हमारे पूज्यनीय गुरु

उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां

उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां

 में हुआ बाद में उन्होंने अपने पिता अली बख्श खां, चाचा काले खां और बाबा शिंदे खां से संगीत के गुर सीखे। इनके पिता महाराजा कश्मीर के दरबारी गायक थे और वह घराना "कश्मीरी घराना" कहलाता था। जब ये लोग पटियाला जाकर रहने लगे तो यह घराना "पटियाला घराना" के नाम से जाना जाने लगा। अपने सधे हुए कंठ के कारण बड़े गुलाम अली खां ने बहुत प्रसिद्ध पाई। सन १९१९ के लाहौर संगीत सम्मेलन में बड़े गुलाम अली खां ने अपनी कला का पहली बार सार्वजनिक प्रदर्शन किया। इसके कोलकाता और इलाहाबाद के संगीत सम्मेलनों ने उन्हें देशव्यापी ख्याति दिलाई। उन्होंने अपनी बेहद सुरीली और लोचदार आवाज तथा अभिनव शैली के बूते ठुमरी को एकदम न

अमवा महुअवा के झूमे डरिया

Sharda Sinha

अमवा महुअवा के झूमे डरिया  - 2
तानी ताका न बलम , तानी ताका न बलमुआ ओरिया । 

अमवा मोजर गइले महुआ कुचाई गइले 
अमवा मोजर गइले महुआ कुचाई गइले 
रसवा से भरी गइले कुल डरिया हो जी रसवा से भरी गइले कुल डरिया
तानी ताका न बलम , तानी ताका न बलमुआ ओरिया । 

महुआ बिनन हम गइली महुआ बगिया 
महुआ बिनन हम गइली महुआ बगिया 
रहिया जे छेकले देवर पापिया  हो जी रहिया जे छेकले देवर पापिया
तानी ताका न बलम , तानी ताका न बलमुआ ओरिया । 

रचन: श्री वल्लभाचार्य

शुद्धाद्वैतवाद का अर्थ, पुष्टिमार्ग की स्थापना, पुष्टिमार्गीय वैष्णव, सुबोधिनी टीका pdf, पुष्टिमार्ग दर्शन, पुष्टिमार्ग का जहाज, विट्ठलनाथ, द्वैताद्वैतवाद

रचन: श्री वल्लभाचार्य

अधरं मधुरं वदनं मधुरं
नयनं मधुरं हसितं मधुरम् ।
हृदयं मधुरं गमनं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ १ ॥

वचनं मधुरं चरितं मधुरं
वसनं मधुरं वलितं मधुरम् ।
चलितं मधुरं भ्रमितं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ २ ॥

वेणु-र्मधुरो रेणु-र्मधुरः
पाणि-र्मधुरः पादौ मधुरौ ।
नृत्यं मधुरं सख्यं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ ३ ॥

गीतं मधुरं पीतं मधुरं
भुक्तं मधुरं सुप्तं मधुरम् ।
रूपं मधुरं तिलकं मधुरं
मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥ ४ ॥

बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत

 बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत

चार दशकों तक अपने संगीत सागर में श्रोताओं को डुबकी लगवाने वाले बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत- दोनों जगह अपनी धाक जमाई।

ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान

ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान

देश की प्रसिद्ध ठुमरी गायिका गिरिजा देवी का आज कोलकाता में निधन हो गया। वो सेनिया और बनारस घराने से तुल्लुक रखती हैं। गिरिजा देवी शास्त्रीय और उप-शास्त्रीय संगीत का गायन करतीं थीं। ठुमरी गायन को लोकप्रिय बनाने में इनका अहम योगदान रहा। गिरिजा देवी को सन 2016 में पद्म विभूषण एवं 1980 में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।  

जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद'

दुनिया का कोई भी मंच हो, दिल्ली का सिरी फ़ोर्ट ऑडीटोरियम, लंदन का रॉयल अलबर्ट हॉल या फ़्रैंकफ़र्ट का मोत्सार्त हॉल या सिडनी का ऑपेरा हाउस, उस्ताद अमजद अली ख़ाँ ने अपने सरोद वादन से पूरी दुनिया के संगीत प्रेमियों को न सिर्फ़ मंत्रमुग्ध किया है, बल्कि उन्हें खड़े हो कर दाद देने के लिए मजबूर भी किया है.

