सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति

महागुजरात गाांधर्व सांगीत सममतत
गायन और र्ादन का अभ्यासक्रम
सांगीत उप वर्शारद
क्रक्रयात्मक - 300 अांक, लेखित – 100 अांक, कुल अांक – 400.
समय: - 1 साल (100 से 120 घांटे का प्रमशक्षण) परीक्षा समय: - 30 ममतनट.
क्रक्रयात्मक - 300 अांक : -
1) राग – 7, छायानट, गौड्मल्हार, बैरागी, बबभास(भैरव ठाट का), पूवी, मुलतानी, ससिंधुरा.
2) राग छायानट, गौड्मल्हार, मुलतानी, पूररयाधनाश्री, पूवी में से कोई भी 3 रागो में बड़ा ख्याल, छोटाख्याल की
गायकी अिंग से 20 समननट प्रस्तुनत की क्षमता.
3) बाकी के रागो में छोटाख्याल की 5 से 7 समननट की ढिंगदार प्रस्तुनत की क्षमता.
4) ऊपर ददये हुए रागो में से कोई भी 1 राग में धमार और 1 राग में ध्रुपद - नोमतोम आलाप और लयकारी के
साथ बिंददश की 10 समननट गाने की क्षमता.
सूचना: - ध्रुपद – धमार की प्रस्तुनत के पहले नोमतोम आलाप करना. उसके बाद ठाय में ढिंगदार बिंददश की प्रस्तुनत. दुगुन – नतगुण लयकारी करना और नतहाई लेना आना चादहए. यह सब प्रस्तुनत
बबना रुके 5 से 7 समननट करने की क्षमता.
5) अभी तक के अभ्यासक्रम में से ककसी भी 1 राग में चतरिंग.
6) राग काफी – खमाज में से ककसी भी 1 राग में ठुमरी.
7) राग धानी – जोगगया – पहाड़ी में से ककसी भी 2 राग में 1 – 1 बिंददश और राग की जानकारी.
8) इस साल के रागो में से कोई भी 1 राग में तराना.
9) तालज्ञान – आड़ाचौताल, सवारी (15 मात्रा की), झूमरा और धूमाली खिंड, मात्र, बोल के साथ जानकारी.
10) तीनताल और झपताल के ठेके बजाने की क्षमता.
11) सिंवाददनी (हारमोननयम) पर राग देस – यमन – बबहाग की बिंददशे बजाने की क्षमता.
लेखित – 100 अांक (क्रक्रयात्मक शास्त्र 50 अांक और सैद्ाांततक शास्त्र 50 अांक)
सैद्ाांततक शास्त्र 50 अांक: -
1) पाररभाविक शब्दों की व्याख्या – गायक – नायक – वाग्येकार – आक्षक्षप्ततका – मुखचालन – जानतगायन – सन्यास – ववन्यास और अभी तक के सभी पाररभाविक शब्दों की व्याख्या पूछ सकते है.
2) गायक के गुणदोि का वणणन, आलाप – तान – ननमाणण – रागोमें अल्पत्व – बहुत्व, समप्रकृनतक राग, आववभाणव – नतरोभाव, कणाणटकी सिंगीत के स्वरो की सभन्नता की जानकारी.
3) गायन में घराना - आग्रा, ककराना, पदटयाला, मेवाती, घराना की सामान्य जानकारी.
4) पिं. भातखण्डे जी और पिं. ववष्णु ददगिंबर पलुस्कर सलवप की ववस्तृत जानकारी, जीवनकायण और सादहत्य के बारें में 250 शब्दों में आलेखन.
5) जीर्न चररर और कायव : - 1) प॰ रववशिंकर 2) पिं. जसराज 3) पिं. सशवकुमार शमाण 4) उस्ताद अहमदजान गथरकवा
5) पिं. ववनायकराव पटवधणन 6) उ. अब्दूल करीम खााँ. यह कलाकारों के गाये – बजाये गए रागों की जानकारी.
6) बड़ा ख्याल – धमार – ध्रुपद की बिंददशे सलवपबद्ध करनेकी क्षमता.
7) क्रक्रयात्मक शास्त्र 50 अांक –
अ) रागो का तुलनात्मक अभ्यास
आ) स्वरावसल (स्वरसमूह) से राग पहचानना.
इ) बिंददश सलवपबद्ध करना.
ई) ताल सलवपबद्ध करना – दुगुन – नतगुण – चौगुण सलखने की क्षमता.
उ) आलाप – तान – नतहाई सलखने की क्षमता.
सूचना: - वपछले साल के अभ्यासक्रम से प्रश्न पूछ सकते है.
उद्देश्य: - 1) मौसलक गायन की प्रस्तुनत की अपेक्षा रखी है, न की रटा हुआ गायन गाए.
2) बड़ाख्याल और छोटाख्याल की प्रस्तुनत ढिंगदार होनी चादहए.
3) ववध्याथी ताल के बोल समझ कर गाए, न की अिंगुली की गगनती के सहारे गाए.
4) ठुमरी गायन के बारे में समझाना.
5) रटा हुआ गायन – आलाप – तान ववद्याथी का दोि है.

