सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है

सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है

संगीत में वह शब्द जिसका कोई निश्चित रूप हो और जिसकी कोमलता या तीव्रता अथवा उतार-चढ़ाव आदि का, सुनते ही, सहज में अनुमान हो सके, स्वर कहलाता है। भारतीय संगीत में सात स्वर (notes of the scale) हैं, जिनके नाम हैं - षड्ज, ऋषभ, गांधार, मध्यम, पंचम, धैवत व निषाद।

यों तो स्वरों की कोई संख्या बतलाई ही नहीं जा सकती, परंतु फिर भी सुविधा के लिये सभी देशों और सभी कालों में सात स्वर नियत किए गए हैं। भारत में इन सातों स्वरों के नाम क्रम से षड्ज, ऋषभ, गांधार, मध्यम, पंचम, धैवत और निषाद रखे गए हैं जिनके संक्षिप्त रूप सा, रे ग, म, प, ध और नि हैं।

वैज्ञानिकों ने परीक्षा करके सिद्ध किया है कि किसी पदार्थ में २५६ बार कंप होने पर षड्ज, २९८ २/३ बार कंप होने पर ऋषभ, ३२० बार कंप होने पर गांधार स्वर उत्पन्न होता है; और इसी प्रकार बढ़ते बढ़ते ४८० बार कंप होने पर निषाद स्वर निकलता है। तात्पर्य यह कि कंपन जितना ही अधिक और जल्दी जल्दी होता है, स्वर भी उतना ही ऊँचा चढ़ता जाता है। इस क्रम के अनुसार षड्ज से निषाद तक सातों स्वरों के समूह को सप्तक कहते हैं। एक सप्तक के उपरांत दूसरा सप्तक चलता है, जिसके स्वरों की कंपनसंख्या इस संख्या से दूनी होती है। इसी प्रकार तीसरा और चौथा सप्तक भी होता है। यदि प्रत्येक स्वर की कपनसंख्या नियत से आधी हो, तो स्वर बराबर नीचे होते जायँगे और उन स्वरों का समूह नीचे का सप्तक कहलाएगा।

भारत में यह भी माना गया है कि ये सातों स्वर क्रमशः मोर, गौ, बकरी, क्रौंच, कोयल, घोड़े और हाथी के स्वर से लिए गए हैं, अर्थात् ये सब प्राणी क्रमशः इन्हीं स्वरों में बोलते हैं; और इन्हीं के अनुकरण पर स्वरों की यह संख्या नियत की गई है। भिन्न भिन्न स्वरों के उच्चारण स्थान भी भिन्न भिन्न कहे गए हैं। जैसे,—नासा, कंठ, उर, तालु, जीभ और दाँत इन छह स्थानों में उत्पन्न होने के कारण पहला स्वर षड्ज कहलाता है। जिस स्वर की गति नाभि से सिर तक पहुँचे, वह ऋषभ कहलाता है, आदि। ये सब स्वर गले से तो निकलते ही हैं, पर बाजों से भी उसी प्रकार निकलते है। इन सातों में से सा और प तो शुद्ध स्वर कहलते हैं, क्योंकि इनका कोई भेद नहीं होता; पर शेष पाचों स्वर दो प्रकार के होते हैं - कोमल और तीव्र । प्रत्येक स्वर दो दो, तीन तीन भागों में बंटा रहता हैं, जिनमें से प्रत्येक भाग 'श्रुति' कहलाता है।