अपने घराने और अपने पिता की तारीफ़ में तो हर कोई लिखता है लेकिन भारतीय संगीत के इन चुनिंदा नगीनों पर शायद ही किसी उस्ताद की नज़र गई है, और शायद यही वजह है कि अमजद अली ख़ाँ की किताब का नाम रखा गया है, 'मास्टर ऑन मास्टर्स.'

अमजद अली खां पर विवेचना में सुनिए-

तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय

तानसेन के गीत,  तानसेन संगीत

तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के एक महान ज्ञाता थे। उन्हे सम्राट अकबर के नवरत्नों में भी गिना जाता है

बैजू बावरा

बैजू बावरा का जीवन परिचय, बैजू बावरा गीत, बैजू बावरा 1952, बैजू बावरा की समाधि, बैजू बावरा का मकबरा, बैजू बावरा मन तड़पत हरि दर्शन को आज (राग मालकौंस), बैजू बावरा (1952 फ़िल्म), बैजू बावरा तू गंगा की मौज

बैजू बावरा भारत के ध्रुपदगायक थे। उनको बैजनाथ प्रसाद और बैजनाथ मिश्र के नाम से भी जाना जाता है। वे ग्वालियर के राजा मानसिंह के दरबार के गायक थे और अकबर के दरबार के महान गायक तानसेन के समकालीन थे। उनके जीवन के बारे में बहुत सी किंवदन्तियाँ हैं जिनकी ऐतिहासिक रूप से पुष्टि नहीं की जा सकती है।

