व्यापार

क्लाउड होस्टिंग क्या होता है

क्लाउड होस्टिंग

आज के समय में किसी को भी किसी को भी स्लो स्पीड वेबसाइट पसंद नहीं है हॉस्टल की जो पुरानी कटनी थी अब उसमें क्लाउड होस्टिंग का नया कंसेप्ट जोड़ा गया है क्लाउड फास्टिंग में जब हम किसी वेबसाइट को खोलते हैं तो वेबसाइट का डाटा मेन सर्वर से ना आकर क्लाउड सर्वर से आता है जो कि मेन सरवर के पैनल में पूरी दुनिया भर में सैकड़ों क्लाउड स्वर होते हैं और हर एक सरवर जो है आपकी वेबसाइट को कस्टमर तक पहुंचाता है तो इस प्रकार से मेन सर्वर पर पड़ने वाला लोड सैकड़ों-हजारों क्लाउड सर्वर पर बराबर से बढ़ जाता है और एक जगह ट्रैफिक बढ़ने से दूसरे जगह की वेबसाइटों की स्पीड पर कोई फर्क नहीं पड़ता है वर्तमान समय में क्ला

वेबसाइट सुरक्षा अपनी साइट

वेबसाइट सुरक्षा अपनी साइट

वेबसाइट सुरक्षा अपनी साइट अपनी साइट और अपने विजिटर को मालवीय मुक्त और सुरक्षित रखने के लिए यह जरूरी है कि हम अपने सरवर पर माल विवर रिमूवर और प्रोटेक्शन की सुरक्षा प्रदान करें ऐसी अवस्था में हमारी वेबसाइट पर वायरस नहीं आता है और हमारे विजिटर भी हमारी वेबसाइट को चलाते हुए सुरक्षित अनुभव करते हैं| वेबसाइट सुरक्षा में बहुत सारे बिंदु होते हैं जैसे मालवीय हैकिंग ब्लैक लिस्ट इन इत्यादि आज के समय में वेबसाइट का हैक हो जाना या उसमें मालवीय का आ जाना बहुत ही साधारण घटना है जिस प्रकार हम अपने कंप्यूटर पर एंटीवायरस की सुरक्षा हमेशा सुनिश्चित करते हैं ठीक उसी प्रकार से अपने सरवर पर मालवीय ना आ जाए इसकी

वेबसाइट बनवाने में कितने पैसे लगते हैं

वेबसाइट बनवाने

अगर आप अपनी बेवसाइट बनाना चाहते हैं तो आपको वेब डिवेलपमेंट के बारे में थोड़ी-बहुत जानकारी होनी चाहिए। अपनी वेबसाइट बनाने से जुड़ी तमाम बातों को विस्तार से समझाने के लिए हम आपके लिए लाए हैं एक खास सीरीज। इस सीरीज के पहले भाग में वेबसाइट से जुड़ी बुनियादी जानकारी दे रहे हैं 

एक डॉक्टर के लिए वेबसाइट क्यों जरूरी है

अगर आप एक अच्छे डॉक्टर हैं और आप चाहते हैं कि आपकी सेवा का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे तो इसके लिए जो पुराने तरीके थे कि अखबारों में विज्ञापन देना वह अब आउटडेटेड हो चुका है आज के समय में हर व्यक्ति किसी भी बीमारी का इलाज के लिए अच्छे डॉक्टर को वेबसाइट के माध्यम से तलाशता है Google के माध्यम से तलाशता है अगर आपके पास एक अच्छी वेबसाइट है तो आप Google पर आएंगे अगर आप किसी विषय के स्पेशलिस्ट हैं तो Google पर आना और भी आसान होता है क्योंकि उस विषय के स्पेशलिस्ट उस क्षेत्र में बहुत ही थोड़ी लोग होंगे

एनजीओ के लिए वेबसाइट क्यों जरूरी है

NGO एक सामाजिक संस्था होता है | एक NGO को अपनी बात को सही तरीके से प्रस्तुत करने के लिए एक वेबसाइट का होना जरूरी होता है | वेबसाइट के माध्यम से हम एनजीओ के उद्देश्य मिशन और किए जाने वाले कार्यों की विवरण दे सकते हैं |

टीम मेंबर

टीम मेंबर एक ngo की वेबसाइट में टीम मेंबर का ऑप्शन होता है जिसके माध्यम से हमारे एनजीओ के जो सदस्य हैं जो पदाधिकारी हैं उनका विवरण फोटो सहित दे सकते हैं और विन विन कार्यरत कार्यकर्ताओं के संपर्क सूत्र भी वेबसाइट के माध्यम से दे सकते हैं

हमारे द्वारा बनाई गई वेबसाइट की खास बात

सबसे अच्छी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज

सबसे अच्छी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हम लोग वेबसाइट को बनाने में जिस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का उपयोग करते हैं वह दुनिया की सबसे अच्छी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है इस लैंग्वेज की खास बात यह है किसके माध्यम से जो वेबसाइट बनाई जाती है वह गूगल के पहले पेज पर स्थान रखती है

ब्यूटी पार्लर किस प्रकार खोलें

आज सब लोग सुन्दर दिखना चाहते है और क्यों न चाहें | सुन्दर दिखना हमेशा से लोगों की चाहत रही है | पहले अक्सर लोग घर ही वे प्रयास करती थी जिससे वे सुन्दर दिख सकें, लेकिन इन दिनों लोगो की खर्च करने की क्षमता बढ़ गयी है इसलिए लोग बाहर जाकर किसी एक्सपर्ट से अपनी ख़ूबसूरती बढ़ाना पसंद करती हैं | जोकि, अच्छी बात है क्योकि जो काम एक्सपर्ट कर सकती है, वह घर करना आसान नहीं होता है |

पेटेन्ट कैसे कराया जाता है |

किन परिस्थितियों में पेटेंट कार्यालय की पूर्व अनुमति लेना आवश्यक है?

व्यक्ति को निम्नलिखित परिस्थितियों में पेटेन्ट कार्यालय से पूर्व अनुमति लेना अपेक्षित हैः

क)आवेदन अनिवासी भारतीय हो और आविष्कार भारत में हुआ हो,

ख) आवेदक विदेश में पेटेंट-आवेदन जमा करने से पहले भारत में आवेदन करना नहीं चाहता हो,

ग) यदि आवेदक भारतीय नागरिक हो तो पेटेन्ट का आवेदन भारत में जमा कर दिया गया हो और उस तारीख से छह महीने का समय अभी व्यतीत न हुआ हो, तथा

घ) आविष्कार परमाणु ऊर्जा से अथवा रक्षा उद्देश्य से संबंधित हो।

Pages