लिगामेंट्स

शरीररचना विज्ञान (anatomy) में स्नायु या लिगामेन्ट (ligament) तीन भिन्न प्रकार की संरचनाओं के लिये प्रयोग किया जाता है-
(१) तंतुमय उत्तक जो एक हड्डी को दूसरी से जोड़ते हैं (Articular ligaments),
(२) पेरिटोनियम् या अन्य झिल्लियों के मोड़ (fold) को (Peritoneal ligaments),
(३) भ्रूणीय अवस्था की अवशेष नलिकाकार संरचनाएँ (Fetal remnant ligaments)
इनमें से सर्वाधिक प्रथम अर्थ में ही 'स्नायु' का प्रयोग किया जाता है। स्नायु (Ligaments) तंतुमय ऊतक के समांतर सूत्रों के लबें पट्ट होते हैं। इनसे दो अस्थियों के दोनों सिरे जुड़ते हैं। इनके भी दोनों सिरे दो अस्थियों के अविस्तारी भागों पर लगे रहते हैं। ये स्नायु कोशिका के बाहर स्थित रहती है और कुछ भीतर। भीतरी स्नायु की संख्या कम होती है।

घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज

घुटने की लिगामेंट में चोट का कारगर इलाज

लिगामेंट्स से संबंधित चोटों के बारे में जानने से पहले यह जानना जरूरी है कि लिगामेंट्स क्या हैं और ये कैसे जोड़ों (ज्वाइंट्स) को सुचारु रूप से संचालित करते हैं?

आप भी अपने लेख फिज़िका माइंड वेबसाइट पर प्रकाशित कर सकते है|

आप अपने लेख WhatsApp No 7454046894 पर भेज सकते है जो की पूरी तरह से निःशुल्क है | आप 1000 रु (वार्षिक )शुल्क जमा करके भी वेबसाइट के साधारण सदस्य बन सकते है और अपने लेख खुद ही प्रकाशित कर सकते है | शुल्क जमा करने के लिए भी WhatsApp No पर संपर्क करे. या हमें फ़ोन काल करें 7454046894