षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है

षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है

भारत में शास्त्रीय संगीत की परंपरा बड़ी प्राचीन है। राग के प्रादुर्भाव के पूर्व जाति गान की परंपरा थी जो वैदिक परंपरा का ही भेद था। जाति गान के बारे में मतंग मुनि कहते हैं –

“श्रुतिग्रहस्वरादिसमूहाज्जायन्त इति जातय:”

अर्थात् – श्रुति और ग्रह- स्वरादि के समूह से जो जन्म पाती है उन्हें ‘जाति’ कहा है।

जिस प्रकार आधुनिक समय में राग और उसके दस लक्षण माने जाते हैं वैसे ही जाति गान के निर्माण में दस लक्षणों का होना आवश्यक समझा जाता था। वास्तव में मूलरूप से प्राचीन जाति लक्षण ही थे जिसके आधार पर ही आधुनिक राग लक्षण का निर्माण किया गया। भरत के नाट्यशास्त्र में ‘जाति’ का ही विशेष वर्णन मिलता है। किसी स्वर समूह से किस प्रकार ‘जाति’ का ढाँचा कैसे बनता है इस पर विचार कर भरत ने ‘जाति’ के दस लक्षण बताये हैं। इन लक्षणों को पाँच जोड़ों के रूप में देखा जा सकता है।

१- २ – ग्रह-अंश

३-४- तार-मंद्र

५-६- न्यास-अपन्यास

७-८- अल्पत्व-बहुत्व

९-१०- षाडव- औडुव

जाति लक्षण का प्रयोजन है कि उसमें (जाति में) किस स्वर की प्रमुखता होगी, वह कहाँ से प्रारंभ होगा, कहाँ गीत की समाप्ति होगी, तार और मन्द्र का कैसा प्रयोग होगा, कौन सा स्वर दुर्बल और कौन सा साधारण होगा, एक या दो स्वरों का वर्जन कर किस प्रकार से षाडव व औडव रूप बनेंगे। जब ये सभी बातें किसी स्वर समूह में निश्चित नियम द्वारा समाहित होंगी तो वह जाति अथवा राग के अन्तर्गत माना जायेगा। इन्हीं नियमों को दस पारिभाषिक नाम देकर ‘जाति लक्षण’ कहा गया है।

१-२ ग्रह – अंश – ग्रह का अर्थ है ऐसी जगह जहॉ से बंदिश को उठाया जाता है। आज कल भी ‘उठान’ शब्द का इस्तमाल होता मिलता है। यह संस्कृत का शब्द है।

अंश का अर्थ किसी चीज़ का हिस्सा होता है। जाति के संदर्भ में इसका अर्थ हुआ ऐसा स्वर जो भाग बनाये। यानि जिसके माध्यम से मंद्र, मध्य और तार को विभाजित किया जा सके। प्राचीन काल में जाति व्यवस्था थी जिसका आधार ग्राम और मूर्छना रहा है। प्रत्येक ग्राम की सात सात मूर्छनायें होती हैं। मूर्छना का प्रारंभ जिस स्वर से होता था उसे ‘अंश’ के रूप में जाना गया। मूर्छना का अर्थ ही है सात स्वरों का आरोहण अवरोहण। अर्थात् जिस स्वर से मूर्छना प्रारंभ होने जा रही है वह उस मूर्छना का अंश स्वर होगा। सातों स्वरों को अंश स्वर बना कर हरेक ग्राम में सात मूर्छनायें बनाई जा सकती हैं। दूसरे शब्दों में ग्राम के मूल अन्तरालों को बिना बदले हुए मात्र अंश स्वर के आधार पर नया सप्तक बन जाता है।

इस प्रकार अंश बदलने से स्वरों के अंतराल बदल जाते हैं। इस प्रकार प्राचीनों को सप्तक में क्या स्वर लगेगा इसकी जानकारी न दे मात्र अंश स्वर बतला देने से काम चल जाता था।

३-४ तार मन्द्र – जाति गान में अंश स्वर तो मध्य सप्तक से ही प्रारंभ होता था और तार स्थान अंश स्वर से चार, पाँच या सात स्वर तक भी तार सप्तक में प्रयोग कियाजा सकता था। उसी प्रकार अंश से आठवें स्वर के नीचे तक मन्द्र का प्रयोग होता था। जाति या राग में कुछ तो पूर्वांग प्रधान कुछ उत्तरांग प्रधान व कुछ सभी सप्तक में विचरण करने वाले होते हैं। अर्थात् जातियों और रागों को वास्तव में मंद्र तार और मध्य के बीच में ही घूमना होता है। इसीलिये तार – मन्द्र को जाति या राग के लक्षणों में स्थान दिया गया है।

५-६- न्यास – अपन्यास- जहाँ पूरे गीत की समाप्ति हो वह न्यास और जहाँ गीत के किसी खण्ड की समाप्ति हो तो वह अपन्यास कहलाता है। हम जानते ही हैं कि किसी गीत या गीत खण्ड की समाप्ति किसी भी स्वर में रुकने से नहीं हो जाती है। उसके लिये निर्धारित स्वर स्थान होना आवश्यक है।

७-८- अल्पत्व – बहुत्व- जाति या राग में जो स्वर दुर्बल प्रयुक्त होता है उसे अल्पत्व और जो स्वर प्रबल होता है उसे बहुत्व के नाम से जाना जाता है। इन दोनों के ही दो दो भेद हैं।

