व्यापार

डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाणपत्र (डीएससी) लेना और पंजीकृत करना

डिजिटल हस्ताक्षर

तत्पश्चात् हर निदेशक का डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाणपत्र (डीएससी) प्राप्त करके पंजीकरण कराएँ। इलेक्ट्रॉनिक रूप में प्रस्तुत किए गए दस्तावेजों के लिए डिजिटल हस्ताक्षरों की जरूरत पड़ती है, ताकि दस्तावेजों की सुरक्षा और प्रामाणिकता सुनिश्चित की जा सके। निदेशक के डीएससी हेतु आवेदन पर कंपनी के प्रवर्तक(कों) के हस्ताक्षर होने चाहिए।

कार्रवाई समयः जमा किए जाने के बाद 5 से 7 कार्य-दिवस

व्यवसाय आरंभ करने का विचार

व्यवसाय आरंभ

हममें से अधिकांश ने-कभी न कभी- अपना व्यवसाय आरंभ करने का सपना देखा हॆ। ऒर हममें से कुछ ने यह भी सोचा होगा कि क्या उद्यमिता उनके लिये उपयुक्त रहेगी। स्मालबी.इन आपके विचारों तथा योजनाओं को एक अर्थक्षम व्यवसाय में परिवर्तित करने की ओर चरणबद्ध रूप से ले चलेगा। 

आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं : अवसर को तलाशें

आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं

आप नया करोबार आरंभ करने पर विचार कर रहे हैं और आपको इसमें सभी संभावनाएँ भी नजर आ रही हैं।  लेकिन अब मात्र उत्‍तेजित होने का नहीं, बल्कि यह निश्चित करने का समय है कि आपके करोबार आरंभ करने के विचार व्‍यवहार्य हैं।

ऐसी  स्थिति में विस्तृत विपणन अनुसंधान अत्यन्त आवश्यक होता है।   विपणन अनुसंधान से आपको यह निश्चित करने में मदद मिलती है कि क्या आपके उत्पाद और सेवाओं की  व्यापक मांग होगी ?  

इसके लिए, बेहतर होगा कि आप इंटरनेट पर जाएँ और निम्नलिखित के बारे में जितना संभव हो सके उतनी जानकारी एकत्रित करें।

व्यवसाय योजना बनाना

व्यवसाय

व्यवसाय योजना व्यवसाय लक्ष्यों, उन्हें प्राप्त करने की तर्कसंगतता तथा उन्हें प्राप्त करने हेतु योजना की ऒपचारिक विवरणी होती हॆ।

इसमें दी गयी सूचना बाहरी स्टेकहोल्डरों – उदाहराणार्थ बॆंक (यदि आप उनसे ऋण लेना चाहते हॆं), वेंचर कॆपिटल फ़र्म,, प्राइवेट इक्विटी फ़र्म तथ अन्य जिनसे आप निवेश अथवा ऋण प्राप्त करना चाहते हॆं।

व्यवसाय योजना की विषयवस्तु

अपने व्यवसाय को कॉर्पोरेट दर्जा दिलाएँ

भारत में एक नए व्यवसाय शामिल करने के लिए आवश्यक कदम

1. अपनी व्यावसायिक इकाई का नाम
2.ईफाइलिंग के लिए यूजर का पंजीकरण
3. DIN के लिए आवेदन
4. डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाणपत्र (डीएससी) लेना और पंजीकृत करना
5. एमसीए वेबसाइट पर डीएससी रजिस्टर
6. कंपनी के नाम का अनुमोदन
7. संस्था के बहिर्नियम बनाएं
8. संस्था के अंतर्नियम तैयार करना (AoA)
9. संस्था के अंतर्नियम का सत्यापन, स्टाम्पन और हस्ताक्षर
10. कंपनी के निगमन के लिए अपेक्षित फॉर्म
11. पब्लिक लिमिटेड कंपनी का निगमन (अतिरिक्त कदम)​