Pages

राग परिचय

राग परिचय
Total views Views today
सात स्वर, अलंकार सा, रे, ग, म, प ध, नि 7,007 7
स्वन या ध्वनि भाषा की मूलभूत इकाई हैक्या है ? 683 3
स्वर मालिका तथा लिपि 1,301 2
राग ललित! 1,095 2
नाद का शाब्दिक अर्थ है -१. शब्द, ध्वनि, आवाज। 686 2
कुछ रागों की प्रकृति इस प्रकार उल्लेखित है- 577 1
स्वर मालिका तथा लिपि 853 1
आविर्भाव-तिरोभाव 1,113 1
संगीत संबंधी कुछ परिभाषा 2,112 1
राग 'भैरव':रूह को जगाता भोर का राग 996 1
रागो पर आधारित फ़िल्मी गीत 1,342 1
रागांग वर्गीकरण पद्धति एवं प्रमुख रागांग 2,527 1
ठुमरी : इसमें रस, रंग और भाव की प्रधानता होती है 815 1
राग मुलतानी 533 1
सात स्वरों को ‘सप्तक’ कहा गया है 1,445 1
रागों मे जातियां 2,065 1
राग बहार 791 1
रागों के प्रकार 2,419 1
सुर-ताल के साथ गणित को समझना आसान 1,251 1
राग दरबारी कान्हड़ा 1,311 1
शुद्ध स्वर 1,313 1
स्वर (संगीत) 865 1
वादी - संवादी 1,123 0
राग,पकड़,वर्ज्य स्वर,जाति,वादी स्वर,संवादी स्वर,अनुवादी स्वर,विवादी स्वर,आलाप,तान 566 0
थाट,थाट के लक्षण,थाटों की संख्या 2,136 0
टप्पा गायन : एक परिचय 143 0
‘राग’ शब्द संस्कृत की धातु 'रंज' से बना है 97 0
राग यमन (कल्याण) 1,354 0
सुर की समझ गायकी के लिए बहुत जरूरी है. 1,123 0
रागों का विभाजन 334 0
राग मारू बिहाग का संक्षिप्त परिचय- 1,814 0
राग भूपाली 1,530 0
शास्त्रीय संगीत में समय का महत्व 2,002 0
षड्जग्राम-तान बोधिनी 186 0
सप्तक क्रमानुसार सात शुद्ध स्वरों के समूह को कहते हैं। 446 0
राग रागिनी पद्धति 1,716 0
मध्यमग्राम-तान-बोधिनी 183 0
राग- गौड़ सारंग 316 0
रागांग राग वर्गीकरण से अभिप्राय 395 0
भारतीय शास्त्रीय संगीत
Total views Views today
भारतीय शास्त्रीय संगीत की जानकारी 1,354 2
अलंकार- भारतीय शास्त्रीय संगीत 2,686 2
हारमोनियम के गुण और दोष 2,799 2
तानपुरे अथवा सितार के खिचे हुये तार को आघात करने से तार कम्पन करता है 572 1
हिन्दुस्तानी संगीत पद्धति रागों पर आधारित है 750 1
संगीत का विकास और प्रसार 1,045 1
नाट्य-शास्त्र संगीत कला का प्राचीन विस्तरित ग्रंथ है 630 1
षडजांतर | शास्त्रीय संगीत के जाति लक्षण क्यां है 722 1
भारतीय शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति वेदों से मानी जाती है 820 1
गायकी के 8 अंग (अष्टांग गायकी) 449 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 1,246 0
भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है भारतीय शास्त्रीय संगीत। 226 0
रागों की उत्पत्ति ‘थाट’ से होती है। 421 0
नाद-साधन भी मोक्ष प्राप्ति का ऐक मार्ग है। 385 0
संस्कृत में थाट का अर्थ है मेल 330 0
हिन्दुस्तानी संगीत प्रणाली में प्रचलित गायन के प्रकार 968 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: व्याख्या, स्वरूप, भेद 1,126 0
ध्वनि विशेष को नाद कहते हैं 543 0
भारतीय संगीत 524 0
राग भारतीय शास्त्रीय संगीत की आत्मा हैं। 295 0
रागों का सृजन 509 0
निबद्ध- अनिबद्ध गान: 403 0
संगीत शास्त्र परिचय 2,618 0
स्वरों का महत्त्व क्या है? 478 0
संगीत से सम्बन्धित 'स्वर' के बारे में है 766 0
'राग' शब्द संस्कृत की 'रंज्' धातु से बना है 682 0
जानिए भारतीय संगीत के बारे में 1,201 0
ख्याल गायकी के घरानेएक दृष्टि : भाग्यश्री सहस्रबुद्धे 1,434 0
हमारे पूज्यनीय गुरु
Total views Views today
अमवा महुअवा के झूमे डरिया 113 2
रचन: श्री वल्लभाचार्य 740 1
अकबर और तानसेन 635 1
ओंकारनाथ ठाकुर (1897–1967) भारत के शिक्षाशास्त्री, 524 1
तानसेन या मियां तानसेन या रामतनु पाण्डेय 585 1
बालमुरलीकृष्ण ने कर्नाटक शास्त्रीय संगीत और फिल्म संगीत 224 0
ठुमरी गायिका गिरिजा देवी हासिल कर चुकी हैं कई पुरस्कार और सम्मान 213 0