परिचय
विद्वानों ने माना है कि जो ध्वनियाँ निश्चित ताल और लय में होती हैं वहीं संगीत पैदा करती हैं। ध्वनियों के मोटे तौर पर दो प्रकार ‘आहत’ और ‘अनाहत’ ध्वनियाँ संगीत के लिए उपयोगी नहीं होतीं, इनका अनुभव ध्यान की परावस्था में होता है अतः ‘आहत’ नाद से ही संगीत का जन्म होता है। यह नाद दो वस्तुओं को आपस में रगड़ने, घर्षण या एक पर दूसरी वस्तु के प्रहार में पैदा होता है। ‘आहत’ नाद हम तक कंपन के माध्यम से पहुँचता है। ध्वनि अपनी तरंगों से हवा में हलचल पैदा करती है। ध्वनि तरंगों की चौ़ड़ाई और लम्बाई पर ध्वनि का ऊँचा या नीचा होना तय होता है। संगीत के सात स्वरों में ‘रे’ का नाद ‘सा’ के नाद से ऊँचा है। इसी तरह ‘ग’ का नाद ‘रे’ से ऊँचा है। यह भी कह सकते हैं कि ‘ग’ की ध्वनि में तरंगों की लम्बाई ‘रे’ की ध्वनि–तरंगों से कम है और कम्पनों की संख्या ‘रे’ की तुलना में ज्यादा है। इसके अलावा ध्वनि से सम्बन्धित और भी कई सिद्धान्त हैं जो ध्वनि का भारी या पतला होना, देर या कम देर तक सुनाई देना निश्चित करते हैं। इन्हीं गुणों को ध्यान में रखते हुए संगीत के लिए मुख्यतः सात स्वर निश्चित किये गए। षड्ज, गांधार, मध्यम, पंचम, धैवत व निषाद स्वर-नामों के पहले अक्षर लेकर इन्हें सा, रे ग, म, प, ध और नि कहा गया। ये सब शुद्ध स्वर है। इनमें ‘सा’ और ‘प’ अचल माने गये हैं क्योंकि ये अपनी जगह से जरा भी नहीं हटते। बाकी पाँच स्वरों को विकृत या विकारी स्वर भी कहते हैं, क्योंकि इनमें अपने स्थान से हटने की गुंजाइश होती है। कोई स्वर अपने नियत स्थान से थो़ड़ा नीचे खिसकता है तो वह कोमल स्वर कहलाता है। और ऊपर खिसकता है तो तीव्र स्वर हो जाता है। फिर अपने स्थान पर लौट आने पर ये स्वर शुद्ध कहे जाते हैं। रे, ग, ध, नि जब नीचे खिसकते हैं तब वे कोमल बन जाते हैं और ‘म’ ऊपर पहुँचकर तीव्र बन जाता है। इस तरह सात शुद्ध स्वर, चार कोमल और एक तीव्र मिलकर बारह स्वर तैयार होते हैं।

सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है, लेकिन ध्वनि की ऊँचाई और नीचाई के आधार पर संगीत में तीन तरह के सप्तक माने गये। साधारण ध्वनि को ‘मध्य’, मध्य से ऊपर की ध्वनि को ‘तार’ और मध्य से नीचे की ध्वनि को ‘मन्द्र’ सप्तक कहा जाता है। ‘तार सप्तक’ में तालू, ‘मध्य सप्तक’ में गला और ‘मन्द्र सप्तक’ में हृदय पर जोर पड़ता है। संगीत के आधुनिक-काल के महान संगीतज्ञों पण्डित विष्णु दिगम्बर पलुस्कर और पण्डित विष्णुनारायण भातखण्डे ने भारतीय संगीत परम्परा को लिखने की पद्धित विकसित की। भातखण्डे जी ने सप्तकों के स्वरों को लिखने के लिए बिन्दु का प्रयोग किया। स्वर के ऊपर बिन्दु तार सप्तक, स्वर के नीचे बिन्दु मन्द्र सप्तक और बिन्दु रहित स्वर मध्य सप्तक दर्शाते हैं। इन सप्तकों में कोमल और तीव्र स्वर भी गाये जाते हैं, जिन्हें भातखण्डे लिपि में स्वरों के ऊपर खड़ी पाई (म) लगाकर तीव्र तथा स्वरों के नीचे पट पाई (ग) लगाकर कोमल दर्शाया जाता है। इन स्वरों की ध्वनि का केवल स्तर बदलता है। इनकी कोमलता और तीव्रता बनी रहती है।

