क्लाउड होस्टिंग क्या होता है

क्लाउड होस्टिंग

आज के समय में किसी को भी किसी को भी स्लो स्पीड वेबसाइट पसंद नहीं है हॉस्टल की जो पुरानी कटनी थी अब उसमें क्लाउड होस्टिंग का नया कंसेप्ट जोड़ा गया है क्लाउड फास्टिंग में जब हम किसी वेबसाइट को खोलते हैं तो वेबसाइट का डाटा मेन सर्वर से ना आकर क्लाउड सर्वर से आता है जो कि मेन सरवर के पैनल में पूरी दुनिया भर में सैकड़ों क्लाउड स्वर होते हैं और हर एक सरवर जो है आपकी वेबसाइट को कस्टमर तक पहुंचाता है तो इस प्रकार से मेन सर्वर पर पड़ने वाला लोड सैकड़ों-हजारों क्लाउड सर्वर पर बराबर से बढ़ जाता है और एक जगह ट्रैफिक बढ़ने से दूसरे जगह की वेबसाइटों की स्पीड पर कोई फर्क नहीं पड़ता है वर्तमान समय में क्लाउड होस्टिंग प्रदान करने वाली कई कंपनियां है जिसमें Google और Amazon प्रमुख हैं सामान्य होस्टिंग से क्लाउड होस्टिंग थोड़ा महंगा होता है पोस्टिंग स्पीड सामान्य होस्टिंग की स्पीड से एक और जहां ज्यादा होती है वहीं पर ओवरलोडिंग के केस में जिस क्षेत्र में वेबसाइट पर लोडिंग हो रही है उसका असर दुनिया की दूसरी स्थानों पर कोई वेबसाइट खोल रहा है तो वहां पर नहीं पड़ता है अगर हम अपने बिजनेस को पूरी दुनिया में फैलाना चाहते हैं और एक बहुत बड़ी वेबसाइट बनाना चाहते हैं यह जरूरी है हम साथ-साथ की सेवा भी उपयोग में लाते हैं ऐसी अवस्था में खर्च हो जाता है क्योंकि सामान्य होस्टिंग और दोनों मिलकर काम करते हैं और परफॉर्मेंस में भी कोई कमी नहीं आती है अभी हमारे विवेक पर निर्भर करता है कि हम कर लेते हैं पारंपरिक पारंपरिक ऑस्टिन सरवर लेते हैं या क्लाउड होस्टिंग सरवर लेते हैं