संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव

संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव

रेडियो तरंगों की तरह संगीत की भी शक्तिशाली तरंगें होती हैं। वे अपने प्रभाव क्षेत्र को प्रभावित करती हैं। उनसे वातावरण अनुप्राणित होता है। पदार्थों में हलचल मचती है और प्राणियों की मनोदशा पर उसका अनोखा प्रभाव पड़ता है। प्राणियों में मनुष्य की बौद्धिक एवं संवेदनात्मक क्षमता अन्य प्राणियों से विशिष्ट है। इसलिए संगीत का उस पर असाधारण प्रभाव पड़ता है। यों भाव संवेदना प्राणि मात्र पर पड़ती है। वे अपने सामान्य क्रिया कलाप रोक कर वादन ध्वनि के साथ लहराने लगते हैं। उनमें शब्द ज्ञान तो होता नहीं इसलिए गायनों का अर्थ समझने में असमर्थ रहने पर भी वे गीतों के साथ जुड़े हुए भाव संचार को ग्रहण करते और उससे अनुप्राणित होते हैं।

कभी संगीत एक मनोरंजन था। इसी निमित्त उसका सरंजाम जुटाया जाता था। पर समय बदलने के साथ उसका महत्व समझा गया और विज्ञान की एक प्रभावशाली शाखा के रूप में उसे स्थान दिया जाने लगा। उसका प्रभाव भाव संचार में तो प्रत्यक्ष ही देखा जाता है, पर परोक्ष रूप से उसकी प्रतिक्रिया स्नायु समूह में हलचल उत्पन्न करने के रूप में भी देखी गई है। उसका प्रभाव मनुष्य पर क्या पड़ता है? इसका अन्वेषण करने पर पता चला है कि ज्ञान तन्तु, तथा नाड़ी संस्थान के सभी छोटे-बड़े घटक उनसे झंकृत होते हैं और शिथिलता को सक्रियता में परिणति करते हैं। इससे सर्वतोमुखी प्रतिभा जगती है। युद्ध सैनिकों से लेकर कामुकों तक उसकी उत्तेजना प्रत्यक्ष दृष्टिगोचर होती है।

यह प्रयोग मनुष्यों के शारीरिक और मानसिक रोग निवारण में अपना जादुई प्रभाव दिखाता दृष्टिगोचर हो रहा है। मनोविज्ञान शास्त्र और स्वर शास्त्र के विशेषज्ञों द्वारा यह निर्धारित किया जाता है कि किस रोग में किस संगीत प्रवाह से क्या प्रभाव किस प्रकार पड़ता है और उसका प्रयोग कब, किस निमित्त किस प्रकार करना चाहिए? अस्पतालों में पहले मात्र मानसिक रोगियों को ही संगीत टेप सुनाकर बिजली का झटका देने या नींद की गोलियाँ देने जैसे प्रयोग होते थे। उनसे मिलने वाले लाभों को देखते हुए शारीरिक रोगों के निमित्त भी कितने ही प्रकार के टेप बने और उन्हें सुनने पर रोगी इतने अधिक लाभान्वित होने लगे जितने दवादारू से भी नहीं होते थे।

अब संसार के महत्वपूर्ण विद्यालयों में यह प्रयोग चल रहे हैं कि संगीत को चिकित्सा विज्ञान का महत्वपूर्ण अंग किस प्रकार बनाया जाय? वह दिन दूर नहीं, जिसमें संगीत को रोग निवारण के लिए ही नहीं वरन् स्वास्थ्य सम्वर्धन, बुद्धि विकास एवं प्रतिभा उभार के लिए भी प्रयुक्त किया जाने लगेगा। अब तक उसे खुशी के अवसरों पर प्रयुक्त किया जाता था। अब उसे शोक, क्रोध, चिन्ता, भय, आवेश आदि के समाधान के लिए भी प्रयुक्त किया जाने लगेगा। भाव-संवेदना और मस्तिष्कीय सन्तुलन के लिए संगीत उतना लाभ प्रस्तुत करने लगेगा जितना कि अन्य उपचार विधान अभी तक प्रस्तुत नहीं कर सके हैं।