संगीत में स्वर को लय में निबद्ध होना पड़ता है। लय भी सप्तकों की तरह तीन स्तर से गुजरती है जैसे सामान्य लय को ‘मध्य लय,’ सामान्य से तेज लय को ‘द्रुत लय’ तथा सामान्य से कम को ‘विलिम्बित लय’ कहा जाता है। संगीत में समय को बराबर मात्राओं में बाँटने पर ‘ताल’ बनता है। ‘ताल’ बार-बार दोहराया जाता है और हर बार अपने अन्तिम टुक़ड़े को पूरा कर समय के जिस टुकड़े से शुरू हुआ था उसी पर आकर मिलता है। हर टुकड़े को ‘मात्रा’ कहा जाता है। संगीत में समय को मात्रा से मापा जाता है। तीन ताल में समय या लय के 16 टुकड़ें या मात्राएँ होती हैं। हर टुकड़े को एक नाम दिया जाता है, जिसे ‘बोल’ कहते हैं। इन्हीं बोलों को जब वाद्य पर बजाया जाता है तो उन्हें ‘ठेका’ कहते हैं। ‘ताल’ की मात्राओं को विभिन्न भागों में बाँटा जाता है, जिससे गाने या बजाने वाले को यह मालूम रहे कि वह कौन सी मात्रा पर है और कितनी मात्राओं के बाद वह ‘सम’ पर पहुँचेगा। तालों में बोलों के छंद के हिसाब से उनके विभाग किए जाते हैं। जहाँ से चक्र दोबारा शुरू होता है उसे ‘सम’ कहा जाता है। ‘ताल’ में ‘खाली’ 'भरी' दो महत्त्वपूर्ण शब्द हैं। ‘ताल’ के उस भाग को भरी कहते हैं जिस पर बोल के हिसाब से अधिक बल देना है। ‘भरी पर ताली दी जाती हैं। ‘ताल’ में खाली उम भाग को कहते हैं जिस पर ताली नहीं दी जाती और जिससे गायक को सम के आने का आभास हो जाता है। ताल लय को गाँठता है और उसे अपने नियंत्रण में रखता है।

राग
जब 12 स्वर खोज लिए गये होंगे तब उन्हें इस्तेमाल करने के तरीके ढूँढ़े गये। 12 स्वरों के मेल से ही कई राग बनाए गये। उनमें से कई रागों में समानता भी थी। कवि लोचन ने ‘राग-तरंगिणी’ ग्रंथ में 16 हजार रागों का उल्लेख किया है, लेकिन इतने सारे रागों में से चलन में केवल 16 राग ही थे। राग उस स्वर समूह को कहा गया जिसमें स्वरों के उतार-चढ़ाव और उनके मेल में बनने वाली रचना सुनने वाले को मुग्ध कर सके। यह जरूरी नहीं कि किसी भी राग में सातों स्वर लगें। यह तो बहुत पहले ही तय कर दिया गया था कि किसी भी राग में कम से कम पाँच स्वरों का होना जरूरी है। ऐसे और भी नियम बनाये गये थे जैसे षड्ज यानी ‘सा’ का हर राग में होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि वही तो हर राग का आधार है। कुछ स्वर जो राग में बार-बार आते हैं उन्हें ‘वादी’ कहते हैं और ऐसे स्वर दो ‘वादी’ स्वर से कम लेकिन अन्य स्वरों से अधिक बार आएँ उन्हें ‘संवादी’ कहते हैं। लोचन कवि ने 16 हजार रागों में से कई रागों में समानता पाई तो उन्हें अलग-अलग वर्गों में रखा। उन्होंने 12 वर्ग तैयार किये जिनमें से हर वर्ग में कुछ-कुछ समान स्वर वाले राग शामिल थे। इन वर्गों को ‘मेल’ या ‘थाट’ कहा गया। ‘थाट’ में 7 स्वर अर्थात् ‘सा’, ‘रे,’ ‘ग’, ‘म’, ‘प’,‘ध’, ‘नि’, होने आवश्यक है। यह बात और है कि किसी ‘थाट’ में कोमल और किसी में तीव्र स्वर होंगे या मिले-जुले स्वर होंगे। इन ‘थाटों’ में वही राग रखे गये जिनके स्वर मिलते-जुलते थे। इसके बाद सत्रहवीं शताब्दी में दक्षिण के विद्वान पंडित श्रीनिवास ने सोचा कि रागों को उनके स्वरों की संख्या के सिहाब से ‘मेल’ में रखा जाये यानी जिन रागों में 5 स्वर हों वे एक ‘मेल’ में, छः स्वर वाले दूसरे और 7 स्वर वाले तीसरे ‘मेल’ में। कई विद्वानों में इस बात को लेकर चर्चा होती रही कि रागों का वर्गीकरण ‘मेलों’ में कैसे किया जाये। दक्षिण के ही एक अन्य विद्वान व्यंकटमखी ने गणित का सहारा लेकर कुल 72 ‘मेल’ बताए। उन्होंने दक्षिण के रागों के लिए इनमें से 19 ‘मेल’ चुने। इधर उत्तर भारत में विद्वानों ने सभी रागों के लिए 32 ‘मेल’ चुने। अन्ततः भातखण्डेजी ने यह तय किया कि उत्तर भारतीय संगीत के सभी राग 10 ‘मेलों’ में समा सकते हैं। ये ‘मेल’। कौन-कौन से हैं इन्हें याद रखने के लिए ‘चतुर पण्डित’ ने एक कविता बनाई। चतुर पण्डित कोई और नहीं स्वयं पण्डित भातखण्डे ही थे। इन्होंने कई रचनाएँ ‘मंजरीकार’ और ‘विष्णु शर्मा’ नाम से भी रची है।