१- लंघन अल्पत्व, २- अनभ्यास अल्पत्व

जब किसी जाति या राग में कोई स्वर प्रयुक्त तो होता है पर उसको लाँघ जाते हैं, जैसे राग बिहाग में ऋषभ स्वर को आरोह करते समय लाँघते रहते हैं — यथा, ऩी स ग म ग — तब उसे लंघन अल्पत्व कहेंगे। इसी प्रकार से जब किसी स्वर को बिना उस पर ठहराव किये प्रयोग करते हैं तो उसे अनभ्यास अल्पत्व कहेंगे। यथा- राग पूरिया में ऋषभ स्वर।

१- अनालंघन बहुत्व २- अभ्यास बहुत्व – ये दोनो ही अल्पत्व के उल्टे हैं; अर्थात् जिस स्वर का लंघन नही किया जा सकता वह अनालंघन बहुत्व, और जाति या राग में जिस स्वर का बार बार प्रयोग होता है वह स्वर अभ्यास बहुत्व कहलाता है।

९-१०- षाडव-औडव- सप्तक में एक या दो स्वरों का वर्जन करके षाडव या औडव जाति या राग बनते हैं। पं० ओंकार नाथ ठाकुर के अनुसार ‘नवीनता या वैचित्र उपजाने में राग पद्धति में वर्जन का विशेष महत्व है। किन्तु मनमाने ढंग से वर्जन नहीं किया जा सकता। जो स्वर जाति का पूर्ण रूप में दुर्बल या अल्प होगा उसी का लोप या वर्जन हो सकेगा।’ भारतीय संगीत में आज भी सम्पूर्ण षाडव औडव राग हैं जैसे – सम्पूर्ण राग – यमन, काफी, जयजयवन्ती, पूरियाधनाश्री। षाडव राग- मारवा, पूरिया, रागेश्री, बागेश्री। औडव राग- सारंग, मालकौंस, भूपाली इत्यादि।

जाति लक्षण के इस विश्लेषण से यह तथ्य स्पष्ट हो जाता है कि भारतीय परंपरा में सांगीतिक मर्मज्ञता, अन्तर्विश्लेषणात्मकता, सूक्ष्म दृष्टि और गहन चिन्तन का बहुत गहरा सन्तुलन था जो विश्व में भारतीय दर्शन की एक मिसाल है।

 

 

 

Vote: 
Average: 3 (2 votes)

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 2,801 35
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 19 17
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,152 12
रागों के प्रकार 824 10
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 761 9
रागों मे जातियां 1,232 9
राग बहार 366 9
राग रागिनी पद्धति 987 9
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 1,633 9
वादी - संवादी 476 8
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 688 7
राग दरबारी कान्हड़ा 659 7
आविर्भाव-तिरोभाव 466 7
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 239 7
शुद्ध स्वर 576 6
राग यमन (कल्याण) 485 5
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 702 5
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,146 5
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 451 5
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 918 5
राग मुलतानी 283 4
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 371 4
राग भूपाली 600 4
षड्जग्राम-तान बोधिनी 26 4
स्वर (संगीत) 446 4
स्वर मालिका तथा लिपि 315 4
स्वर मालिका तथा लिपि 663 4
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 183 4
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 217 4
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 155 3
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 222 2
राग ललित! 591 2
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 429 1
राग- गौड़ सारंग 133 1
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 209 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 334 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 490 18
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 199 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 144 0
माइक्रोफोन का कार्य 171 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 1,340 12
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 575 12
हारमोनियम के गुण और दोष 1,435 9
संगीत शास्त्र परिचय 1,698 9
संगीत का विकास और प्रसार 612 9
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 618 7
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 905 5
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 495 5
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 447 4
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 273 4
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 234 3
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 255 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 548 3
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 607 2
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 425 2
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 221 2
भारतीय संगीत 282 2
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 120 1
रागों का सृजन 269 1
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 364 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 247 1
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 322 1
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 184 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 38 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 197 1
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 313 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 84 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 250 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 573 12
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 484 7
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 364 5
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 347 5
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 434 5
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 259 4
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 240 4
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 364 4
शास्त्रीय संगीत और योग 406 3
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 478 3
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 286 3
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 765 3
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 475 3
माइक्रोफोन के प्रकार : 331 3
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 277 3
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 346 2
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 112 2
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 263 2
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 572 2
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 215 1
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 251 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 106 1
भारतीय कलाएँ 268 1
गुरु की परिभाषा 693 1
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 492 1
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 368 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 194 1
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 271 1
कंठध्वनि 181 1
गायकी और गले का रख-रखाव 216 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 322 0
टांसिल होने पर 247 0
माइक्रोफोन की हानि : 196 0
नई स्वरयंत्र की सूजन 202 0
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 341 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
भारत में संगीत शिक्षण 826 7
गुरु-शिष्य परम्परा 476 6
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 1,457 4
कैराना का किराना घराने से नाता 194 3
वीडियो
Total views Views today
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 315 5
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 311 5
राग यमन 186 3
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 195 1
मोरा सइयां 160 1
कर्ण स्वर 202 1
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 171 1
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 251 0
वंदेमातरम् 125 0
स्वर परिचय
Total views Views today
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 27 4
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 22 4
संगीत के स्वर 131 4
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 97 4
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 49 2
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 40 2
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 78 2
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 70 1
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 60 1
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 29 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 19 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 282 2
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 296 2
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 87 2
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 452 2
रचन: श्री वल्लभाचार्य 311 2
अकबर और तानसेन 369 1
बैजू बावरा 300 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 90 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 300 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 179 1
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 142 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 116 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 162 0