आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं : अवसर को तलाशें

आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं

आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं और आपको इसमें सभी संभावनाएँ भी नजर आ रही हैं।  लेकिन अब मात्र उत्‍तेजित होने का नहीं, बल्कि यह निश्चित करने का समय है कि आपके करोबार आरंभ करने के विचार व्‍यवहार्य हैं।

ऐसी  स्थिति में विस्तृत विपणन अनुसंधान अत्यन्त आवश्यक होता है।   विपणन अनुसंधान से आपको यह निश्चित करने में मदद मिलती है कि क्या आपके उत्पाद और सेवाओं की  व्यापक मांग होगी ?  

इसके लिए, बेहतर होगा कि आप इंटरनेट पर जाएँ और निम्नलिखित के बारे में जितना संभव हो सके उतनी जानकारी एकत्रित करें।

  • उद्योग  - उद्योग के  आकार, विस्तार और भविष्य की जानकारी के साथ-साथ  वर्तमान रूख की जानकारी भी प्राप्त करें।  
  • प्रतिस्पर्द्धा - प्रतिस्पर्द्धा के संबंध में  प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष सभी पहलुओं का अध्यय  करें  ।
  •   ग्राहक, प्रभावकारी(इनफल्यूंसर) और  उपभोक्ता -   यह समझने का प्रयत्न करें कि उत्पाद/सेवाओं के क्रेता,  प्रभावकारी (इनफल्यूंसर) और अंतिम उपभोक्ता चाहते क्या  हैं?   इस संबंध में सामाजिक मीडिया अत्यन्त उपयोगी हो सकता है।  पता लगाएँ कि कौन-सी ऐसी जरूरतें हैं, जो अभी तक पूरी नहीं हुई हैं और किनमें सुधार की गुंजाइश है।  आपके लिये यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि आप अपने प्रतिस्पर्द्धी उत्पादों के मौजूदा क्रेताओं/उपयोगकर्ताओं से मिलें एचठर उनको समझें। ये जानने का प्रयत्न करें कि वे किसी चीज के बारे में अप्रसन्न तो नहीं हैं। यदि हैं, तो वे किस में सुधार करने की आवश्यकता है।

विपणन अनुसंधान करना

प्राथमिक विपणन अनुसंधान - प्राथमिक विपणन अनुसंधान के जरिए ग्राहकों एवं संभावित ग्राहकों से सबसे पहली जानकारी मिलती है। प्राथमिक विपणन अनुसंधान पर द्वितीयक विपणन अनुसंधान की तुलना में  अधिक व्यय होता है और समय भी ज्यादा लगता है,  इससे जो जानकारी मिलती है, वह अत्यन्त विशिष्ट और मूल्यवान होती है।

