स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय

स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय

जैसा कि षड्ज स्वर के संदर्भ में उल्लेख किया जा चुका है, सूर्य की अथवा गुणों की अनुदित/अविकसित स्थिति षड्ज हो सकती है जबकि उदित/विकसित स्थिति ऋषभ हो सकती है। यदि प्राण षड्ज है तो वाक् ऋषभ हो सकती है। यदि मन षड्ज है तो वाक् ऋषभ हो सकती है(छान्दोग्य उपनिषद)। साम की भक्तियों में प्रस्ताव भक्ति ऋषभ के तुल्य कही जा सकती है। छान्दोग्य उपनिषद में कहा गया है कि पशु तो हिंकार स्थिति है जबकि मनुष्य प्रस्ताव, क्योंकि मनुष्य ही परमेश्वर की स्तुति कर सकता है। इस कथन को इस प्रकार समझा जा सकता है कि किसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए अज्ञानपूर्वक जो संकल्प किया जाता है, वह तो षड्ज है और तत्पश्चात् उस उद्देश्य की पूर्ति के लिए जो परमेश्वर से प्रार्थना की जाती है, अभीप्सा की जाती है, वह ऋषभ है। इस कथन का दूसरा अर्थ यह हो सकता है कि पशु चतुष्पाद होता है, जबकि मनुष्य द्विपाद। चतुष्पाद से अर्थ चारों दिशाओं में गति करने वाला, तिर्यक दिशा में प्रगति करने वाला लिया जा सकता है जबकि द्विपाद का अर्थ ऊर्ध्व – अधो दिशाओं में प्रगति करने वाला हो सकता है।

     ऋषभ स्वर के विषय में  सूचनाएं पुराणों में उपलब्ध ऋषभ की कथाओं से मिल सकती हैं। स्कन्द पुराण ३.३.१० में एक  कथा है जिसमें एक वेश्या व उसका पति ऋषभ योगी की सेवा करने से अगले जन्म में रानी व राजा बनते हैं। विषपान के कारण रानी व उसका पुत्र कुष्ठ रोग से ग्रसित हो जाते हैं। कालान्तर में राजा द्वारा कुष्ठग्रस्त रानी व उसके पुत्र को निर्वासित कर दिया जाता है। ऋषभ योगी की कृपा से रानी का मृत पुत्र जीवित हो जाता है। ऋषभ योगी द्वारा प्रदत्त भस्म से रानी और उसके पुत्र का कुष्ठ ठीक हो जाता है और वह पुत्र ऋषभ योगी द्वारा प्रदत्त शंख व खड्ग अस्त्रों से अपने खोए हुए राज्य की शत्रुओं से पुनः प्राप्ति करता है। इस कथा में कुष्ठ रोग से तात्पर्य, डा. फतहसिंह के शब्दों में, अथर्ववेद के सूक्त के अनुसार, कहीं दूर स्थित, छिपी हुई ज्योति से है। वेश्या से तात्पर्य हमारी वृत्तियां हो सकता हैं जो ऋषभ योगी की सेवा करने से अन्तर्मुखी हो सकती हैं। ऋषभ योगी की दूसरी कथा भागवत पुराण के पांचवें स्कन्ध में मिलती है जिसमें ऋषभ के ज्येष्ठ पुत्र भरत को भारतवर्ष का राज्य मिलता है तथा ऋषभ योगी अवधूत वृत्ति ग्रहण कर लेते हैं। भागवत पुराण के ग्यारहवें स्कन्ध में ऋषभ के अन्य ९ महायोगी पुत्रों कवि, हरि आदि का वर्णन है। वायु पुराण ६५.१०२ के अनुसार ऋषभ सुधन्वा के पुत्र हैं, रथकार हैं और उनकी व्याप्ति देव व ऋषि दोनों में है। वैदिक साहित्य में ऐसी स्थिति ऋभुओं की कही जाती है। यह स्पष्ट नहीं है कि ऋषभ का ऋभुओं से यह तादात्म्य वास्तविक है या भ्रामक।

ऋषभः

*नाभेस्समुत्थितो वायुः कण्ठशीर्षसमाहतः। ऋषभं नदते यस्मादृषभो हि प्रकीर्तितः।।- जगदेकः

*नाभिमूलाद्यदा वर्ण उद्गतः कुरुते ध्वनिम्। ऋषभस्येव निर्याति हेलया ऋषभस्वरः।। - पुरुषोत्तमः

*उद्गीथायास्समुत्पन्नो ऋषभो रञ्जितस्वरः। शुकपिञ्जरवर्णोऽयं ऋषभो वह्निदैवतः।।

ब्रह्मणा कथितः पूर्वं। वीररौद्राद्भुतेषु प्रवृत्तः। शिरसः उत्थितः। सनन्दो ऋषिः। प्रतिष्ठाच्छन्दः। सरस्वत्यधिदेवता। कुलीरे विश्रामान्तः। - जगदेकः?

