शीर्षासन के नुकसान

सिर के बल उल्टा हो जाने को शीर्षासन कहा जाता है।

शीर्षासन समय, शीर्षासन कितनी देर करना चाहिए, शीर्षासन करने का समय, शीर्षासन के नुकसान, शीर्षासन के चमत्कार, ‪शिर्षासनाचे फायदे, शीर्षासन कितनी देर करें, शीर्षासन के फायदे और नुकसान

सिर के बल उल्टा हो जाने को शीर्षासन कहा जाता है। इसमें सिर या हाथों के बल अलग-अलग कोणों में शरीर को उल्टा किया जा सकता है। पूरे शरीर का संतुलन सिर या हाथों पर टिका होता है। योग शास्त्र में इसके कई फायदे बताए हैं।

लाभ 

ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है, मस्तिष्क में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ने से दिमाग सक्रिय होता है, ग्रंथियों की कार्य प्रणाली दुरूस्त होती है, पेट में स्थित अंगों जैसे आमाशय, लिवर, किडनी आदि एक्टिव होते हैं और पाचन तंत्र ठीक रहता है। ईसा पूर्व विख्यात ग्रीक फिजिशियन हिप्पोक्रेट्स भी रोगी को रस्सियों और पुली की सहायता से सीढियों पर उल्टा लटकाते थे। Read More : सिर के बल उल्टा हो जाने को शीर्षासन कहा जाता है। about सिर के बल उल्टा हो जाने को शीर्षासन कहा जाता है।