जब बेगम अख्तर ने कहा, 'बिस्मिल्लाह करो अमजद' 637 0
उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली ख़ां 562 0
बैजू बावरा 580 0
संगीत और हमारा जीवन
Total views Views today
संगीत का वैज्ञानिक प्रभाव 542 2
माइक्रोफोन के प्रकार : 691 1
गुनगुनाइए गीत, याददाश्त रहेगी दुरुस्त 538 1
संगीत सुनें और पाएं इन सात समस्याओं से छुटकारा 577 1
भारतीय संगीत में आध्यात्मिकता स्रोत 847 1
गायक बनने के उपाय और कैसे करें रियाज़ 1,362 1
गुरु की परिभाषा 1,906 1
गले में सूजन, पीड़ा, खुश्की 583 0
संगीत के लिए हमारे जीवन में एक प्राकृतिक जगह है 576 0
कंठध्वनि 448 0
माइक्रोफोन की हानि : 337 0
क्या आप भी बनना चाहेंगे टीवी एंकर 530 0
अल्कोहल ड्रिंक्स - ये दोनों आपके गले के पक्के (पक्के मतलब वाकई पक्के) दुश्मन हैं 78 0
नई स्वरयंत्र की सूजन 491 0
नई स्वरयंत्र की सूजन(मानव गला) 458 0
गायकी और गले का रख-रखाव 579 0
वैदिक विज्ञान ने भारतीय शास्त्रीय संगीत'रागों' में चिकित्सा प्रभाव होने का दावा किया है। 610 0
रागों में छुपा है स्वास्थ्य का राज 621 0
भारतीय संगीत के सुरों द्वारा बीमारियो का इलाज 561 0
पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक रहस्य 790 0
Sounds magic ध्वनियों का इंद्रजाल 522 0
अबुल फजल ने 22 नाड़ियों में सात स्वरों की व्याप्ति बताई जो इस प्रकार 242 0
शास्त्रीय संगीत और योग 672 0
भारतीय कलाएँ 506 0
नवजात शिशुओं पर संगीत का प्रभाव 795 0
कैसे जानें की आप अच्छा गाना गा सकते हैं 559 0
संगीत द्वारा रोग-चिकित्सा 1,226 0
चमत्कार या लुप्त होती संवेदना एक लेख 816 0
संगीत का प्राणि वर्ग पर असाधारण प्रभाव 783 0
रियाज़ कैसे करें 10 तरीके 1,194 0
कैसे रखें आवाज के जादू को बरकरार 1,076 0
गायक कलाकारों और बच्चों के लिए विशेष 527 0
गाने का रियाज़ करते समय साँस लेने के सही तरीका 1,299 0
टांसिल होने पर 448 0
खर्ज और ओंकार का अभ्यास क्या है ? 746 0
भारतीय परम्पराओं का पश्चिम में असर 294 0
वीडियो
Total views Views today
राग भीमपलासी पर आधारित गीत 1,025 2
मोरा सइयां 265 1
कर्ण स्वर 341 1
वंदेमातरम् 253 0
ब्रेथलेसऔर अरुनिकिरानी 268 0
राग बागेश्री | पंडित जसराज जी 544 0
द ब्यूटी ऑफ राग बिलासखानी तोड़ी 324 0
नुसरत फतेह के द्वारा राग कलावती 393 0
राग यमन 366 0
स्वर परिचय
Total views Views today
संगीत के स्वर 467 1
स्वर षड्ज का शास्त्रीय परिचय 242 1
संगीत रत्नाकर के अनुसार स्वरों के कुल, जाति 255 1
स्वर ऋषभ का शास्त्रीय परिचय 199 0
स्वर गान्धार का शास्त्रीय परिचय 210 0
स्वर मध्यम का शास्त्रीय परिचय 186 0
स्वर पञ्चम का शास्त्रीय परिचय 176 0
स्वर धैवत का शास्त्रीय परिचय 183 0
स्वर निषाद का शास्त्रीय परिचय 153 0
स्वर और उनसे सम्बद्ध श्रुतियां 214 0
सामवेद व गान्धर्ववेद में स्वर 187 0
शास्त्रीय नृत्य
Total views Views today
नाट्य शास्त्रानुसार नृतः, नृत्य, और नाट्य में तीन पक्ष हैं – 431 1
भरत नाट्यम - तमिलनाडु 299 0
राग भीमपलास और भीमपलास पर आधारित गीत 144 0
माइक्रोफोन का कार्य 356 0
भारतीय नृत्य कला 1,048 0
हिंदुस्तानी संगीत के घराने
Total views Views today
गुरु-शिष्य परम्परा 945 0
संगीत घराने और उनकी विशेषताएं 3,501 0
भारत में संगीत शिक्षण 1,239 0
कैराना का किराना घराने से नाता 341 0
सिलेबस
Total views Views today
सिलेबस : प्रारंभिक महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 351 0
सिलेबस : मध्यमा महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 249 0
सिलेबस : सांगीत विनीत (मध्यमा पूर्व) महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 202 0
सिलेबस : उप विशारद महागुजरात गन्धर्व संगीत समिति 277 0