( कुलीरः -- कर्कटः)।

*ऋषभस्त्रिश्रुतिस्तालुमूले तस्यापि संभवात्। मज्जाधात्वग्निजो नाद ऋषभस्त्रिश्रुतिः स्मृतः।। - जगदेकः

ऋषभस्य शाकद्वीपः। ऋषभ स्वर के विषय में यह अनुमान लगाया जा सकता है कि यह स्वर मज्जा धातु में उत्पन्न होता है और वहां से इसका प्रभाव हृदय में आकर रक्त में मिलता है। राग देस आदि जितने स्वरों में ऋषभ स्वर वादी है, एक सोरठ राग को छोडकर अन्य सभी रागों में उसका संवादी स्वर पंचम है। यह संकेत देता है कि मज्जा धातु के अन्दर उत्पन्न हुए प्रभाव से सारे व्यक्तित्व को ओतप्रोत करना है।

कथासरित्सागर में ऋषभ पर्वत पर सूर्यप्रभ, नरवाहनदत्त आदि के चक्रवर्ती पद पर अभिषेक के उल्लेख आते हैं। अभिषेक को इस प्रकार समझा जा सकता है जैसे शिव मूर्ति पर कलश के जल से लगातार अभिषेक होता रहता है। इसी प्रकार मनुष्य के सिर में किसी प्रकार के शीतल जल से अभिषेक संभव है।

कुलीर/कर्कट राशि में ऋषभ स्वर के विश्राम के संदर्भ में, कर्क राशि कृक – केका, प्रतिध्वनि से सम्बन्धित है। कर्क राशि को अंग्रेजी भाषा में कैंसर कहते हैं और कैंसर रोग भी है। कैंसर रोग तब उत्पन्न होता है जब नई कोशिकाएं पुरानी कोशिकाओं का स्वरूप ग्रहण नहीं कर पाती, उनके स्वरूप में अन्तर आ जाता है। कर्क राशि का अभिप्राय यही है कि कोशिकाएं पुरानी कोशिकाओं का प्रतिरूप हों। इससे निष्कर्ष निकलता है कि ऋषभ स्वर किसी प्रकार से कैंसर के निदान में उपयोगी हो सकता है।

*तिस्रो धमन्यो वर्धन्यो मज्जाया नाभिमाश्रिताः। तस्माद्धात्वाश्रितत्वेन ऋषभस्त्रिश्रुतिर्भवेत्।। - जगदेकः

*ऋषभः स्वरहस्तः – मृगमौलिश्चापविद्धो ऋषभस्वर ईरितः। - शृङ्गा

*ऋषभस्वरमन्त्रः – दक्षिणो हृदयाय नमः। वार्तिक शिरसे स्वाहा। चित्रशिखायै वषट्। चित्रः कवचाय हुम्। चित्रतरः नेत्रत्रयाय वौषट्। चित्रतमः अस्त्राय फट्। सनन्दन ऋषिः प्रतिष्ठाच्छन्दः सरस्वती देवता। ऐं क्लीं सौं रिं नमः। - जगदेकः

शिर में ऋषभ स्वर की स्थिति वार्तिक रूप में कही गई है। वार्तिक शब्द का प्रयोग किसी मन्त्र की व्याख्या करने के लिए होता है। हो सकता है कि वार्तिक का शुद्ध रूप वर्तन, बारम्बारता हो। वर्तन के लिए अपेक्षित है कि यह वर्तन प्रतिदिन एक जैसा हो, इसमें जडता न आए। यह वर्तन उपरिलिखित कर्क राशि का प्रतीक भी हो सकता है। इससे आगे मन्त्र में ऋषभ स्वर की चित्र, चित्रतर व चित्रतम स्थितियों का उल्लेख है। चित्र स्थिति किसी शुद्ध गुण के पृथिवी पर अवतरित होने पर विकृत अवस्था को प्राप्त होने की स्थिति है।

