सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति

सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति

महागुजरात गाांधर्व सांगीत सममतत
गायन और वादन का अभ्यासक्रम
सांगीत अलांकार (1).

क्रक्रयात्मक – कुल 600 अांक (क्रक्रयात्मक परीक्षा – 500 अांक + सभागायन 100 अांक), लेखित – 100 अांक, कुल अांक – 700.
समय: - सांगीत वर्शारद के बाद 1 साल (कम से कम 200 घांटे का प्रमशक्षण).
परीक्षा समय: - ज्यादा से ज्यादा 120 ममतनट (2 घांटे) और सभागायन का समय अलग.

क्रक्रयात्मक - 600 अांक : -
1) अभ्यासक्रम के बड़े ख्याल के राग: - कुल 10 राग करने है.

2) बडाख्याल के राग: - (250 अांक)
(1) शुद्ध सारांग (2) अहीर भैरर् (3) सुर मल्हार (4) मेघ मल्हार (5) देसी (6) जोग (7) देर्गगरर बबलर्ाल (8) कोमलरीषभ आसार्री (9) बबलासिानी तोडी (10) मारर्ा.
इन में से ककन्ही 6 रागो में ढंगदार विस्तृत गायकी करनी होगी. ऊपर ददये गए 10 रागो में से ककन्ही 06 रागो में बडा ख्याल - छोटा ख्याल पूर्ण रूपसे गायकी अंग से प्रस्तुत करना होगा. साथमें तराना की प्रस्तुतत सराहनीय होगी. बाकी के 4 रागो में मात्र बडे ख्याल और छोटे ख्याल की बंददश की गायकी अंग से ढंगदार प्रस्तुतत करने की क्षमता होनी चादहए.

3) अन्य छोटे ख्याल के राग: - (75 अांक)
(1) रामदासी मल्हार (2) शहाना (3) नायकी कानडा (4) र्सांत बहार (5) मधमाद सारांग (6) कलार्ती.
इन में से ककन्ही भी 4 रागो में गायकी अंग से मध्यलय की प्रस्तुतत 15 ममतनट तक करनी है. बाकी के रागों की शास्त्रीय जानकारी.
सूचना: - बड़ेख्याल – विलंबबत एकताल, विलंबबत तीनताल, विलंबबत झूमरा, विलंबबत ततलिाड़ा में से ककसी भी ताल में तैयार कर सकते है. मध्यलय की बंददश अगर अलग – अलग ताल में की होगी तो सराहनीय होगी.
4) ध्रुपद – धमार की प्रस्तुतत : - (75 अांक)
उपरोक्त 16 रागों में से ककन्ही भी 2 रागों में धमार और अन्य 2 रागों में ध्रुपद नोमतोम आलाप के साथ तैयार करना है. विविध लयकारी के साथ बबना रुकािट ढंगदार 15 ममतनट की प्रस्तुतत होनी चादहए. और िह प्रस्तुतत उसी गायन शैली में करने की क्षमता होनी चादहए.
या
5) उपशास्रीय सांगीत: - (75 अांक)
काफी – पीलू – खमाज इन में से ककन्ही भी 02 रागों में विलंबबत लय में – दीपचंदी, जत ताल या चाचर ताल में ठुमरी गायन शैली में ढंगदार 15 ममतनट की प्रस्तुतत की क्षमता.
दादरा, चैती शैली के बारे में विस्तारपूर्ण जानकारी और ककसी भी एक शैली के गीत की प्रस्तुतत करनी होगी.

6) अप्रचमलत तालो में प्रस्तुतत: - (25 अांक)
विद्याथी को 9,11 मात्रा के कोई भी ताल में 5 ममतनट की ढंगदार प्रस्तुतत करनी होगी. इन तालो की शास्त्रीय जानकारी भी होनी चादहए.

7) वर्द्यार्थी को वर्शारद तक के अभ्यासक्रम के प्रश्न पूछे जाएांगे. (75 अांक)

8) शास्र : - (लेखित – 100 अांक).
1) ऊपर मलखे सभी रागों की शास्त्रीय जानकारी. उन रागों के मतभेद, समप्रकृतत, समआकृतत, समस्िराकृतत िाले रागों के बारे में विस्तृत जानकारी होनी चादहए. उन रागों का तुलनात्मक अभ्यास करना है.
2) बंददश मलवपबद्द करने की क्षमता होनी चादहए.
3) राग रचना मसद्दांतो की विस्तृत जानकारी.
4) ताल रचना मसद्दांतो की विस्तृत जानकारी.
5) तार की लंबाई पर शुद्द स्वरों की स्थापना के बारे में जानकारी.
6) गायन में श्रुतत का स्थान.
7) आपके पसंदीदा ककसी भी एक घराने की विशेषता और उस घराने के ककसी भी एक कलाकार और उस की गायकी का अभ्यास और उस के विमशष्ठ मुव की लेखखत स्वरूप में एिम गायन प्रस्तुतत के साथ समझाने की क्षमता.
8) तनबंध के विषय – (क) संगीत और लमलत कलाओ का संबंध (ख) लोकसंगीत और समाज (ग) शास्त्रीय संगीत की कल, आज और कल (ध) संगीत विषय में आप के द्िारा पढ़ी हुई ककसी एक ककताब के बारे में (च) हिेली संगीत.
9) ताल संगत और स्वर संगत में ध्यान में रखने योग्य बातें.
10) संगीत उपयोगी आिाज बनाने की प्रकिया की जानकारी और उस की समझ देने की क्षमता.
11) पाश्चात्य संगीत में शुद्द – विकृत – मेजर माइनोर स्केल – स्टाफ नोटेशन के बारे में विस्तृत जानकारी.
12) अष्टांग गायकी की जानकारी.