पशु-पक्षियों, जीव-जन्तुओं पर भी यह प्रयोग आजमाया गया है और उसका समुचित प्रतिफल भी सामने आया है। वैज्ञानिकों ने चिड़ियाघरों में बन्द पक्षियों पर यह प्रयोग करने में सुविधा समझी। इसलिए उनके कटघरों से बाहर विविध प्रकार के संगीत टेप बजाये। देखा गया कि वे इसे सुनकर मन्त्र मुग्ध होते रहे। अपने-अपने सामान्य काम छोड़कर वे इकट्ठे हो गये। जहाँ से वह ध्वनि निस्सृत हो रही थी। पर जैसे ही वादन बन्द हुआ वैसे ही वह उदास हो गये और मुँह लटकाकर इस आशा में बैठे रहे कि कदाचित उसे सुनने का अवसर फिर मिले। बन्दर जैसे चंचल और उपद्रवी जीव आपस में चेंचें करना तक भूल कर उस अवसर पर भोले कबूतरों की तरह बैठे रहे। यह मन्द और मादक संगीत का प्रभाव था, पर जब उत्तेजक आक्रोश भरे और डरावने बाजे बजाये गये तो वे भी उत्तेजित हो उठते। चंचलता बढ़ी और आक्रोश में एक-दूसरे पर हमला करने लगे। कुछ ने दीवारों से टक्करें मारना और उपयोगी वस्तुओं को तोड़ना-फोड़ना शुरू कर दिया। किन्तु वादन बदल देने पर उन्हें शान्त होने में भी देर न लगी। बच्चे जो बहुत देर से इस प्रवाह से भर गये थे, थक कर अपने-अपने कटघरों में घुस गये और झपकियाँ लेने लगे।

एक सधा हुआ ऊँट था। नक्कार खाने का कोई उत्सव होता तो उसकी पीठ पर नगाड़ा लाद कर चोबदार उसे बजाता हुआ चलता। ऊँट बहुत बूढ़ा हो गया। काम का न रहा तो उसे खुला छोड़ दिया गया। राजा का होने से कोई उसे मारता न था। ऊँट एक दिन बुढ़िया के सूखते हुए अनाज को खाने लगा। बुढ़िया ने सूप बजाकर भगाना चाहा। ऊँट ने कहा, “जनम भर नगाड़ों की आवाज सुनता रहा हूँ। तुम्हारे सूप से क्या डरने वाला हूँ।” बहुत सत्संगियों पर किसी की शिक्षा का असर नहीं पड़ता। आयु बीत जाने पर भी सारे जीवन भर के संस्कार छाये रहते हैं। उससे उबारने की सोचें तो जीवन को दिशा भी मिले।

चिली के चिड़ियाघरों में यह प्रयोग पक्षियों पर किया गया। सामान्य संगीत से तो वे भी उड़ना और चुगना छोड़कर उन पेड़ों पर बड़ी संख्या में आ जमे जहाँ लहराने वाला संगीत स्पष्ट सुनाई दे रहा था। उड़ाने, भगाने पर भी वे गये नहीं, एक डाली से दूसरी पर फुदकते भर रहे।

ऐसे विचित्र संगीत भी ढूँढ़ निकले गये हैं जो निराश निठाल, उदास एवं प्रतिभा रहित कर देते हैं। उन्हें सुनते रहने पर माँसाहारी हिंस्र जन्तुओं ने भूखे होने पर भी किसी पर आक्रमण का बड़ा साहस नहीं किया। आसपास के कीड़े-मकोड़े खाकर ही सन्तोष करते रहे। दुर्बल जीव-जन्तु स्थिरता ही नहीं अपना बैठे वरन् आँखों से आँसू भी बहाने लगे। शायद वे उनकी प्रसन्नता के सूचक थे।

संगीत का प्रयोग जलचरों पर भी वैसा ही प्रभावशाली सिद्ध हुआ है। आकर्षण संगीत टेप से मछलियाँ, कछुए, केकड़े तक उस क्षेत्र में दौड़ते चले आये और बिना किसी झिझक आशंका के वहाँ तक बढ़ते चले गये जहाँ से उसे संगीत की आवाज आरम्भ हो रही थी। इसके बाद दूसरा प्रयोग डरावने भयंकर स्वर बदल कर किया गया तो उस क्षेत्र में जो जीव-जन्तु थे, वे अपनी जान बचाकर दूर-दूर चले गये। मछली मारों ने उस प्रयोग का शिकार पकड़ने में लाभ उठाया।

पशु-पक्षियों की अपनी भाषा होती है। यद्यपि उनमें थोड़े-थोड़े ध्वनि शब्द ही होते हैं, पर उन्हीं के सहारे से आपस में विचारों का आदान-प्रदान करते रहते हैं। विभिन्न जीवों के उच्चारण विभिन्न प्रकार के हैं। इन संकेत स्वरों को टेप करके सुनाने पर उस वर्ग के प्राणी वैसी ही हरकतें करने लगे जैसे कि उनको संकेत उपलब्ध हुए। प्रणय निवेदन के स्वर सुनाकर उस वर्ग की नर-मादाओं को बड़ी संख्या में एकत्रित होते और सम्बन्ध बनाने के लिए आतुर होते देखा गया।