ऋषभ स्वर के मन्त्र में हृदय में ऋषभ को दक्षिणा कहा गया है। यह कथन महत्त्वपूर्ण है और व्यवहार में जहां-जहां भी दक्षिणा/दक्षता प्राप्ति की आवश्यकता पडे, वहां ऋषभ स्वर का विनियोग किया जाना चाहिए। दक्षता को इस प्रकार समझा जा सकता है कि जब हम कोई कार्य करते हैं तो एक प्रकार की ऊर्जा को दूसरे प्रकार की ऊर्जा में रूपान्तरित करते हैं। उदाहरण के लिए, बिजली के पंखे में वैद्युत ऊर्जा का यान्त्रिक ऊर्जा में रूपान्तरण होता है। लेकिन यह रूपान्तरण सौ प्रतिशत नहीं होता, कुछ प्रतिशत ऊष्मा प्रकार की ऊर्जा में व्यर्थ हो जाता है। आवश्यकता सौ प्रतिशत रूपान्तरण की है, वही दक्ष स्थिति कहलाएगी। यह विचित्र है कि पुराणों में जहां – जहां ऋषभ पर्वत आदि के उल्लेख आए हैं, उनमें से अधिकांश में उसकी स्थिति दक्षिण दिशा में कही गई है। दक्षता/दक्षिणा को कैसे उत्पन्न किया जा सकता है, इसके लिए ऐतरेय ब्राह्मण ४.३१ में पृष्ठ्य षडह सोमयाग के संदर्भ में याग के द्वितीय दिवस को समझना होगा। इस याग के लक्षण हैं – कुर्वत्(वर्तमान काल), न एति, न प्रेति, स्थितवत्, ऊर्ध्ववत्, प्रतिवत्, अन्तर्वत्, वृधन्वत्, वृषन्वत्, अभ्युदित, बार्हत इत्यादि। श्री रजनीश ने अपने व्याख्यानों में बहुत जोर दिया है कि हम वर्तमान में जीना सीखें। अभ्युदित लक्षण का उल्लेख षड्ज स्वर के लिए भी हो चुका है। ऋषभ स्वर के संदर्भ में भी जब अभ्युदित का उल्लेख है तो यह पहले अभ्युदित से भिन्न होना चाहिए। व्याख्या अपेक्षित है।  

*ऋषभाभिनयः – हंसास्याभिधहस्तेन दक्षिणेन करेण तु। कटिस्थेनार्धचन्द्रेण समेन शिरसा तथा। ब्राह्माख्यस्थानकेनापि धीमान् ऋषभमादिशेत् । - दामोदरः

*ऋषभस्तु ततः कल्पो ज्ञेयः पञ्चदशो द्विजाः। ऋषयो यत्र सम्भूताः स्वरो लोकमनोहरः।। - वायु पुराण २१.३१

Vote: 
No votes yet
Rag content type: 

