संगीत और हमारा जीवन

अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार

अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार

अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार है -

1. षड्ञ (सा) मयूर की आवाज से प्रतिस्ठित हुआचतुर्थ नाड़ी से इसका अभ्यूदय।

2. त्रषभ (रे) पपीहा (चातक) की आवाज से सप्तदश से नवम् नाड़ी तक व्याप्ति।

3. गान्धार (ग) बकरे की आवाज से गृहीता नवम् से त्रयोदश नाड़ी तक व्याप्ति।

4. मध्यम (म) सारस की आवाज से गृहीत। त्रयोदश से सप्तदश नाड़ी तक व्याप्ति।

5. पंचम (प) कोयल के सुरीले कंठ से गृहीत सप्तदश नाड़ी से विशं नाड़ी तक व्याप्ति।

6. धैवत (ध) मेढ़क की आवाज से गृहीत। विशं से द्वाविशं नाड़ी तक व्याप्ति।

संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है

संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है

गुलज़ार साहब कहते है

" संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है , सुबह उठ कर पूजा के श्लोक , तकरीबन उसी समय दूधवाला आता है अपनी की साइकिल की घंटी और साथ में सिटी बजाने से लेकर एक फ़क़ीर के गाने की आवाज़ से लेकर हमारी माँ की खाना पकाते समय की गुनगुनाहट , और रात में लोरियों की गरमाहट , संगीत हमारे जीवन की खाली जगह को भर देता है और इसीलिए संगीत सब को पसंद है "

गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष

गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष

खाँसी रोग कई कारणों से पैदा होता है और यदि जल्दी दूर न किया जाए तो विकट रूप धारण कर लेता है। एक कहावत है, रोग का घर खाँसी। खाँसी यूँ तो एक मामूली-सी व्याधि मालूम पड़ती है, पर यदि चिकित्सा करने पर भी जल्दी ठीक न हो तो इसे मामूली नहीं समझना चाहिए, क्योंकि ऐसी खाँसी किसी अन्य व्याधि की सूचक होती है। आयुर्वेद ने खाँसी के 5 भेद बताए हैं अर्थात वातज, पित्तज, कफज ये तीन और क्षतज व क्षयज से मिलाकर 5 प्रकार के रोग मनुष्यों को होते हैं।

चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख

चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख

गीत स्वयं की अनुभूति है, स्वयं को जानने की शक्ति है एवं एक सौन्दर्यपूर्ण ध्वनि कल्पना है जिसका सृजन करने केलिए एक ऐसे अनुशासन की सीमा को ज्ञात करना है, जिसकी सीमा में रहते हुए भी असीम कल्पना करने का अवकाश है। मनुष्य अनुशासन की परिधि में रहकर संगीत को प्रकट करता है, किन्तु प्रत्येक व्यक्ति के विचार, संवेदना, बुद्धिमता एवं कल्पना में विविधता होने के कारण प्रस्तुति में भी विविधता अवश्य होती है। इसी प्रकार देश एवं काल क्रमानुसार संगीत के मूल तत्व समाज में उनके प्रयोग और प्रस्तुतिकरण की शैलियों में परिवर्तन होना स्वाभाविक है। संगीत कला में भी प्रत्येक गुण की राजनैतिक, आर्थिक और सामाजिक अवस्थाओं

संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा

संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा

संगीत के मोहन-सुर संगीत की मादकता जीव जगत पर जो प्रभाव पड़ता है, वह किसी से छिपा नहीं है। संगीत की स्वरलहरी पर मुग्ध होकर हिरन का व्याध के बाण से विद्ध होना, महाविषधर भुजंग का सपेरे के वशवर्ती होना हम बहुत दिनों से सुनते आ रहे हैं। किन्तु वर्तमान युग में संगीत के प्रभाव से मनुष्य की व्याधियों का उपचार करने का प्रयोग भी होने लगा है। एक दिन ऐसा भी आ सकता है, जबकि विज्ञान चिकित्सा अपने रोगियों के लिए मिक्सचर, पिल या पाउडर की व्यवस्था न करके दिन-रात में उसके लिए दो-तीन बार संगीत श्रवण का व्यवस्था पत्र देंगे।

नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव

नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव

कई माता पिता को संगीत के लाभों के बारे में सुना है नवजात शिशुओं पर संगीत की

प्रभाव।विभिन्न धुनों, यहां तक कि आज के आधार पर, टुकड़ों नवजात शिशुओं पर एक लाभदायक प्रभाव हो सकता है जो चिकित्सा के विशेष पाठ्यक्रम, देखते हैं।अलग अलग धुन की रिकॉर्डिंग के साथ एक एमपी 3 प्लेयर के रूप में भी इस तरह के एक सरल उपकरण का उपयोग कर
बच्चे के भावनात्मक विकास और उसकी मानसिक स्थिति को प्रभावित कर सकते हैं।लेकिन हर धुन एक सकारात्मक प्रभाव का उत्पादन करने में सक्षम है, तो यह इसे सही ढंग से चयन करने के लिए महत्वपूर्ण है।टुकड़ों का चयन करने के लिए संगीत का

कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार

कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार

आपका व्‍यक्तित्‍व कई चीजों से मिलकर बनता है. और इस सबमें अहम किरदार निभाती है आवाज. मधुर आवाज खुद-ब-खुद आपको खींच लेती है अपनी ओर. आप चाहकर भी उससे अपना ध्यान नहीं हटा पाते. आपकी नजरें उस आवाज के मालिक को तलाशने लगती हैं. चाह होती है, तो बस उसके दीदार की, जिसने आपके कदमों को बांध लिया है किसी मीठी जंजीर की तरह.
कई बार हमें ऐसे लोग मिल जाते हैं, जिनकी वाणी हमें किसी मोहपाश की तरह जकड़ लेती है. और शायद यही वजह है कि हम उनकी बातों ज्‍यादा तवज्जो देते हैं. ये उनकी आवाज का जादू नहीं, तो फिर और क्या है.

संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव

संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव

रेडियो तरंगों की तरह संगीत की भी शक्तिशाली तरंगें होती हैं। वे अपने प्रभाव क्षेत्र को प्रभावित करती हैं। उनसे वातावरण अनुप्राणित होता है। पदार्थों में हलचल मचती है और प्राणियों की मनोदशा पर उसका अनोखा प्रभाव पड़ता है। प्राणियों में मनुष्य की बौद्धिक एवं संवेदनात्मक क्षमता अन्य प्राणियों से विशिष्ट है। इसलिए संगीत का उस पर असाधारण प्रभाव पड़ता है। यों भाव संवेदना प्राणि मात्र पर पड़ती है। वे अपने सामान्य क्रिया कलाप रोक कर वादन ध्वनि के साथ लहराने लगते हैं। उनमें शब्द ज्ञान तो होता नहीं इसलिए गायनों का अर्थ समझने में असमर्थ रहने पर भी वे गीतों के साथ जुड़े हुए भाव संचार को ग्रहण करते और उससे

Pages

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 5,008 13
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 758 13
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,738 12
रागों के प्रकार 1,642 9
रागों मे जातियां 1,716 6
राग दरबारी कान्हड़ा 1,053 6
शुद्ध स्वर 931 6
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 432 5
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,221 4
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 741 4
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,670 4
राग ललित! 875 4
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,481 4
राग रागिनी पद्धति 1,383 3
राग भूपाली 1,137 3
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 134 3
वादी - संवादी 798 3
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 753 3
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 516 3
रागों का विभाजन 230 2
राग बहार 582 2
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 340 2
स्वर (संगीत) 676 2
स्वर मालिका तथा लिपि 1,043 2
राग मुलतानी 407 1
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,200 1
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,007 1
स्वर मालिका तथा लिपि 575 1
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 389 1
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 639 0
राग यमन (कल्याण) 998 0
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,272 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 143 0
राग- गौड़ सारंग 231 0
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 290 0
आविर्भाव-तिरोभाव 794 0
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 433 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 11 11
भारतीय नृत्य कला 780 3
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 299 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 227 0
माइक्रोफोन का कार्य 263 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,839 6
भारत में संगीत शिक्षण 1,079 4
गुरु-शिष्य परम्परा 695 1
कैराना का किराना घराने से नाता 278 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,034 5
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 870 5
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 998 4
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 470 4
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 651 2
टांसिल होने पर 360 2
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 546 2
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 406 2
नई स्वरयंत्र की सूजन 338 2
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 347 2
गायकी और गले का रख-रखाव 361 2
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 708 2
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 504 1
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 532 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 205 1
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 347 1
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 391 1
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 596 1
भारतीय कलाएँ 418 1
गुरु की परिभाषा 1,165 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 635 1
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 664 1
कंठध्वनि 320 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 517 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 441 0
शास्त्रीय संगीत और योग 546 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 431 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 871 0
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 753 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 459 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 240 0
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 435 0
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 340 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 408 0
माइक्रोफोन की हानि : 274 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,057 4
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 834 4
हारमोनियम के गुण और दोष 2,273 3
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 546 3
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 404 2
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 903 2
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 319 1
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 560 1
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 466 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,038 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 271 1
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 448 1
संगीत का विकास और प्रसार 859 1
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 764 1
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 399 1
भारतीय संगीत 428 0
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 211 0
रागों का सृजन 408 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 370 0
संगीत शास्त्र परिचय 2,232 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 658 0
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 965 0
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,204 0
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 342 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 156 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 304 0
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 595 0
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 270 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 689 3
मोरा सइयां 222 2
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 326 1
राग यमन 276 1
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 426 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 229 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 264 0
कर्ण स्वर 275 0
वंदेमातरम् 195 0
स्वर परिचय
Total views Views today
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 118 2
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 90 1
संगीत के स्वर 271 1
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 157 1
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 147 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 134 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 167 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 142 0
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 141 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 181 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 162 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
अकबर और तानसेन 515 2
रचन: श्री वल्लभाचार्य 520 1
बैजू बावरा 441 1
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 392 0
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 441 0
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 157 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 146 0
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 558 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 409 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 205 1
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 165 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 266 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 224 0