9) सभागायन – 100 अांक.
सांगीतप्रेमी श्रोताजन समक्ष वर्ध्यार्थी का सभगायन होगा, जजसमे वर्ध्यार्थी को -
क) परीक्षक के पसंदीदा राग में बड़ाखयाल – छोटाख्याल की प्रस्तुतत गायकी अंग से प्रस्तुतत 20 से 25 ममतनट की होगी – 50 अंक,
ख) ध्रुपद – धमार या ठुमरी गायन की भाियुक्त प्रस्तुतत 15 ममतनट की होगी – 25 अंक.
ग) कियात्मक परीक्षा के िक्त विध्याथी को अभ्यासिम के ककसी एक विषय बताएँगे जजस के पर 5 से 7 ममतनट का व्याख्यान देना होगा या कियात्मक परीक्षा के िक्त एक बंददश के शब्द ददये जाएगे, विध्याथी को उस बंददश को योग्य राग और ताल में स्िरांकन कर के 5 ममतनट की प्रस्तुतत करनी होगी.– 25 अंक.
सूचना: - 1) ख्याल गायन – ध्रुपद और धमार गायन एर्म उपशास्रीय सांगीत की प्रस्तुतत के बारे में अांत में दी गई सूचना, सांगीत गुरु और वर्द्यार्थी ध्यान करें.
2) ताल सांगत जीर्ांत रहेगी.

Vote: 
No votes yet
Rag content type: 

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894

 

 

 

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 5,050 20
राग ललित! 884 8
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 771 8
स्वर मालिका तथा लिपि 587 7
राग बहार 590 6
शुद्ध स्वर 948 6
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,277 4
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,013 4
राग भूपाली 1,145 4
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 1,678 4
आविर्भाव-तिरोभाव 805 4
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 1,751 4
वादी - संवादी 804 4
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 440 4
राग यमन (कल्याण) 1,005 3
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,208 3
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 753 3
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 296 3
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,226 3
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 642 2
रागों के प्रकार 1,659 2
रागों मे जातियां 1,722 2
राग रागिनी पद्धति 1,386 2
राग दरबारी कान्हड़ा 1,058 2
स्वर मालिका तथा लिपि 1,046 2
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 391 2
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 1,489 2
रागों का विभाजन 235 1
स्वर (संगीत) 682 1
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 520 1
राग मुलतानी 411 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 144 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 340 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 135 0
राग- गौड़ सारंग 231 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 434 0
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 755 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 2,855 12
गुरु-शिष्य परम्परा 698 3
भारत में संगीत शिक्षण 1,081 2
कैराना का किराना घराने से नाता 279 1
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 351 9
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 765 7
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 877 6
कंठध्वनि 325 5
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 445 4
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 396 3
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 350 3
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 553 3
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 438 3
माइक्रोफोन के प्रकार : 520 3
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 598 2
भारतीय कलाएँ 420 2
शास्त्रीय संगीत और योग 548 2
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 667 2
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 473 2
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 206 1
गुरु की परिभाषा 1,170 1
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,039 1
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 242 1
टांसिल होने पर 361 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 340 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 709 1
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 351 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,003 1
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 506 1
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 651 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 431 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 635 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 872 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 460 0
माइक्रोफोन की हानि : 274 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 408 0
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 407 0
गायकी और गले का रख-रखाव 361 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 534 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 326 6
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 568 6
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 912 6
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 162 6
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,071 5
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 454 5
संगीत शास्त्र परिचय 2,238 4
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 970 4
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 214 3
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 469 3
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,213 3
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,041 3
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 307 3
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 274 3
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 839 3
हारमोनियम के गुण और दोष 2,278 2
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 660 2
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 548 2
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 599 2
संगीत का विकास और प्रसार 865 2
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 769 2
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 406 2
भारतीय संगीत 431 2
रागों का सृजन 409 1
स्वरों का महत्त्व क्या है? 371 1
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 405 1
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 344 1
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 277 1
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
भारतीय नृत्य कला 786 4
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 23 4
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 231 1
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 301 0
माइक्रोफोन का कार्य 266 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
रचन: श्री वल्लभाचार्य 526 4
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 396 2
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 445 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 158 1
अकबर और तानसेन 516 0
बैजू बावरा 443 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 146 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 410 0
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 558 0
स्वर परिचय
Total views Views today
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 122 3
संगीत के स्वर 273 2
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 183 2
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 165 2
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 137 1
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 143 1
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 159 1
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 149 1
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 90 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 167 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 142 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 209 3
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 268 2
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 225 1
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 166 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 693 2
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 265 1
कर्ण स्वर 276 1
वंदेमातरम् 196 1
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 326 0
राग यमन 277 0
मोरा सइयां 222 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 427 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 229 0