ और रियाज़ ओंकार . 3 महीनो तक आप रोज़ सुबह कम से कम 30 मिनट 'सा' के स्वर में ओंकार का लगातार अभ्यास करें.
2) अगर आप और समय दे सकते हैं तो ओंकार रियाज़ करने के बाद 5 मिनट आराम कर के, सरगम आरोह अवरोह का धीमी गति में 30 मिनट तक रियाज़ करें. जल्दबाजी नहीं करें.
3) सरगम का रियाज़ करते समय स्वर ठीक से लगाने का पूरा ध्यान रखें. अगर स्वर ठीक से नहीं लग रहा है तो बार बार कोशिश करें. संगीत अभ्यास में लगन की जरूरत होती है और शुरुआत में बहुत धीरज और इत्मीनान चाहिए.
4) संगीत को गोड की देंन मानी जाती है और ऐसा सोंचा जाता है की जिसपे गोड की कृपा होती है वही गा सकता है. परन्तु गोड ने सबको अपनी कर्मठता से अपने सपने साकार करने की शक्ति दी है. अगर आपका गला और आवाज़ साधारण भी है, तो भी जबरदस्त रियाज़ करके आप अपनी आवाज़ में न सिर्फ नयी जान ला सकते है बल्कि संगीत की बुलंदियों को छू सकते हैं.
5) कई बार संगीत सीखते समय लोग सोचते हैं कि कितना रियाज़ करना पड़ेगा और कब तक. एक सच्चे संगीत सीखने वाले के लिए रियाज़ कभी ख़त्म नहीं होता और कितना भी रियाज़ ज्यादा नहीं होता और ये बात मैं सिर्फ एक कहने कि बात के लिए नहीं लिख रहा, ये एक सदी दर सदी चली आ रही है सच्चाई है. लेकिन एक बात और मै कह सकता हूँ कि जब तक आपको गाने में मेहनत पड़ रही है, जब तक बहुत कोशिश करनी पड़ रही है तब तक आपको सिर्फ और सिर्फ रियाज़ करना चाहिए, गाने और रागों के पीछे नहीं भागना चाहिए. जब आपकी सरगम आरोह अवरोह में सहजता आ जाये और स्वर के बारे में सोंचने भर से आप एक बार में सही स्वर लगता सकते है, बिना किसी सहायता के, तब आप समझिये कि अब आप संगीत के अगले चरण, रागों कि दुनिया में कदम रख सकते हैं.
6) रियाज़ करते समय आपकी चार प्रकार से तैयारी होती है. एक - आपकी साँस की शक्ति और नियंत्रण स्थिर होते हैं, दो - आपके गले की पेशियाँ गायकी के उतार चढ़ाव के तनाव को सहजता से झेलने के लिए तैयार होती हैं, तीन - आपके कान और दिमाग स्वर को स्वतः प्राकृतिक रूप से पकड़ पाने में समर्थ होते है और चार - आपका मन और आंतरिक सोंच गायकी के लिए जरूरी धैर्य, एकाग्रचित्तता, पवित्रता और सकारात्मकता लाती है. अच्छा गायक बनाने के लिए इन चारों ही प्रकार से अपने आप को विकसित करना जरूरी है.
7) अगर आप रोजाना और पर, समय लगा कर कड़ा रियाज़ कर रहे हैं तो 10 -15 दिन के लगातार रियाज़ करने के बाद 1- 2 दिन का विश्राम ले सकते हैं. इससे आपके शरीर में उभरे सभी प्रकार के तनाव गायब हो जातें हैं और आप गायकी की रियाज़ की मेहनत जारी रखने के लिए फिर से, पहले से भी ज्यादा मजबूती से तैयार हो जाते हैं.
8) रियाज़ में जितना खुद अभ्यास करने की मान्यता है, उतना ही अच्छे संगीत को सुनाने की भी महत्ता है. इसलिए, जितना हो सके अच्छे अच्छे शास्त्रीय संगीत के गायकों को सुने, चाहे इंटरनेट पे सुने, या CD में सुने. संगीत को सुनने और उसको मन में ढालने से आपकी सोंच तैयार होती है.
9) रियाज़ में अपनी शारीरिक क्षमता को सम्पूर्ण रूप से तैयार करने के लिए एक और राज़ - रोजाना कम से कम 30 मिनट प्राणायाम, अगर आप कर सकें. गाते समय अलग अलग सप्तक शरीर के चार अलग अलग भाग पर जोर डालते है - पेट, फेफड़े, गला और सर का ऊपरी हिस्सा. अगर आप रोजाना भस्त्रिका, भ्रमरी और कपालभाती करें तो अपने आप में चमत्कारी परिवर्तन महसूस कर सकते हैं. एक सिर्फ कहने की बात नहीं है, खुद करके देखिये और मुझे बताईये कि चमत्कार हुआ कि नहीं.
10) एक आखिरी बात. इस बात का ध्यान रखें की रियाज़ करने के लिए आपने अपनी दिनचर्या को बहुत कष्टकारी, तनावपूर्ण और असहज न बना दिया हो. ऐसा कर के रियाज़ करने से सफलता नहीं मिलती इसलिए ये बहुत जरूरी है कि आप संगीत सीखने के साथ साथ जीवन में बाकी चीजों के साथ संतुलन और सहजता बनाये रखें.