Vote: 
No votes yet
Rag content type: 

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 5,050 20
राग ललित! 884 8
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 771 8
राग बहार 591 7
स्वर मालिका तथा लिपि 587 7
शुद्ध स्वर 948 6
राग यमन (कल्याण) 1,006 4
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,277 4
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,013 4
राग भूपाली 1,145 4
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,678 4
आविर्भाव-तिरोभाव 805 4
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,751 4
वादी - संवादी 804 4
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 440 4
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,208 3
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 753 3
रागों मे जातियां 1,723 3
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 296 3
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,226 3
रागों के प्रकार 1,659 2
राग रागिनी पद्धति 1,386 2
राग दरबारी कान्हड़ा 1,058 2
स्वर मालिका तथा लिपि 1,046 2
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 391 2
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,489 2
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 642 2
रागों का विभाजन 235 1
स्वर (संगीत) 682 1
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 520 1
राग मुलतानी 411 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 144 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 340 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 135 0
राग- गौड़ सारंग 231 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 434 0
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 755 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,855 12
गुरु-शिष्य परम्परा 698 3
भारत में संगीत शिक्षण 1,081 2
कैराना का किराना घराने से नाता 279 1
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 351 9
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 765 7
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 877 6
कंठध्वनि 325 5
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 445 4
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 553 3
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 438 3
माइक्रोफोन के प्रकार : 520 3
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 350 3
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 396 3
शास्त्रीय संगीत और योग 548 2
भारतीय कलाएँ 420 2
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 667 2
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 473 2
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 598 2
गुरु की परिभाषा 1,170 1
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,039 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 242 1
टांसिल होने पर 361 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 340 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 709 1
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 351 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 506 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,003 1
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 206 1
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 651 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 431 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 635 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 872 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 460 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 408 0
माइक्रोफोन की हानि : 274 0
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 407 0
गायकी और गले का रख-रखाव 361 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 534 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 326 6
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 568 6
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 912 6
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 162 6
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,071 5
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 454 5
संगीत शास्त्र परिचय 2,238 4
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 970 4
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 214 3
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 469 3
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,213 3
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,041 3
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 307 3
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 274 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 839 3
रागों का सृजन 410 2
हारमोनियम के गुण और दोष 2,278 2
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 548 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 660 2
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 278 2
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 599 2
संगीत का विकास और प्रसार 865 2
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 769 2
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 406 2
भारतीय संगीत 431 2
स्वरों का महत्त्व क्या है? 371 1
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 344 1
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 405 1
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 786 4
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 23 4
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 231 1
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 301 0
माइक्रोफोन का कार्य 266 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 210 4
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 269 3
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 167 1
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 225 1
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
रचन: श्री वल्लभाचार्य 526 4
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 396 2
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 445 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 158 1
अकबर और तानसेन 516 0
बैजू बावरा 443 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 146 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 410 0
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 558 0
स्वर परिचय
Total views Views today
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 122 3
संगीत के स्वर 273 2
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 183 2
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 165 2
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 143 1
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 159 1
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 149 1
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 137 1
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 90 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 167 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 142 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 693 2
कर्ण स्वर 276 1
वंदेमातरम् 196 1
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 428 1
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 265 1
राग यमन 277 0
मोरा सइयां 222 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 229 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 326 0