  • विपणन अनुसंधान सर्वेक्षण -   किसी भी उत्पाद अथवा सेवा की संभावित सफलता को आंकने के लिए फोन, मेल अथवा व्यक्तिगत मुलाकात के माध्यम से सर्वेक्षण किया जाता  है।  लघु व्यवसाय  विपणन अनुसंधान के लिए सर्वेक्षण उपायों का ही ज्यादा इस्तेमाल होता है।  
  • बाजार अनुसंधान केद्रित समूह - केद्रित समूह लोगों का एक ऐसा समूह होता है, जिसमें आमतौर पर 6-10 लोग होते हैं और जो किसी विशेष उत्पाद, सेवा और उनके संबंध में अनुभव की गई कठिनाइयों के साथ-साथ अन्य उत्पादों के विषय में चर्चा करने के लिए एक स्थान पर एकत्रित होते हैं।  केद्रित समूह संभाव्य ग्राहकों की पसंद, नापसंद और समस्याओं का पता लगाकर आपको उनके बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देने में मदद कर सकते हैं।
  • बाजार अनुसंधान व्यक्ति आधारित साक्षात्कार  - समूह साक्षात्कार (केद्रित समूह) की बजाय आप व्यक्ति आधारित साक्षात्कार  भी कर सकते हैं।  बाजार अनुसंधान साक्षात्कार से आपको अपने लक्ष्य बाजार के ग्राहकों से एक-एक करके मिलने का अवसर मिलता है।   समूह यथा केद्रित समूह साक्षात्कार की बजाय आप व्यक्ति आधारित साक्षात्कार भी कर सकते हैं।  व्यक्ति आधारित साक्षात्कार में अनुसंधानकर्ता लक्षित क्रेताओं से वही प्रश्न पूछते हैं, जो वे केद्रित समूह के क्रेताओं से पूछते हैं।  अनुसंधानकर्ता जिन व्यक्तियों से साक्षात्कार करते हैं, उनसे  किसी भी उत्पाद और सेवा के संबंध में उनकी पसंद, नापसंद, समस्या और राय के बारे में पूछते हैं।  व्यक्ति आधारित साक्षात्कार आप व्यक्तिरूप से मिलकर  अथवा फोन के डमाध्यम से भी कर सकते हैं।  केद्रित समूह  की तुलना में  व्यक्तिगत साक्षात्कार में यह असुविधा होती है कि साक्षात्कार देने वाले एक-दूसरे से विचार-संपर्क नहीं कर सकते हैं।  उदाहरण के तौर पर केद्रित समूह साक्षात्कार में जब कोई व्यक्ति अपनी बात कहता है, जो उसके जवाब में दूसरा कुछ ओर कहता है और अचानक हमें नए-नए आइडिये मिलने शुरु हो जाते हैं।  व्यक्तिगत साक्षात्कार में ऐसा संभव नहीं होता है।  फिर भी,  व्यक्तिगत साक्षात्कार से यह सुविधा होती है कि आप लक्षित क्रेताओं से  एक-एक करके बातचीत कर सकते हैं और उस व्यक्ति के बारे में अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और उनके विशिष्ट विचारों और राय के बारे में जान सकते हैं।

द्वितीयक बाजार अनुसंधान स्रोत

  • रिपोर्ट/अध्ययन (विश्वविद्यालय अध्ययन)
  • स्थानीय समाचार पत्र और व्यावसायिक पत्रिकाएँ -  बहुत-से स्थानीय समाचार-पत्रों एवं व्यवसाय संबंधी पत्रिकाओं में जनसांख्कीय आंकड़े  उपलब्ध  होते हैं।
  • पुस्तकालय - पुस्तकालय के संदर्भ अनुभाग में आपको वित्तीय आंकड़े और संख्कीय संबधी जानकारी मिलेंगी।  इस कार्य में आप अपने स्थानीय पुस्तकालयाध्यक्ष की मदद भी ले सकते हैं।  वांछित जानकारी ढूंढ़ने में वे सहर्ष आपकी मदद करेंगे। पुस्तकालय की संदर्भ सूची में आपको संयुक्त राष्ट्र के वाणिज्य विभाग और संयुक्त राष्ट्र जनगणना ब्यूरो द्वारा किए गए अध्ययनों की जानकारी मिल जाएगी।
  • सरकारी एजेंसियाँ -  आपका स्थानीय जनगणना ब्यूरों 'देश और नगरीय आंकड़ों संबंधी पुस्तक' प्रकाशित करता है, जिसमें स्थानीय जनसांख्कीय सूचना उपलब्ध रहती है।  बहुत-से राज्य और स्थानीय कार्यालय भी स्थानीय क्षेत्रों की जनसांख्कीय जानकारी उपलब्ध कराते हैं।  

  