यमन, बिलावल और खमाजी, भैरव पूरवि मारव काफी।
आसा भैरवि तोड़ि बखाने, दशमित थाट चतुर गुनि मानें।।

उत्तर भारतीय संगीत में ‘कल्याण थाट’ या ‘यमन थाट’ से भूपाली, हिंडोल, यमन, हमीर, केदार, छायानट व गौड़सारंग, ‘बिलावट थाट’ से बिहाग, देखकार, बिलावल, पहा़ड़ी, दुर्गा व शंकरा, ‘खमाज थाट’ से झिझोटी, तिलंग, खमाज, रागेश्वरी, सोरठ, देश, जयजयवन्ती व तिलक कामोद, ‘भैरव थाट’ से अहीर भैरव, गुणकली, भैरव, जोगिया व मेघरंजनी, ‘पूर्वी थाट’ से पूरियाधनाश्री, वसंत व पूर्वी, ‘काफी थाट’ से भीमपलासी, पीलू, काफी, बागेश्वरी, बहार, वृंदावनी सारंग, शुद्ध मल्लाह, मेघ व मियां की मल्हार, ‘आसावरी थाट’ से जौनपुरी, दरबारी कान्हड़ा, आसावरी व अड़ाना, ‘भैरवी थाट’ से मालकौंस, बिलासखानी तोड़ी व भैरवी, ‘तोड़ी थाट’ से 14 प्रकार की तोड़ी व मुल्तानी और ‘मारवा थाट’ से भटियार, विभास, मारवा, ललित व सोहनी आगि राग पैदा हुए। आज भी संगीतज्ञ इन्हीं दस ‘‘थाटों’ की मदद से नये-नये राग बना रहे हैं। यहाँ यह बात ध्यान देने योग्य है कि हर ‘थाट’ का नाम उससे पैदा होने वाले किसी विशेष राग के नाम पर ही दिया जाता है। इस राग को ‘आश्रय राग’ कहते हैं क्योंकि बाकी रागों में इस राग का थोड़ा-बहुत अंश तो दिखाई ही देता है।

‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है। रंज् का अर्थ है - रंगना। जिस तरह एक चित्रकार तस्वीर में रंग भरकर उसे सुंदर बनाता है, उसी तरह संगीतज्ञ मन और शरीर को संगीत के सुरों से रंगता ही तो हैं। रंग में रंग जाना मुहावरे का अर्थ ही है कि सब कुछ भुलाकर मगन हो जाना या लीन हो जाना। संगीत का भी यही असर होता है। जो रचना मनुष्य के मन को आनंद के रंग से रंग दे वही काग कहलाती है। हर राग का अपना एक रूप, एक व्यक्तित्व होता है जो उसमें लगने वाले स्वरों और लय पर निर्भर करता है। किसी राग की जाति इस बात से निर्धारित होती हैं कि उसमें कितने स्वर हैं। आरोह का अर्थ है चढना और अवरोह का उतरना। संगीत में स्वरों को क्रम उनकी ऊँचाई-निचाई के आधार पर तय किया गया है। ‘सा’ से ऊँची ध्वनि ‘रे’ की, ‘रे’ से ऊँची ध्वनि ‘ग’ की और ‘नि’ की ध्वनि सबसे अधिक ऊँची होती है। जिस तरह हम एक के बाद एक सीढ़ियाँ चढ़ते हुए किसी मकान की ऊपरी मंजिल तक पहुँचते हैं उसी तरह गायक सा-रे-ग-म-प-ध-नि-सां का सफर तय करते हैं। इसी को 'आरोह' कहते हैं। इसके विपरीत ऊपर से नीचे आने को 'अवरोह' कहते हैं। तब स्वरों का क्रम ऊँची ध्वनि से नीची ध्वनि की ओर होता है जैसे सां-नि-ध-प-म-ग-रे-सा। आरोह-अवरोह में सातों स्वर होने पर राग ‘सम्पूर्ण जाति’ का कहलाता है। पाँच स्वर लगने पर राग ‘औडव’ और छह स्वर लगने पर ‘षाडव’ राग कहलाता है। यदि आरोह में सात और अवरोह में पाँच स्वर हैं तो राग ‘सम्पूर्ण औडव’ कहलाएगा। इस तरह कुल 9 जातियाँ तैयार हो सकती हैं जिन्हें राग की उपजातियाँ भी कहते हैं। साधारण गणित के हिसाब से देखें तो एक ‘थाट’ के सात स्वरों में 484 राग तैयार हो सकते हैं। लेकिन कुल मिलाकर कोई डे़ढ़ सौ राग ही प्रचलित हैं। मामला बहुत पेचीदा लगता है लेकिन यह केवल साधारण गणित की बात है। आरोह में 7 और अवरोह में भी 7 स्वर होने पर ‘सम्पूर्ण-सम्पूर्ण जाति’ बनती है जिससे केवल एक ही राग बन सकता है। वहीं आरोह में 7 और अवरोग में 6 स्वर होने पर ‘सम्पूर्ण षाडव जाति’ बनती है।