राग परिचय

हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 5,325 4
गुरु-शिष्य परम्परा 1,435 0
भारत में संगीत शिक्षण 1,822 0
रामपुर सहसवां घराना भी है गायकी का मशहूर घराना 192 0
कैराना का किराना घराने से नाता 475 0
राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 11,058 3
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 2,034 2
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 3,595 2
स्वर मालिका तथा लिपि 2,481 1
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 3,224 1
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 2,472 1
टप्पा गायन : एक परिचय 724 1
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 4,206 1
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 322 1
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 1,317 1
रागों के प्रकार 4,633 1
रागों मे जातियां 2,934 1
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 2,076 1
राग भूपाली 2,680 1
स्वर (संगीत) 1,716 1
आविर्भाव-तिरोभाव 2,711 0
वादी - संवादी 2,542 0
राग ललित! 2,014 0
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 1,605 0
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 1,053 0
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 1,302 0
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 3,919 0
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 1,143 0
राग मुलतानी 864 0
राग यमन (कल्याण) 2,452 0
रागों का विभाजन 634 0
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 2,070 0
राग बहार 1,495 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 329 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 732 0
राग रागिनी पद्धति 2,791 0
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 2,874 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 345 0
शुद्ध स्वर 2,406 0
राग दरबारी कान्हड़ा 2,177 0
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 796 0
राग- गौड़ सारंग 634 0
स्वर मालिका तथा लिपि 1,889 0
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 1,101 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 1,298 3
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 226 2
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 2,330 2
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 915 2
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 1,368 2
गुरु की परिभाषा 3,616 2
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,806 2
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 883 2
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 767 1
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 898 1
नई स्वरयंत्र की सूजन 849 1
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 853 1
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 926 1
क्या प्रभाव पड़ता है संगीत का किशोरों पर? 169 1
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 1,474 1
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 1,531 1
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 2,457 1
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 2,110 1
माइक्रोफोन की हानि : 521 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 835 0
कंठध्वनि 790 0
माइक्रोफोन के प्रकार : 1,208 0
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 1,275 0
आइआइटी कानपुर ने भी माना राग दरबारी सुनने से तेज होता है दिमाग, दूर कर सकते रोग 185 0
गायकी और गले का रख-रखाव 996 0
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 1,032 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 853 0
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 406 0
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 1,145 0
भारतीय कलाएँ 685 0
माता-पिता अपने किशोर बच्चों को गानो के गलत प्रभाव से कैसे बचा सकते हैं? 153 0
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 1,217 0
शास्त्रीय संगीत और योग 1,048 0
संगीत कितने प्रकार का होता है और उसका किशोरों के दिमाग पर क्या असर पड़ता है? 237 0
संगीत सुनने से दिमाग पर होता है ऐसा असर 227 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 1,598 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 782 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 449 0
टांसिल होने पर 663 0
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 1,189 0
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 945 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 1,242 2
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 2,025 2
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 1,069 1
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 503 1
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 1,162 1
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 2,004 1
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 1,095 1
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 1,243 1
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 478 0
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 1,256 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 537 0
संगीत का विकास और प्रसार 1,775 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 1,571 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 975 0
भारतीय संगीत 778 0
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 639 0
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 4,157 0
रागों का सृजन 751 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 575 0
हारमोनियम के गुण और दोष 4,140 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 779 0
संगीत शास्त्र परिचय 3,713 0
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 994 0
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 1,756 0
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,787 0
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,976 0
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 809 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 2,356 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 364 1
माइक्रोफोन का कार्य 669 1
सबसे पुराना माना जाता है ग्वालियर घराना 203 1
लता मंगेशकर का नाम : भारतीय संगीत की आत्मा 181 1
काशी की गिरिजा 150 1
राग क्या हैं 530 0
लोक और शास्त्र के अन्तरालाप की देवी 131 0
कर्नाटक संगीत 257 0
क्या अलग था गिरिजा देवी की गायकी में 235 0
कर्नाटक गायन शैली के प्रमुख रूप 221 0
वेद में एक शब्द है समानिवोआकुति 185 0
पंडित भीमसेन गुरुराज जोशी 201 0
ठुमरी का नवनिर्माण 162 0
रागदारी: शास्त्रीय संगीत में घरानों का मतलब 217 0
बेहद लोकप्रिय है शास्त्रीय गायकी का किराना घराना 166 0
आगरा का भी है अपना शास्त्रीय घराना 157 0
मेवाती घराने की पहचान हैं पंडित जसराज 168 0
जयपुर- अतरौली घराने की देन हैं एक से बढ़कर एक कलाकार 170 0
भारतीय नृत्य कला 1,828 0
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 957 0
शास्त्रीय संगीत क्या है 207 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत का आधार: 192 0
लोक कला की ध्वजवाहिका 131 0
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 458 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 848 1
उस्ताद बड़े गुलाम अली खान वाला पटियाला घराना 223 1
फकीर हरिदास और तानसेन के संगीत में क्या अंतर है? 168 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 399 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 343 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 959 0
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 333 0
पण्डित अजॉय चक्रबर्ती 151 0
बड़े गुलाम अली खान: जिन्होंने गाने के लिए रफी और लता से 50 गुना फीस ली 175 0
रचन: श्री वल्लभाचार्य 1,221 0
अकबर और तानसेन 1,005 0
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 854 0
बैजू बावरा 934 0
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 1,010 0
वीडियो
Total views Views today
राग यमन 603 1
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 2,372 1
वंदेमातरम् 383 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 1,021 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 401 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 574 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 575 0
मोरा सइयां 430 0
कर्ण स्वर 485 0
कौन दिसा में लेके चला रे बटुहिया 211 0
स्वर परिचय
Total views Views today
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 338 1
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 512 1
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 683 1
संगीत के स्वर 1,153 0
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 446 0
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 428 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 373 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 318 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 315 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 377 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 363 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 432 1
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 604 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 299 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 469 0