  • बाज़ार अनुसंधान सांख्यिकी -  बहुत-सी ऐसी  बेवसाइट हैं, जो कि लघु व्यवसाय के बाज़ार अनुसंधान के आंकड़ें ऑनलाइन  उपलब्ध कराती हैं।  जनसांख्कीय आंकड़े प्राप्त होने से आपको अपने शहर के लोगों की पसंद के बारे में जानने में सुविधा होती है।
  • व्यापार संघ -  किसी भी उद्योग का एक व्यापार संघ होता है।  इससे जुड़ने के लिए यद्यपि आमतौर पर शुल्क देना होता है, किन्तु इससे आपको उद्योग के अन्य व्यावसायिकों से जुड़ने का अवसर मिलता है।  आप उनके द्वारा किए गए बाजार अनुसंधानों  की जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं।
  • व्यवसाय के दौरान बाज़ार अनुसंधान -  मत सोचिए कि आपने अपना लघु  व्यवसाय आरंभ कर लिया है, तो उसके बाद आपको बाजार अनुसंधान करने की आवश्यकता नहीं होगी। आपके लघु व्यवसाय को बाजार में हो रहे परिवर्तनों के अनुरूप चलना होगा।  बाजार अनुसंधान की कुछेक तकनीकें नीचे दी जा रही हैं, जिनका प्रयोग आप अपने लघु व्यवसाय के दौरान कर सकते हैं।
  • बिक्री की रिपोर्ट रखें - पता लगाएं कि कौन-सा उत्पाद ज्यादा मात्रा में बिक रहा है और किसकी कम बिक्री हो रही है।  कुछेक उत्पाद किन्हीं विशेष महीनों में ज्यादा बिक सकते हैं।  इन्वेंटरी सेविंग सिस्टम से आपको बाजार का माहौल जानने में मदद मिल सकती है।
  • प्रतिस्पर्द्धा - अपने प्रतिस्पर्द्धियों पर ध्यान दें।  पता लगाएँ कि आपके प्रतिस्पर्द्धी क्या-क्या परिवर्तन करने जा रहे हैं? क्या उन्होंने हाल ही के महीनों अथवा वर्षों में कुछ परिवर्तन किए हैं?  क्या उन्होंने अपने उत्पादों को बदला है? क्या उन्होंने नई सेवाएँ आरंभ  की हैं? बाजार की बदलती आवश्यकताओं के परिणामस्वरूप आपके प्रतिस्पर्द्धी भी जरूर परिवर्तन कर रहे होंगे।
  • ग्राहक सर्वेक्षण -  ग्राहकों की पसंद-नापसंद का पता लगाने के लिए ग्राहक सर्वेक्षण कराएँ और देखें कि आप अपने व्यवसाय का विस्तार किस तरह  कर सकते हैं।  यह सुनिश्चित करें कि ग्राहकों को सर्वेक्षण फार्म भरने के लिए बाध्य न किया जाए, बल्कि उन्हें  इस बात से अवगत कराया जाए कि इस फार्म को भरना उनके लिए आवश्यक नहीं है।  आप ग्राहक सुझाव पेटी भी रख सकते हैं, जिसमें ग्राहक अपने सुझाव डाल सकता है।  आप यह पता लगा सकते हैं कि आपका ग्राहक कहाँ का रहने वाला है।  आप उनसे जिप कोड पूछ कर भी इसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन जिप कोड उनसे तब ही पूछा जाए, जब वे भुगतान करने वाले हों।  आप यह जान सकते हैं कि आपके अधिकतर ग्राहक एक विशेष क्षेत्र से आते हैं।

बाजार अनुसंधान खर्चीला हो सकता है और इसमें अधिक समय भी लग सकता है,  किन्तु यह आपके द्वारा अपनाए गए तरीकों पर निर्भर करता है। तथापि, इसके जरिये आपको जो जानकारी मिलती है, वह आपके कारोबार के लिए अत्यन्त उपयोगी हो सकती है। बाजार अनुसंधान के लिए आप किसी बाजार अनुसंधान फर्म की सेवाएँ ले सकते हैं अथवा इसे खुद  भी कर सकते हैं।