फ्रेंचाईजियों के अवसरों पर विचार

फ्रेंचाईजियों के अवसरों पर विचार

                यह एक और  कारण है कि क्यों  कई लोग फ्रेंचाईजी करार करना चाहते हैं। इससे आपके व्यीवसाय के विकास और परिचालन में सहायता मिलेगी । दूसरे शब्दों  में, वे आपको सिखाऍंगे कि कैसे व्या पार मॉडल कार्य करता है और इसे लाभ में कैसे बदला जाता है । वे आपको प्रभावी रूप में व्यागपार करने से संबंधित मेनुअल और अन्यं संदर्भ सामग्री प्रदान करेंगे । पहली बार उद्यमी के रूप में उभर कर सामने आने पर यह आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है और आपके पास बहुत कुछ सीखने के अवसर होंगे । उदाहरण स्वसरूप : कर्मचारियों की सेवाऍं प्राप्त करने, उनके कार्य निष्पा दन की निगरानी, परिचालनों के प्रभावी रख रखाव के संबंध में वे आपका मार्ग दर्शन करेंगे ।

DIN के लिए आवेदन

कंपनी के सभी वर्तमान और संभावित निदेशकों को अधिसूचित समय-सीमा के भीतर डायरेक्टर आइडेंटिफिकेशन नंबर (डिन) लेना होता है। डिन पाने के लिए ई फॉर्म डिन-1 जमा किया जा सकता है। आवेदन पर प्रवर्तकों के प्रतिहस्ताक्षर होने चाहिए।. 

कार्रवाई समयः जमा किए जाने के बाद 5 से 7 कार्य-दिवस

इस बारे में और अधिक जानकारी पाने के लिए क्लिक करें Director Identification Number

 

सही व्यवसाय का चयन

प्रतियोगिता का स्तरर

बड़ी संख्या वाले प्रतियोगियों के साथ बाजार का चयन आपके व्यावसाय के लिए हानिकारक हो सकता है । बड़ी संख्या  में प्रतियोगियों का मतलब है कि जहॉं मुनाफा पहले से ही कम हो, यह व्य वसाय के प्रारम्भह में ही आप के लिए सही साबित नहीं हो सकता । ज्या दातर मामलों में बड़े पैमाने पर मितव्यीयता वाली फर्में ही मूल्यय प्रतियोगिता का मुकाबला कर सकती है । आप एक छोटे बाजार या नए उभरते हुए बाजात में बेहतर सेवाएँ / परिणाम दे सकते हैं और तत्प श्चाबत अपना व्यावसाय आगे बढ़ा करते हैं ।

लाभप्रदत्ता

उद्यमिता क्यों ?

उद्यमिता

अपने विचारों का कार्यान्वयन

एक प्रमुख लाभ यह है कि आपको अपने खुद के विचारों तथा अंतर्दृष्टि को आगे बढ़ाने की आजादी हासिल होती है। आप अपना समय और ऊर्जा अपने विचारों को विकसित करने तथा उन्हें एक सफल व्यवसाय मॉडल में तब्दील करने में लगाते हैं।

संस्था के अंतर्नियम का सत्यापन, स्टाम्पन और हस्ताक्षर

संस्था के बहिर्नियम

पंजीकरण के लिए जमा करने से पहले संस्था के अंतर्नियम की ध्यान से और बारीकी से जाँच (वेटिंग) कर लेने में समझदारी है, क्योंकि उसमें कारोबार का इरादा और उसकी सीमा परिभाषित रहती है।

संस्था के बहिर्नियम और अंतर्नियम में कारोबार की भावी संभावनाओं का उल्लेख होना चाहिए, ताकि बाद में संशोधन करने से बचा जा सके।

वेटिंग प्रक्रिया के लिए कंपनियों के रजिस्ट्रार से सलाह ली जा सकती है।

कंपनियों के रजिस्ट्रार से सत्यापन के बाद संस्था के बहिर्नियम और अंतर्नियम को छपवा लें।

 

संस्था के बहिर्नियम और संस्था के अंतर्नियम की स्टांपिंग

Pages