 

 

 

Vote: 
No votes yet

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 4,885 29
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,646 8
रागों के प्रकार 1,604 4
स्वर मालिका तथा लिपि 1,025 4
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 717 3
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,206 3
रागों का विभाजन 223 3
शुद्ध स्वर 907 3
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,710 3
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 744 2
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 376 2
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,181 2
राग यमन (कल्याण) 978 2
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 330 2
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 124 2
आविर्भाव-तिरोभाव 774 2
राग ललित! 861 2
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,459 1
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 427 1
राग मुलतानी 397 1
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,256 1
राग बहार 568 1
राग रागिनी पद्धति 1,367 1
षड्जग्राम-तान बोधिनी 136 1
राग दरबारी कान्हड़ा 1,035 1
राग- गौड़ सारंग 225 1
स्वर मालिका तथा लिपि 532 1
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 507 0
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 631 0
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 723 0
रागों मे जातियां 1,696 0
राग भूपाली 1,108 0
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 997 0
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 282 0
स्वर (संगीत) 667 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 421 0
वादी - संवादी 780 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,033 10
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 817 7
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 538 5
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,190 4
भारतीय संगीत 422 3
हारमोनियम के गुण और दोष 2,250 3
संगीत शास्त्र परिचय 2,212 3
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 551 3
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 954 3
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 582 3
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 206 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,018 2
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 337 2
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 263 2
संगीत का विकास और प्रसार 845 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 651 1
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 441 0
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 267 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 751 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 392 0
रागों का सृजन 402 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 315 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 365 0
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 456 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 890 0
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 397 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 152 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 299 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 836 7
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,024 6
नई स्वरयंत्र की सूजन 327 5
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 383 3
टांसिल होने पर 349 3
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 529 3
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 396 3
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 702 2
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 338 2
भारतीय कलाएँ 412 2
गुरु की परिभाषा 1,140 2
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 454 2
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 427 2
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 325 2
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 457 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 198 1
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 642 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 628 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 507 1
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 335 0
गायकी और गले का रख-रखाव 348 0
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 494 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 525 0
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 979 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 432 0
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 587 0
शास्त्रीय संगीत और योग 539 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 423 0
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 653 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 855 0
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 725 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 234 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 397 0
कंठध्वनि 309 0
माइक्रोफोन की हानि : 268 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,800 6
भारत में संगीत शिक्षण 1,065 1
कैराना का किराना घराने से नाता 271 0
गुरु-शिष्य परम्परा 685 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 674 3
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 322 1
वंदेमातरम् 191 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 420 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 222 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 259 0
राग यमन 269 0
मोरा सइयां 215 0
कर्ण स्वर 270 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 223 2
भारतीय नृत्य कला 770 1
माइक्रोफोन का कार्य 256 0
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 293 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 401 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 551 1
अकबर और तानसेन 510 1
बैजू बावरा 434 1
रचन: श्री वल्लभाचार्य 512 0
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 384 0
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 434 0
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 152 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 142 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 133 1
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 174 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 147 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 154 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 140 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 128 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 111 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 84 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 162 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 133 0
संगीत के स्वर 263 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 263 0
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 199 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 161 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 220 0