 

 

 

Vote: 
No votes yet
Rag content type: 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,768 6
राग भूपाली 1,502 6
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 6,891 6
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,423 4
रागों के प्रकार 2,367 3
आविर्भाव-तिरोभाव 1,058 3
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 1,308 3
राग मुलतानी 517 2
रागों का विभाजन 327 2
राग बहार 764 2
रागों मे जातियां 2,044 2
राग दरबारी कान्हड़ा 1,290 2
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 180 2
शुद्ध स्वर 1,289 2
स्वर मालिका तथा लिपि 830 2
स्वर मालिका तथा लिपि 1,271 2
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 2,090 2
वादी - संवादी 1,090 2
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 551 2
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 2,091 2
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 660 2
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,499 2
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 1,112 1
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,241 1
राग रागिनी पद्धति 1,688 1
षड्जग्राम-तान बोधिनी 184 1
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 437 1
राग- गौड़ सारंग 309 1
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 386 1
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 566 1
राग ललित! 1,077 1
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 978 1
टप्पा गायन : एक परिचय 133 1
राग यमन (कल्याण) 1,322 0
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,982 0
स्वर (संगीत) 849 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 668 0
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 90 0
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 803 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 1,233 6
हारमोनियम के गुण और दोष 2,760 5
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,424 4
स्वरों का महत्त्व क्या है? 465 3
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 738 3
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 730 3
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 608 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 395 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 806 2
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 222 2
संगीत का विकास और प्रसार 1,024 2
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 292 1
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,621 1
रागों का सृजन 502 1
संगीत शास्त्र परिचय 2,590 1
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 709 1
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 670 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,310 1
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 437 1
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 553 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 405 1
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 382 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 324 1
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 524 1
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,186 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 940 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 1,101 0
भारतीय संगीत 518 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 1,272 4
गुरु की परिभाषा 1,865 3
भारतीय कलाएँ 504 3
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 568 3
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 449 3
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 1,160 2
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 287 2
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 725 2
गायकी और गले का रख-रखाव 570 2
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 785 1
शास्त्रीय संगीत और योग 663 1
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,212 1
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 553 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 771 1
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 1,060 1
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 520 1
टांसिल होने पर 440 1
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 522 1
कंठध्वनि 440 1
माइक्रोफोन की हानि : 335 1
माइक्रोफोन के प्रकार : 670 1
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 530 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 479 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 843 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,337 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 600 1
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 516 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 239 1
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 519 1
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 805 0
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 571 0
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 571 0
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 69 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 610 0
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 775 0
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 553 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 3,461 3
भारत में संगीत शिक्षण 1,231 1
कैराना का किराना घराने से नाता 336 1
गुरु-शिष्य परम्परा 921 1
स्वर परिचय
Total views Views today
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 212 2
संगीत के स्वर 432 2
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 208 2
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 243 1
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 182 1
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 173 1
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 177 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 149 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 181 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 236 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 196 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 551 2
अकबर और तानसेन 628 1
बैजू बावरा 566 1
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 574 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 222 1
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 209 1
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 630 1
रचन: श्री वल्लभाचार्य 726 1
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 515 0
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 106 0
वीडियो
Total views Views today
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 531 2
मोरा सइयां 262 1
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 986 1
कर्ण स्वर 339 1
राग यमन 363 0
वंदेमातरम् 252 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 266 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 390 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 320 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 1,020 1
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 410 1
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 295 1
माइक्रोफोन का कार्य 346 1
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 136 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 200 1
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 273 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 346 0
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 246 0