संगीत का पेड़-पौधों पर भी अच्छा प्रभाव देखा गया है। बर्लिन के एक उद्यान में दाहिने पक्ष में संगीत बजाये जाने का क्रम बना और उत्तरी पक्ष को नहीं छेड़ा गया। देखा गया कि संगीत वाली क्यारियों में फूल और फल अधिक उगे और उनकी बढ़ोत्तरी गति भी तेज हुई।

अब पशु पालक दूध दुहते समय ऐसे संगीत टेप बजाने लगे हैं, जिन्हें सुनकर उनका दूध अधिक मात्रा में स्रवित होने लगता है। किसान भी इस विधा को अपना कर रोगी कीटकों को मारने तथा अच्छी फसल उपजाने में सफल हो रहे हैं।
(अखण्ड ज्योति Apr 1986)

 

 

 

Vote: 
No votes yet

राग परिचय

भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 801 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 391 1
हारमोनियम के गुण और दोष 2,743 1
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 706 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 461 1
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 732 1
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 434 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,307 1
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 218 1
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 376 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 323 1
संगीत का विकास और प्रसार 1,020 1
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 936 1
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 1,096 1
भारतीय संगीत 514 1
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 290 1
रागों का सृजन 500 1
संगीत शास्त्र परिचय 2,583 0
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 668 0
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,179 0
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,415 0
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 540 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 1,226 0
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 404 0
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 725 0
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 603 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 520 0
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,612 0
राग परिचय
Total views Views today
शुद्ध स्वर 1,281 2
आविर्भाव-तिरोभाव 1,053 2
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 1,104 1
राग बहार 760 1
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 6,859 1
स्वर मालिका तथा लिपि 823 1
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 2,085 1
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 969 1
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 1,303 1
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 2,076 1
राग यमन (कल्याण) 1,319 1
रागों का विभाजन 324 0
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,754 0
रागों के प्रकार 2,352 0
रागों मे जातियां 2,039 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 182 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 434 0
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,235 0
राग रागिनी पद्धति 1,681 0
राग भूपाली 1,492 0
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,977 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 177 0
राग दरबारी कान्हड़ा 1,285 0
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 381 0
स्वर (संगीत) 840 0
राग- गौड़ सारंग 304 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 563 0
स्वर मालिका तथा लिपि 1,268 0
वादी - संवादी 1,081 0
राग ललित! 1,075 0
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 548 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 665 0
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 657 0
टप्पा गायन : एक परिचय 131 0
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,490 0
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 84 0
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 799 0
राग मुलतानी 513 0
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,419 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 1,059 1
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 520 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 669 1
शास्त्रीय संगीत और योग 662 1
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 550 1
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 799 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 765 0
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 1,153 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 519 0
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 1,265 0
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 722 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 282 0
टांसिल होने पर 436 0
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 559 0
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 568 0
माइक्रोफोन की हानि : 332 0
कंठध्वनि 437 0
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 525 0
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 570 0
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 68 0
नई स्वरयंत्र की सूजन 477 0
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 836 0
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 445 0
गायकी और गले का रख-रखाव 566 0
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,333 0
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 595 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 609 0
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 551 0
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 771 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 514 0
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 238 0
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 512 0
भारतीय कलाएँ 497 0
गुरु की परिभाषा 1,846 0
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 778 0
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,207 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 572 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 219 1
रचन: श्री वल्लभाचार्य 723 1
अकबर और तानसेन 624 1
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 512 0
बैजू बावरा 563 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 206 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 547 0
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 628 0
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 106 0
वीडियो
Total views Views today
वंदेमातरम् 251 1
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 265 1
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 389 1
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 319 1
राग यमन 363 1
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 977 0
कर्ण स्वर 336 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 529 0
मोरा सइयां 260 0
स्वर परिचय
Total views Views today
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 209 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 181 0
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 241 0
संगीत के स्वर 428 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 236 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 195 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 206 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 180 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 172 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 177 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 148 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
भारत में संगीत शिक्षण 1,228 0
कैराना का किराना घराने से नाता 330 0
गुरु-शिष्य परम्परा 915 0
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 3,453 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 345 0
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 246 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 198 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 272 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 1,017 0
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 405 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 293 0
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 133 0
माइक्रोफोन का कार्य 342 0