ललित

थाट: 

राग ललित एक बहुत ही मधुर राग है। इस राग में दोनों मध्यम (तीव्र व शुद्ध मध्यम) एक साथ (म् म ; ग म् म ; नि ध१ म् म) प्रयोग होने के कारण इस राग का एक अलग ही वातावरण तैयार होता है। इस राग का धैवत, वास्तविक कोमल धैवत से थोड़ा चढ़ा हुआ होता है, जो शुद्ध धैवत और कोमल धैवत के बीच की श्रुति है, जिसे सिर्फ गुरुमुख से ही सीखा जा सकता है। इस राग में शुद्ध मध्यम और शुद्ध गंधार बहुत ही महत्वपूर्ण स्वर हैं। यह स्वर संगतियाँ राग ललित का रूप दर्शाती हैं -

,नि रे१ ग म म् म ; ग म् ध१ नि ध१ म् म ; म् ध१ नि सा'; म् ध१ म् सा'; सा' रे१' नि ध१ ; म् ध१ नि म् नि ध१ ; म् ध१ म् म ; ग म म् म ; ग ; म् ग रे१ सा ; ध१ म् ध१ सा' ; सा' नि रे१ नि ध१ म् म ; ग रे१ सा ;

 

There is currently no content classified with this term.